Lost Childhood in the Char Chaporis of Assam

char chapori Assam

Nidhi Tewari | Seven-year-old Amreen from the Char area in Barpeta, Assam, misses her best friend Amu who has migrated to Chandan Basti in Lucknow, Uttar Pradesh with her family. Amu doesn’t go to school and stays at home taking care of her household while everyone else in her family engages in door-to-door waste collection. … Read more

Disconnected Lives in far-flung mountain regions

Rural lives of Uttarakhand Bageshwar

Seeta Papola | Jhopara | Bageshwar, Uttarakhand | Uttarakhand welcomes thousands of tourists every year. Travelers from across the states make efforts to reach this hilly region nestled in the mighty Himalayan range. The natural beauty of this state often masks the challenges its inhabitants face in their daily life – what appears to be … Read more

अभिव्यक्ति: लड़कियों के साथ अत्याचार

Charkha Features save girl child cartoon

कविता, कक्षा – 11, लमचूला, गरुड़, बागेश्वर, उत्तराखंड | पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के बागेश्वर जिला स्थित गरुड़ ब्लॉक के लमचूला गांव में लड़का और लड़की के बीच भेदभाव जैसी संकुचित विचारधारा आज भी हावी है. यहां महिला के गर्भावस्था से लेकर प्रसव तक, उसे लड़के को जन्म देने के लिए मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जाता … Read more

ग्रामीण भारत की सशक्त किशोरियां

Empowered Adolescent Girls of Rural India

चेतना वर्मा | सीईओ, चरखा | उत्तर प्रदेश के अयोध्या जिले के एक दूरदराज के गांव में एक कमरे में बैठी किशोरियों के एक समूह ने मुझसे पूछा, “अपने बारे में हमें बताइए.” मैंने उनसे पूछा “आप क्या जानना चाहती हैं?” मैं उनसे अपनी उम्र या वैवाहिक जीवन के बारे में प्रश्न की उम्मीद कर रही थी … Read more

सामाजिक अन्याय और रूढ़िवादी सोच में दबा है पहाड़ी गांवों का भविष्य

The future of the hill village is suppressed by social injustices and conservative thinking

आदर्श पाल | एमए डेवलपमेंट स्टडीज़ | अज़ीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी | जिन समस्याओं को लेकर हम इतना आशवस्त हो चुके हैं कि उनके मुद्दे अब हमारे लिए ख़त्म हो गए हैं, उन समस्याओं ने ही उत्तराखंड के दूरस्थ पहाड़ी जिले बागेश्वर के गांवों में न जाने कितने सपनो और आकांक्षाओं को दबा रखा है. बागेश्वर, जो 1997 से पहले अल्मोड़ा जिले का हिस्सा हुआ … Read more

Rural Report: टूटी नहर से चिंतित हैं पुंछ के झूलास गांव के किसान

rural report poonch

हरीश कुमार | पुंछ, जम्मू | देश के ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां नहरों के उचित रखरखाव नहीं होने के कारण सूख चुकी हैं और उससे किसानों को कोई लाभ नहीं मिल रहा है. जम्मू संभाग के सीमावर्ती जिला पुंछ स्थित झूलास गांव भी इसका एक उदाहरण है. पुंछ मुख्यालय से लगभग 9 किमी की दूरी पर बसे इस … Read more

Rural Report: सेहतमंद गांव से स्वस्थ भारत मुमकिन है

Healthy India is possible from a healthy village

Narendra Singh Bisht from Nainital, Uttarakhand | भारत ने जहां 21वी सदी में प्रवेश किया है वहीं ऐसा लगता है कि पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के दूरस्थ ग्रामो ने स्वास्थ्य सुविधाओं के मामलें में इसके विपरित 12वी सदी में प्रवेश किया है. राज्य के दूरस्थ इलाकों का धरातलीय सच शर्मसार करता है. यहां के दूर दराज़ क्षेत्रों में ऐसे कई अस्पताल हैं जहां डॉक्टरों … Read more

उत्तराखंड : इंटरनेट के दौर में पीछे रह गया यह गांव

Rural Report

 Rural Report By Chandani from Lamchula village, Garur, उत्तराखंड | संचार क्रांति के इस दौर में आज जब भारत 5जी की टेस्टिंग के अंतिम चरण में पहुंच चुका है और अब 6जी की ओर कदम बढ़ा रहा है, हर तरफ नेटवर्क का जाल बिछा हुआ है, शहर ही नहीं गांव गांव तक ब्रॉडबैंड का कनेक्शन पहुंचाया जा रहा  है, टेक्नोलॉजी के ऐसे युग … Read more

कब साकार होगा आदर्श गांव का सपना?

Adarsh Gram Yojana Truth

Rural writer Sanjana from Kapkot, Uttarakhand | आदर्श ग्राम की संकल्पना महात्मा गांधी ने आजादी से पहले अपनी किताब “हिन्द स्वराज” में की थी. जिसमें उन्होंने आदर्श गांव की विशेषता बताई थी और उसे मूर्त रूप देने की कार्य योजना की भी चर्चा की थी. गांधी के सपनों का गांव आज तक बन तो नहीं सका लेकिन समय-समय … Read more

अंधविश्वास से जूझ रहा ग्रामीण क्षेत्र

Rural area battling superstition

कुमारी कविता | लमचूला, उत्तराखंड | 21वीं सदी के भारत को विज्ञान का युग कहा जाता है, जहां मंगलयान से लेकर कोरोना के वैक्सीन को कम समय में तैयार करने की क्षमता मौजूद है. लेकिन इसके बावजूद इसी देश में अंधविश्वास भी समानांतर रूप से गहराई से अपनी जड़ें जमाया हुआ है. देश के शहरी क्षेत्रों की … Read more