जंगल, पहाड़ और मैदान बर्बाद करने के बाद अब हम मरुस्थलों को भी उजाड़ने में लगे हैं

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, जैसलमेर, बाड़मेर और जोधपुर ज़िलों के गांवों में रेगिस्तान की विलुप्त हो रही जैव विविधता के अवषेष देखने को मिलते हैं। वास्तव में थार की वनस्पतियां और जीव-जंतु लुप्त होने की स्थिति में है।

इसका नकारात्मक प्रभाव यहां के पर्यावरण, समुदाय की आजीविका, कृषि, पशुपालन, खान-पान, स्वास्थ्य और पोषण पर पड़ रहा है। प्रकृति के साथ समन्वय से चलने वाला जीवन अब पूरी तरह से यांत्रिक हो गया है। लेकिन आधुनिकता के बाहुपाश में बंधा इन्सान इससे बाहर निकल कर सोचता नहीं है। कृषि के बदले तौर तरीकों, औद्योगीकरण, ढांचागत विकास, बाजारवाद के हस्तक्षेप से बदलती जीवनशैली के कारण जैव विविधता संकट में है।

सार्वजनिक संसाधनों का बेजा इस्तेमाल

पिछले चालीस-पचास वर्षों में प्राकृतिक संसाधनों का अतिदोहन, सार्वजनिक संसाधनों का बेजा इस्तेमाल और व्यक्तिगत विकास के लालच के कारण हुए प्रकृति के बिगाड़े का प्रभाव दिखने लगा है। रेगिस्तान का परिस्थितिक तंत्र विचलित हो रहा है तथा जीवन का परिवेश खंडित हो रहा है।

लेकिन अब कुदरत ने इसका बदला लेना प्रारंभ कर दिया है। पिछले दस-बारह वर्षों में बरसात और गर्मी का समय बदल गया है। वर्तमान में गर्मी एक महीने पहले आई तथा बेमौसम धूल भरी आंधियां उमड़ रही है। पेड़-पौधे समय से पहले फूल-फल निकाल रहे हैं।

खेजड़ी के पौधों पर सांगरी आनी बंद हो गयी है

सिंचित क्षेत्र में खेजड़ी के पौधों पर सांगरी आनी बंद हो गयी है। फसलें नष्ट हो रही है। मुआवजे से नुकसान की भरपाई हो सकती है, लेकिन प्रकृति की भरपाई नहीं होगी। कुदरत को पुनः संतुलन में लाने के लिए मानव समाज को ही सोचना होगा। जैव विविधता संरक्षण का मुद्दा जितना वैधानिक, राजनैतिक है, उससे कहीं अधिक सामाजिक है।

उन्नति विकास शिक्षा संगठन द्वारा यूरोपीय संघ के सहयोग से एक वर्ष की समयावधि में पश्चिमी राजस्थान के चार जिलों क्रमशः नागौर, जोधपुर, जैसलमेर, बीकानेर के गांवों में शामलात शोध यात्रा के माध्यम से किए गये सहभागी शोध कार्य में सार्वजनिक संसाधनों का महत्व, उपयोगिता, वर्तमान स्थिति, क्षेत्रीय जैव विविधता का संरक्षण, जलवायु परिवर्तन के लक्षण एवं प्रभाव पर भी प्रकाश डाला गया तथा समुदाय द्वारा महत्वपूर्ण जानकारी साझा की गयी।

आधुनिकता के गिरफ्त में

जानकारी से जो महत्वपूर्ण तथ्य सामने आए वह भावी जीवन के लिए बेहद डरावने हैं। प्रकृति के मिजाज के साथ समन्वय और पोषण की भावना से संचालित जीवन तेजी से आधुनिकता के गिरफ्त में आ चुका है। बजुर्ग प्रकृति को पोषित करने वाली परंपराओं को औपचारिक तौर पर मानते हैं, लेकिन युवाओं को यह मात्र ढकोसला लगता है।

READ:  भारत के लिए Net-Zero होना इतना मुश्किल क्यों है?

