Skip to content
Home » Fossil fuel subsidy अब तक के उच्चतम स्तर के पार

Fossil fuel subsidy अब तक के उच्चतम स्तर के पार

fossil fuels subsidy in 2022

Climate कहानी | एक नई रिपोर्ट से पता चलता है कि जलवायु संकट के बिगड़ते प्रभावों के बावजूद और यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से उत्पन्न ऊर्जा संकट से पहले भी जीवाश्म ईंधन के उत्पादन के लिए G20 देशों की सरकारों का समर्थन 2021 में 64 बिलियन अमरीकी डालर की नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया था।

यह निष्कर्ष है G20 देशों की जलवायु कार्रवाई का जायजा लेने के लिए संगठनों की एक अंतरराष्ट्रीय साझेदारी द्वारा निर्मित आठवीं वार्षिक जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट में।

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) के आंकड़ों के अनुसार, 2020 में जहां G20 देशों में जीवाश्म ईंधन सब्सिडी 147bn USD तक गिर गई थी, वहीं 2021 में वो फिर से 29% बढ़कर 190bn हो गई। 2022 में सब्सिडी में वृद्धि जारी है। इसमें यूक्रेन पर रूसी आक्रमण की आंशिक भूमिका है मगर इसके चलते जहां ऊर्जा की कीमतों में उछाल आया है, वहीं इसने ऊर्जा कंपनियों के लिए मुनाफे को भी बढ़ा दिया है।

Also Read: #Explained: Ethanol Mixed Petrol

अब तक जीवाश्म ईंधन के लिए उच्चतम कुल सब्सिडी वाले देश चीन, इंडोनेशिया और यूके थे, जो जीवाश्म ईंधन की ऐसा उत्पादन और ऐसी खपत करते थे कि वैश्विक तापमान का 1.5 डिग्री सेल्सियस वार्मिंग सीमा से ऊपर जाना तय था और पिछले साल ग्लासगो में सीओपी 26 में इसकी पुष्टि की गई थी।

इस रिपोर्ट में फायनेंस लीड और ओडीआई में सीनियर रिसर्च फेलो इपेक जेन्सू कहती हैं, “जी 20 देशों में ऊर्जा के पब्लिक फायनेंस अभी भी जीवाश्म ईंधन उद्योग की ओर झुका हुआ है। 2019-2020 के बीच ऊर्जा के लिए G20 के सार्वजनिक वित्त का 63% में जीवाश्म ईंधन के खाते में गया था। कुल मिलकर जी20 देशों ने मायूस किया है।”  

तमाम क्षमताओं के बावजूद जलवायु पर कार्य करने के लिए G20 देशों में उत्सर्जन बढ़ रहा है। बिजली और भवन क्षेत्र में उत्सर्जन 2021 में महामारी से पहले के स्तर से भी अधिक हो गया है और चीन और तुर्की में प्रति व्यक्ति उत्सर्जन अब 2019 की तुलना में अधिक है।

Also Read: Top 15 countries with highest C02 emissions over the decade?

इस पर क्लाइमेट एनालिटिक्स के सीईओ बिल हरे ने टिप्पणी करते हुए कहा, “G20 दुनिया के तीन-चौथाई उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार है। ये दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं, जिनमें से कई में जलवायु संकट से निपटने के लिए आवश्यक वित्त और प्रौद्योगिकियों का घर है। हम अब एक ऐसे क्षण में हैं जहां भू-राजनीति और ऊर्जा सुरक्षा के मुद्दे वास्तव में सस्ते रिन्यूबल ऊर्जा के लाभों को घर में लाने के लिए संयोजन कर रहे हैं, फिर भी हम अभी भी इनमें से कई सरकारों को समाधान के रूप में जीवाश्म ईंधन की ओर मुड़ते हुए देख रहे हैं।” क्लाइमेट एनालिटिक्स इस रिपोर्ट में विश्लेषण का नेतृत्व करने वाले संगठनों में से एक है।

बिल ने आगे कहा, “गैस और कोयला—यह दोनों ऊर्जा के लिए सबसे महंगे, उच्चतम उत्सर्जन, और बेहद कम सुरक्षित विकल्प हैं, लेकिन बावजूद इसके उन्हें अभी भी सरकारी समर्थन प्राप्त होगा।”

यहाँ अच्छी खबर यह है कि 2016 और 2021 के बीच सभी G20 देशों में बिजली उत्पादन मिश्रण में रिन्यूबल ऊर्जा की हिस्सेदारी ब्रिटेन (+67%), जापान (+48%) और मैक्सिको (+40%) में काफी बढ़ी है। इस मामले में सबसे कम वृद्धि देखी गई, रूस (+16%) और इटली (14%) में। यह पांच साल के जी20 के 22.5% के औसत से काफी कम है। तमाम लंबी अवधि की विकास परियोजनाओं के बावजूद , 2020-21 के बीच रिन्यूबल ऊर्जा का हिस्सा नहीं बढ़ा।

Also Read: Power outage: How much India is dependent on coal for electricity?

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट में यह भी जानकारी है कि जलवायु परिवर्तन पहले से ही कुछ G20 अर्थव्यवस्थाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है। बढ़ते उत्सर्जन ने रिकॉर्ड तोड़ बाढ़, आग, सूखा और तूफान को जन्म दिया है, जिससे अरबों का नुकसान हुआ है। रिपोर्ट के मुख्य लेखकों में से एक, बर्लिन गवर्नेंस प्लेटफॉर्म से सेबस्टियन वेगनर ने कहा, “बढ़ते तापमान ने सेवाओं, विनिर्माण, कृषि और निर्माण क्षेत्रों में आय में कमी ला दी है, जिसमें भारत, इंडोनेशिया और सऊदी अरब सबसे अधिक प्रभावित देश हैं। संबंधित आय हानि सकल घरेलू उत्पाद का 5.4%, 1.6% और 1% अनुमानित है।”

रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष:

एमिशन रिबाउंड: 2020 और 2021 के बीच-कोविड-19 महामारी के पहले वर्ष के बाद-G20 में कुल ऊर्जा-संबंधी CO2उत्सर्जन में 5.9% की वृद्धि हुई, 2019 और 2020 के बीच 4.9% की कमी के बाद।  प्रति व्यक्ति ऊर्जा से संबंधित CO2उत्सर्जन में उच्चतम रिबाउंड वाले देशों में 2020 की तुलना में 2021 में वृद्धि ब्राजील (+13%, 2019 और 2020 के बीच 6% की गिरावट के बाद), तुर्की (+11%, -1% की गिरावट के बाद) ), और रूस (+10%, -4% की गिरावट के बाद) में देखी गयी।

•परिवहन क्षेत्र: 2020 में COVID-19 महामारी के दौरान उत्सर्जन में सबसे बड़ी कमी परिवहन क्षेत्र में हुई (11.5% की कमी के बाद 7.7%)। चीन और तुर्की में, प्रति व्यक्ति उत्सर्जन 2021 में 2019 की तुलना में और भी उच्च स्तर पर पहुंच गया (2020 में चीन में 12 % की गिरावट के बाद 2020 में 5% की गिरावट के बाद, 2020 में 7% की गिरावट के बाद 2021 में तुर्की में 12%)।

•विद्युत क्षेत्र: बिजली क्षेत्र में 2020 के स्तर से ऊपर 2021 में उत्सर्जन में फिर से उछाल आया। 2.8% की कमी के बाद 7.1% की वृद्धि हुई।

•बिल्डिंग सेक्टर: 2021 में बिल्डिंग सेक्टर से उत्सर्जन में एक साल पहले के 2.1% की कमी की तुलना में 4.4% की वृद्धि हुई।

•रिन्यूबल्स: इंडोनेशिया (+7.8%), यूके (+4,7%), तुर्की (+3,9%) और जर्मनी (+) के साथ 2017 और 2021 के बीच सभी G20 देशों में कुल प्राथमिक ऊर्जा आपूर्ति में नवीकरणीय ऊर्जा की हिस्सेदारी बढ़ी 3%)। सबसे कम वृद्धि सऊदी अरब (+0,1%), रूस (+0,3%) और दक्षिण अफ्रीका (+0,7%) में देखी गई है।

•मीथेन: COP26 ग्लोबल मीथेन प्लेज के हस्ताक्षरकर्ता स्वैच्छिक कार्रवाई करने पर सहमत हुए हैं ताकि वैश्विक मीथेन उत्सर्जन को 2020 के स्तर से 2030 तक कम से कम 30% कम किया जा सके। 2015 और 2019 के बीच मीथेन उत्सर्जन में 1.4% की वृद्धि हुई । मीथेन के उच्चतम हिस्से वाले देश उत्सर्जन-चीन, अमेरिका और इंडोनेशिया- ने 2015 और 2019 के बीच मीथेन उत्सर्जन को कम नहीं किया।

• देखे गए जलवायु प्रभाव: 2021 में, बढ़ते तापमान ने पहले ही सेवाओं, विनिर्माण , कृषि और निर्माण क्षेत्रों में आय में कमी ला दी है। 2021 में उपरोक्त क्षेत्रों में आय हानि से सबसे अधिक प्रभावित देश भारत (जीडीपी का 5.4%), इंडोनेशिया (जीडीपी का 1.6%) और सऊदी अरब (जीडीपी का 1%) थे।

• हीटवेव: बढ़ते तापमान के साथ, जलवायु परिवर्तन के प्रभाव और भी गंभीर हो जाएंगे। ब्राजील और भारत में, वर्तमान आबादी का 10% हीटवेव से प्रभावित होने की संभावना है। 3 डिग्री सेल्सियस तापमान पर, ब्राजील में इसके 20% से अधिक होने की संभावना है; भारत में लगभग 30%।

•जलवायु वित्त: आठ में से पांच जी20 देश सालाना 100 अरब अमेरिकी डॉलर के जलवायु वित्त लक्ष्य में अपना उचित हिस्सा नहीं देते हैं। यूके, इटली, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में कमी आई है; अमेरिका ने अपने परिकलित वार्षिक उचित हिस्से का केवल एक छोटा अंश (5%) योगदान दिया।

•कार्बन की कीमतें: कार्बन की कीमतें बढ़ रही हैं लेकिन अभी भी बहुत कम हैं। कुछ देशों को छोड़कर G20 में कवरेज अत्यधिक अपर्याप्त है। G20 के सात सदस्यों के पास कोई कार्बन मूल्य निर्धारण तंत्र नहीं है ( ऑस्ट्रेलिया , ब्राजील और भारत सहित), जबकि केवल कनाडा और फ्रांस में प्रति t/CO2 पर्याप्त रूप से उच्च मूल्य हैं।

•जीवाश्म ईंधन सब्सिडी: 2021 में बढ़कर 190 बिलियन अमेरिकी डॉलर (2020 की तुलना में लगभग 40 बिलियन अमेरिकी डॉलर अधिक), जिसमें ओईसीडी द्वारा ट्रैक किए गए जीवाश्म ईंधन उत्पादकों को अब तक की सबसे बड़ी सब्सिडी शामिल है। सबसे अधिक सब्सिडी वाले देश चीन, इंडोनेशिया और यूके थे।

Follow Ground Report for Climate Change and Under-Reported issues in India. Connect with us on FacebookTwitterKoo AppInstagramWhatsapp and YouTube. Write us on GReport2018@gmail.com

%d bloggers like this: