Kejriwal on Kashmir Files: यूट्यूब पर रिलीज़ कर दें, टैक्स क्यों माफ करना?

Kejriwal on Kashmir Files: दिल्ली विधानसभा के बजट सत्र (Delhi Budget Session) में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कश्मीर फाईल्स (Kashmir Files) पर कहा कि फिल्म को टैक्स फ्री क्यों करवा रहे हैं, अगर सबको दिखाना है तो विवेक अग्निहोत्री फिल्म को Youtube पर डाल दें सब फ्री में देख लेंगे।

आपको बता दें कि भाजपा शासित कई राज्यों में कश्मीरी पंडितों के एक्सोडस पर बनी फिल्म कश्मीर फाईल्स को टैक्स फ्री कर दिया गया है। दिल्ली पर भी इस बात का दबाव बनाया गया कि मुख्यमंत्री केजरीवाल (Kejriwal on Kashmir Files) इस फिल्म पर से इंटरटेनमेंट टैक्स माफ कर दें।

विपक्षी दल कश्मीर फाईल्स को भाजपा की एजेंडा फिल्म बताती है, उनका कहना है कि इससे पहले किसी फिल्म को सरकार ने इतना प्रमोट नहीं किया जितना कश्मीर फाईल्स को कर रही है। कश्मीरी पंडितों को भाजपा ने अपने वोट बैंक के लिए इस्तेमला किया है, उनके पुनर्वास को लेकर उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया। संजय राउत ने भी महाराष्ट्र में कश्मीर फाईल्स पर से टैक्स हटाने को लेकर कहा था कि कश्मीर पंडित जानते हैं कि शिवसेना हमेशा उनके साथ खड़ी रही है। हमने तो बाला साहब ठाकरे पर बनी फिल्म पर से भी टैक्स नहीं हटाया था, तो भी लोग उसे देखने गए थे। इसलिए टैक्स माफ करना केवल एक राजनीतिक मुद्दा है।

Also Read:  Who is Journalist Naresh Vats assaulted in Kejriwal's press conference?

(Kejriwal on Kashmir Files) केजरीवाल ने पहली बार फिल्म कश्मीरी फाईल्स पर टिप्पणी की है। आपको बता दें कि इससे पहले भी कई फिल्मों का टैक्स राज्य सरकारें अपने एजेंडे के मुताबिक माफ करती रही हैं। ज्यादातर देश भक्ति से ओत प्रोत फिल्में और स्पोर्ट्स पर बनी फिल्मों या किसी सामाजिक मुद्दे पर बनी फिल्मों का टैक्स माफ किया गया है।

कश्मीर फाईल्स अब तक लगभग 200 करोड़ का कारोबार कर चुकी है, जो फिल्म कमर्शियली इतनी सक्सेसफुल रही हो उसपर से टैक्स माफ करना कितना वाजिब है यह बड़ा सवाल है। आपको बता दें कि टैक्स माफ होने के बाद केवल फिल्म के प्रड्यूसर को ही फायदा होता है, इससे टिकट के पैसों में कोई कटौती नहीं होती। यानि जनता को इससे कोई फायदा नहीं होता, केवल सरकार के खज़ाने में आने वाला टैक्स कम हो जाता है, जिससे जनता के विकास के कार्य किये जाते हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Also Read