रेगिस्तान में जैव विविधता और जीवन पारंपरिक जल स्त्रोतों और ओरण, गौचर जैसे सामुदायिक संसाधनों की गोद में ही जैविकीय क्रियाओं को पूर्ण करने के लिए संरक्षित व सुरक्षित रहे हैं। सार्वजनिक संसाधनों का निजी लाभ के लिए उपयोग बढ़ रहा है। सहभागी शामलात शोध यात्रा के दौरान कुछ क्षेत्रों में विलुप्त होती कुछ स्थानीय वनस्पतियों व जीव-जंतुओं की प्रजातियों को भी देखा गया, जिनको संरक्षण नहीं मिला, तो आने वाले समय में इनका अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।

श्रीडूंगरगढ़ व कुछ गांवों में चील, गगू (इजिप्टियन वल्चर), गिद्ध (यूरेषियन ग्रिफोन वल्चर, सिनेरिआॅस वल्चर) कुरदांतली (रेड नेप्ड आइबिस) मृत पशुओं को डालने वाले स्थानों पर देखने को मिले। गांव के लोगों से चर्चा की, तो उन्होंने बताया कि पहले सभी गांवों में बड़ी संख्या में यह पक्षी पेड़ों पर व आकाश में मंडराते दिख जाते थे। जहां भी मंडराते, हमें यह पता लग जाता था कि कोई पशु मरा है। लेकिन धीरे-धीरे कहां चले गए पता नहीें।

अधिकांश गांवों में लोगों की यही धारणा है कि विदेशी लोग इन्हें यहां से ले गये। दूसरी ओर चारागाह व पारंपरिक जल स्रोत भी समाप्त हो चुके हैं। पशुधन भी कम हुआ है। मृत पशुओं का भक्षण करने वाले यह पक्षी कुदरत के साथ तालमेल बनाकर जीते हैं और विपरीत वातावरण को जल्दी भांप लेते हैं तथा अनुकूलनता के अभाव में क्षेत्र छोड़ देते हैं, या समाप्त हो जाते हैं।

थार क्षेत्र के जिलों में कुछ अलग-अलग प्रकार के पक्षी देखने को मिले जिनकी संख्या बहुत कम है। इनमें सोन चिड़ी और सुगन चिड़ी (वैज्ञानिक नाम मोटासिला अल्बा) भी है, जो श्रीडूंगरगढ़ के उदासर चारणान, जैसलमेर खुइयाला गांव में दिखी। लोगों ने बताया कि इसके उड़ने-बैठने की दिशा और आवाज से आने वाले सीजन की बरसात और खेती का अंदाजा लगाते थे। लेकिन अब इनकी भी संख्या कम हो गयी। सुगन देखने वाले भी कम रह गये।

खेत में जाकर घंटों इन्तजार करते हैं, नहीं दिखती है, तो वापस घर लौट आते हैं। डेजर्ट के उल्लू (स्पोटेड उल्लू) जिसे स्थानीय भाषा में कोचरी कहते हैं, तालाबों के किनारे खेजड़े के खोखले तनों पर देखे गये। रात में इसकी आवाज सुनकर बुज़ुर्ग शकुन-अपशकुन का अंदाजा लगाते थे। यह अधिकांशतः उन्हीं तालाबों के किनारे मिले जहां पानी तथा सघन खेजड़ी के वृक्ष हैं। नीलकंठ (इंडियन रोल्लर व यूरोपियन रोल्लर) नागौर, बाप व जैसलमेर में तालाबों के किनारे, खेतों में देखे गये जबकि श्रीडूंगरगढ़ में सिचिंत कृषि के बावजूद देखने को नहीं मिले।

READ:  मासिक धर्म की चुनौतियों से जूझती पहाड़ी किशोरियां

परपल सनबर्ड, बुलबुल, काॅमन वेबलर, तोता, मोर, कमेड़ी (डाॅव) लाल कमेड़ी (स्पोटेड डाॅव) आमतौर पर सभी गांवों व रोही में देखने को मिले। सामान्य कौए दिखे, लेकिन जंगली कौआ (कागडोड) नहीं दिखा। इसी प्रकार कठफोड़वा (वूडपेकर) जिसे स्थानीय भाषा में खातीचिड़ा भी कहते थे, पहले बहुतायत में दिखते थे। पेड़ों के तनों को काट कर घौंसला बनाते थे। इसके काटने की आवाज दूर तक सुनाई देती थी। अब यह लुप्त हो रहे  हैं।

