Skip to content
Home » झारखंड में स्कूलों के ‘इस्लामीकरण’ का क्या है पूरा मामला ?

झारखंड में स्कूलों के ‘इस्लामीकरण’ का क्या है पूरा मामला ?

Jharkhand School : झारखंड के गढ़वा (Garwaha) और जामताड़ा (Jamtara) ज़िले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां 100 से अधिक स्कूलों के इस्लामीकरण का मामला सामने आया है (‘Islamization’ of Jharkhand schools) । छात्रों पर शरिया और इस्लामी कानूनों को आबादी का हवाला देकर जबरन थोपने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। बिना शिक्षा विभाग अनुमति के साप्ताहिक छुट्टी रविवार के बदले शुक्रवार को कर दी गई।  राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने गढ़वा जिला उपायुक्त को इसकी तुरंत जांच कर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

Jharkhand School : क्या है स्कूलों के इस्लामीकरण का मामला

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक, झारखंड के गढ़वा और जामताड़ा ज़िले में कुछ इस्लामी कट्टरपंथियों ने मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के सरकारी स्कूलों (Jharkhand School) के प्रधानाध्यापकों को स्कूल की प्रार्थना बदलने के लिए मजबूर किया और स्कूलों में साप्ताहिक छुट्टी को भी रविवार से बदलकर शुक्रवार कर दिया है। इसके साथ आबादी का हवाला देते हुए कई स्कूलों के नाम के आगे उर्दू स्कूल भी जोड़ा गया है। हाथ बांध कर प्रार्थना रोक दी। सूर्य नस्कार नहीं करने दिया गया।

लीगल राइट्स ऑब्जर्वेटरी ने एनसीपीसीआर से शिकायत की है कि गढ़वा जिले में कुछ इस्लामिक कट्टरपंथी स्कूली बच्चों पर शरीयत और इस्लामी प्रथाएं थोपने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं मामले के तूल पकड़ने के बाद झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने इस पड़ा कड़ा रुख अपनाते हुए जिले के DEO, DSE, और सभी BEO, BRC/CRC को तलब किया है, जिसके बाद सभी अधिकारी स्कूलों की रिपोर्ट लेकर पहुंचे शिक्षा मंत्री से मिलने पहुंचे।

शिक्षामंत्री जगरनाथ महतो ने दिए जांच के आदेश

इस मामले में की गई शिकायत के मुताबिक, भविष्य में झारखंड में स्थिति और गंभीर होने की आशंका है। शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि स्कूलों में विभाग के द्वारा दिए गए अवकाश का ही अनुपालन किया जाए (Jharkhand School) । मामले की पूरी जांच करने का आदेश दिया है।  वहीं शिक्षा मंत्री ने इस मामले में एक सप्ताह के भीतर जांच कर तथ्यात्मक रिपोर्ट भी मांगी है। वहीं, विपक्ष सरकार पर मुस्लिम तुष्टीकरण की नीतियों को लेकर निशाना साध रहा है। झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस की सरकार बैकफुट पर आ गई है।

एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने बुधवार को बताया कि हमें शिकायत प्राप्त हुई थी के कई स्कूलों (Jharkhand School) में बच्चों को हाथ जोड़कर प्रार्थना नहीं करने दी जा रही है। जबरन शुक्रवार को छुट्टी की जा रही है। सूर्यनस्कार से रोका जा रहा है। हमने जिला प्रशासन को नोटिस जारी किया है और उनसे जांच और कानूनी कार्रवाई शुरू करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि गढ़वा के उपायुक्त को एक सप्ताह के भीतर जांच रिपोर्ट देने और बच्चों की देखभाल और सुरक्षा के लिए आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कहा है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: