Powered by

Latest Stories

Home Category ग्राउंड रिपोर्ट हिंदी

ग्राउंड रिपोर्ट हिंदी

पुराने पेड़ों को काट कर 51 लाख पौधे लगाएगा इंदौर, अमित शाह लेंगे भाग

By Chandrapratap Tiwari

बीते दिनों इंदौर में सीएम राइज स्कूल, और स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स के निर्माण के लिए मल्हार आश्रम के कई पेड़ों को प्रशाशन द्वारा काट डाला गया है। इनमें से कई 40 से 80 साल पुराने पेंड़ भी थे, और कटे हुए पेड़ों की संख्या 100 के तकरीबन की बताई जा रही है।

भोपाल में कल्याणनगर के रहवासी 8 साल से कर रहे हैं नाला बनने का इंतज़ार

By Shishir Agrawal

गर्मी से तप रहे भोपाल के लिए यह मानसून राहत देने वाला होगा. मगर 26 वर्षीय विजय के लिए मानसून ऐसा नहीं है. वह जानते हैं कि मानसून आते ही उनका काम कई दिनों तक ठप्प रहेगा. गन्दा पानी न  सिर्फ़ घर में घुसेगा बल्कि पीने का साफ़ पानी मिलना भी मुश्किल हो जाएगा.

बारिश में चीतों को इंफेक्शन से बचाने के लिए कूनों तैयार

By Chandrapratap Tiwari

मध्यप्रदेश का वन विभाग जानवरों के लिए सुरक्षात्मक कदम उठा रहा है। बीते दिनों मध्यप्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में चीतों को एंटी डॉट लगाए जा रहे हैं। यह कदम बारिश के बाद होने वाले इंफेक्शन से चीतों को बचाने के लिए उठाया जा रहा है।

भोपाल में 'एकलव्य फाउंडेशन' का पर्यावरण अनुकूल भवन क्यों है खास?

By Shishir Agrawal

भोपाल की स्वयंसेवी संस्था 'एकलव्य फाउंडेशन' का भवन पर्यावरण अनुकूल बनाया गया है. यह भवन बढ़ती गर्मी से निजात दिलाने के लिए नवीन भवन निर्माण तकनीक की मिसाल पेश करता है.

क्या भोपाल का प्रशासनिक अमला 29 हज़ार वृक्षों का स्थानांतरण कर पाएगा?

By Shishir Agrawal

मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि 29 हज़ार पेड़ काटे नहीं बल्कि स्थानांतरित किए जाएँगे. मगर सवाल यह है कि क्या वाकई भोपाल नगर निगम या फिर वन अमला इतना सक्षम है कि इतनी बड़ी संख्या में पेड़ स्थानांतरित किए जा सकें?

जल गंगा संवर्धन अभियान: समसगढ़ की बावड़ियों की कब सुध लेगा प्रशासन?

By Shishir Agrawal

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जलाशयों की मरम्मत के लिए 'जल गंगा संवर्धन अभियान' शुरू किया गया है. मगर राजधानी से थोड़ी ही दूर पर स्थित प्राचीन बावड़ियाँ अब भी बेहाल हैं.

ज़मीन पर टीबी उन्मूलन में जुटी ASHA कार्यकर्ताओं की परेशानियों से आंख मूंदता सिस्टम

By Shishir Agrawal

भारत के 2025 तक टीबी मुक्त होने के लक्ष्य में आशा कार्यकर्त्ता महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं. वह मरीज़ और सरकारी अस्पताल के बीच की दूरी को कम करने का काम कर रही हैं.

Bhopal Tree Cutting: माननीयों के आवास के लिए कटेंगे 29 हज़ार पेड़

By Shishir Agrawal

भोपाल में सरकारी बंगलों को बनाने के लिए लगभग 29 हज़ार पेड़ों को काटा जाना है. इससे पहले भी भोपाल में स्मार्ट सिटी और मेट्रो के लिए भारी मात्र में पेड़ काटे गए हैं. इसका सीधा असर शहर के तापमान पर हुआ है.

सीहोर के चंदेरी गांव का जल संकट "जहां पानी नहीं वहां रहकर क्या करेंगे?"

By Pallav Jain and Rajeev Tyagi

पुरानी चंदेरी गांव में कई घरों की दीवारों पर लिखा मिलता है "हर घर नल से जल लाना है गांव को खुशहाल बनाना है।" लेकिन ग्रामीणों को नहीं पता कि दीवारों पर लिखा यह नारा हकीकत में कब बदलेगा। सीहोर के चंदेरी गांव से ग्राउंड रिपोर्ट

दुर्लभ देसी पौधों की प्रजातियों को बचा रहे पुणे के यह युवा

By Chandrapratap Tiwari

पुणे (Pune) के भोलेश्वर और सुहास दोनों मल्टीपल शिफ्ट्स करने के बाद भी पौधे लगाते हैं। भोलेश्वर कई विलुप्त हो रहे स्थानीय पौधों की नर्सरी तैयार करते हैं और उन्हें महाराष्ट्र और देश के अलग अलग कोनों तक पहुंचाते हैं