Powered by

Advertisment
Home हिंदी

Pune: पिंपरी चिंचवाड़ के पर्यावरण-अनुकूल कार्यों को मिली राष्ट्रीय पहचान

पर्यावरण को लेकर पुणे (Pune) की पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम (PCMC) ने एक नई उपलब्धि हासिल की है। दरअसल ग्रीन सस्टेनेबल डेवलपमेंट को लेकर इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (IGBC) ने  पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम को, प्लैटिनम ग्रीन सिटी के रूप में सम्मानित किया है। 

By Ground report
New Update
pcmc

Image Source: freepost4u.blogspot.com

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

पर्यावरण को लेकर पुणे (Pune) की पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम (PCMC) ने एक नई उपलब्धि हासिल की है। दरअसल ग्रीन सस्टेनेबल डेवलपमेंट को लेकर इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (IGBC) ने  पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम को, प्लैटिनम ग्रीन सिटी के रूप में सम्मानित किया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शुक्रवार को पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम में शहरी विकास मंत्रालय के प्रधान सचिव असीम गुप्ता ने पीसीएमसी कमिश्नर शेखर सिंह को सम्मानित किया। यह कार्यक्रम पुणे नगर रोड पर स्थित हयात होटल में "अभिनंदन 2024" नाम से आयोजित हुआ था। इस कार्यक्रम के दौरान पीसीएमसी को सम्मान और पुरस्कार प्रदान किए गए।

इस कार्यक्रम में मौजूद नागरिक प्रशासन के अधिकारियों ने कहा कि पिंपरी चिंचवड़ को अपने प्रतिष्ठित ग्रीन सिटी रेटिंग सिस्टम के तहत आईजीबीसी द्वारा महाराष्ट्र के दूसरे सबसे हरित शहर के रूप में गर्व से मान्यता दी गई है। साथ ही सीआईआई आईजीबीसी द्वारा आईजीबीसी ग्रीन सिटीज 'प्लैटिनम' पट्टिका से भी सम्मानित किया गया है।

आईजीबीसी प्लैटिनम रेटिंग सीआईआई के आईजीबीसी द्वारा प्रदान की जाती है, जो 'पिछले दो दशकों में हरित बुनियादी ढांचे के कार्यान्वयन के लिए ग्रीन मास्टर प्लानिंग, रणनीतिक पहल और विभिन्न हस्तक्षेपों के मूल्यांकन' पर आधारित है।

इस कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र के दौरान ग्रीन सिटी पर सेमिनार में बोलते हुए प्रधान सचिव असीम गुप्ता ने कहा, “एक आयुक्त के रूप में, मैंने पहले पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम में काम किया है। कमिश्नर शेखर सिंह पर्यावरण-अनुकूल शहर के लिए उत्कृष्ट कार्य कर रहे हैं और इस आदर्श शहर की एक अलग पहचान बना रहे हैं।''

पीसीएमसी आयुक्त शेखर सिंह ने कहा, “ग्रीन सिटी  के रूप में पिंपरी चिंचवाड़ की मान्यता हम सभी के लिए गर्व का क्षण है। हमारा प्रयास टिकाऊ प्रथाओं को बढ़ावा देना, कार्बन फूटप्रिंट्स को कम करना और हरित आवरण को बढ़ाना है। जल संसाधनों को बहाल करके हम स्वच्छ, हरित और स्वस्थ शहर की ओर बढ़ रहे हैं। यह पुरस्कार अन्य शहरों को नेट-जीरो एम्मिशन की दिशा में हमारी सामूहिक यात्रा का अनुसरण करने के लिए प्रेरित करेगा।”

यह भी पढ़ें

पर्यावरण से जुड़ी खबरों के लिए आप ग्राउंड रिपोर्ट को फेसबुकट्विटरइंस्टाग्रामयूट्यूब और वॉट्सएप पर फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हमारा साप्ताहिक न्यूज़लेटर अपने ईमेल पर पाना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।