पारंपरिक जल स्रोत एवं चारागाह हैं, इसलिए थार की शुष्क जलवायु में किंगफिशर पक्षी भी है। नदियों, झीलों, बांधों व समुद्र के किनारे मछलियों का शिकार करने वाला नीला रंग वाला किंगफिशर रेगिस्तान के तालाबों किनारे भी देखा गया, लेकिन इनकी संख्या भी गिनी चुनी रह गयी है। फसलों, फलों का परागण करने वाली तितलियां, शहद मक्खियों के छाते नहीं दिखे।

स्थानीय वनस्पतियों की हो रही कमी के कारण यह कम हो रही है। जंगली जानवरों में हिरण, नील गाय के अतिरिक्त कुछ नहीं दिखा। चर्चा के दौरान लोगों ने बताया कि पहले भेड़िया जिसे गादड़ा भी कहते थे, नाहरिया (भेड़िये की एक प्रजाति) लोमड़ी, खरगोश नहीं दिखे। भेड़िये की संख्या में कमी के कारण गत 20-25 वर्षों में नील गाय और सूअरों की संख्या ज्यादा हो गई है। कारण जैव विविधता का असंतुलित होना है।

कुछ लोगों का कहना है कि फसलों में पैस्टीसाइड के छिड़काव के कारण जमीन के अंदर व जमीन पर रैंगने वाले जीव समाप्त हो रहे हैं। 40-50 वर्ष पहले तक सरिसृप प्रजाति के जीव-जंतु बहुत संख्या में दिखते थे। लेकिन अब इनकी संख्या कम हुई है। आधुनिक विकास, प्रकृति के साथ अलगाव, धन कमाने का लालच, जल, वन और खनिज संसाधनों का अत्यधिक दोहन, जीवन जीने के तरीकों में आया बदलाव प्रकृति को पोषित नहीं करता है, जिससे प्रकृति बदल रही है।

पारिस्थितिक तंत्र (इक्को सिस्टम) टूट रहा है। बदलते प्राकृतिक परिवेश में क्षेत्रीय जीव रह नहीं पाते। वह या तो अनुकूल वातावरण वाले स्थानों पर चले जाते हैं, या पूरी तरह से समाप्त हो जाते हैं। थार का रेगिस्तान भी इससे अछूता नहीं है। प्रकृति के साथ सीमा से अधिक छेड़-छाड़ हुई है तथा उसने अब बदला लेना प्रारंभ कर दिया है। अब भी मानव नहीं चेता तो भावी पीढ़ियों का जीवनयापन मुश्किल होगा।

READ:  क्या उत्तराखंड की बढ़ती गर्मी बनी वहाँ जंगलों में लगी आग का सबब?

दरअसल जैव विविधता के बने रहने के लिए बहुत सारी समाजिक परंपराएं रही हैं, जिनमें टूटन आई है। इसके लिए सरकार से उम्मीद या भरोसा करना उचित नहीं होगा। बाजार और पूंजीवादी अर्थव्यवस्था के हितों को साधने वाली सरकारें जैव विविधता की नीतियां, कानून आदि बनाती हैं, लेकिन उनके क्रियान्वयन को लेकर गंभीर नहीं है। यही कारण है कि जैव विविधता संरक्षण कानून, जैव विविधता बोर्ड का गठन होने के बावजूद उनको क्रियाशील बनाने में रुचि नहीं ले रही है।

जब तक समाज इस मुद्दे पर गंभीर नहीं होगा, तब तक सरकारी प्रावधान कागजों तक सीमित रहेंगे। धीरे-धीरे जैव विविधता पनपने वाले सार्वजनिक संसाधनों का उपयोग निजी हित में होने लगा है। पूर्वजों द्वारा बनाए गये इन संसाधनों के कारण ही रेगिस्तान में विविध प्रकार की जैव विविधता और जीवन का परिवेश बना था, जो अब छिन्न-भिन्न हो रहा है। जब से जैव विविधता संरक्षण की सामाजिक संस्कृति विघटित हुई है, जैव विविधता समाप्त होने की स्थिति में आ गयी। समाज को ही सोचना होगा कि वह अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए जीवन का परिवेश छोड़ कर जाना चाहते हैं या नहीं।

यह आलेख बीकानेर, राजस्थान से दिलीप बीदावत ने चरखा फीचर के लिए लिखा है

इस आलेख पर आप अपनी प्रतिक्रिया इस मेल पर भेज सकते हैं

charkha.hindifeatureservice@gmail.comप