Home » Yellow Fungus: Black Fungus और White Fungus के बाद अब Yellow Fungus का भी खतरा, देश में यहां मिला पहला मरीज

Yellow Fungus: Black Fungus और White Fungus के बाद अब Yellow Fungus का भी खतरा, देश में यहां मिला पहला मरीज

Yellow Fungus
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Yellow Fungus case increasing with black or white fungus: देश भर में कोरोना वायरस के मामले अभी खत्म नहीं हुए हैं। उससे उभरने की कोशिश में लगे लोगों पर अब Yellow Fungus का भी खतरा मंडराने लगा है। उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद शहर के एक निजी अस्पताल में इसका पहला केस सामने आया। डॉक्टर ने येलो फंगस ( yellow fungus) को ब्लैक (black fungus) और वाइट फंगस (white fungus) से भी ज्यादा जानलेवा बताया है।

क्या है येलो फंगस? What is Yellow Fungus?

येलो फंगस (yellow fungus) भी म्यूकोमाइकोसिस (mucormycosis) का ही एक रूप है। यह ब्लैक और वाइट फंगस से खतरनाक होता है। इसमें शरीर सुस्त हो जाता है, ऐसा बासा खाना खाने से भी हो सकता है। जिससे येलो फंगस का खतरा बढ़ सकता है।

White Fungus symptoms and treatment: पहले Black Fungus अब White Fungus का भी खतरा

येलो फंगस के लक्षण (Symptoms of Yellow Fungus)

सुस्ती, भूख कम लगना, वजन कम होना, धुंधला दिखाई देना जैसी परेशानियाँ हो सकती हैं। यह शरीर के आंतरिक रूप से शुरू होता है, जैसे-जैसे यह बढ़ता है बीमारी जानलेवा होती जाती है।

READ:  Black Fungus: मास्क की नमी से हो रहा ब्लैक फंगस? जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ

येलो फंगस से बचाव (Precautions for Yellow fungus)

अगर घर के अंदर ज्यादा नमी है तो मरीज के लिए यह खतरनाक हो सकती है इसलिए इसपर ज्यादा ध्यान दें। ज्यादा नमी बैक्टिरिया और फंगस की बढ़ती है। डॉक्टर ने बताया कि घर की अच्छे से सफाई रखें। बासी खाना बिल्कुल न खाएं। घर में धूल बिल्कुल न जमने दें। यह मरीज के साथ बाकी परिवार वालों के लिए भी नुकसानदायक हो सकता है।

Black Fungus: मास्क की नमी से हो रहा ब्लैक फंगस? जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ

कैसे हुई येलो फंगस की पहचान

डॉक्टर ने बताया कि येलो फंगस जिस मरीज को था वो संजय नगर इलाके का रहने वाला है। मरीज की उम्र 45साल है। वह कुछ दिनों पहले ही कोरोना से ठीक हुआ है। मरीज को डायबिटीज भी थी। मरीज जब दिखाने आया तो उसका सीटी स्कैन किया गया जिसमें फंगस के बारे में पता चला। फिर डॉक्टर ने नेज़ल एंडोस्कोपी से जांच की तब येलो फंगस पाया। मरीज को ब्लैक, वाइट और येलो तीनों फंगस थे।

कैसे फैल रहा येलो फंगस

यह इंफेक्शन भी ब्लैक और वाइट फंगस की तरह कोरोना मरीज़ के इलाज में हुई असावधानियों और लापरवाही से फैल रहा है। डॉक्टर का कहना है कि यह गंदगी या कुछ बासा खाने से भी हो सकता है। इसलिए किसी को भी आंख, मुँह, नाक कहीं भी परेशानी हो तो अपने नजदीकी डॉक्टर को तुरंत दिखाएं।

READ:  Black Fungus मामले तेजी से क्यों बढ़ रहे हैं?

अपील: अपने मास्क को अच्छी तरह साफ करके या धोकर ही दुबारा इस्तेमाल करें। साफ-सफाई का अच्छे से ध्यान रखें और स्वास्थ्य रहें।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।