अब कर्नाटक में भी भाजपा सरकार, येदियुरप्पा ने जीता विश्वासमत

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट | न्यूज़ डेस्क

कई दिनों से चल रहे कर्नाटक के नाटक का क्लाइमेक्स आज जनता ने देख लिया। कुमारस्वामी नीत कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिर चुकी है और येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने विधानसभा में ध्वनिमत से विश्वास प्राप्त कर लिया है। विश्वास प्रस्ताव पेश करते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि वह प्रतिशोध की राजनीति में लिप्त नहीं होंगे और माफ करने के सिद्धांत पर चलेंगे।

कर्नाटक में करीब 17 विधायकों ने कुमारस्वामी सरकार के खिलाफ बगावत कर दी थी जिसकी वजह से राज्य में सरकार अल्पमत में आ गई थी। विधानसभा स्पीकर ने सभी 17 विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया। इसके बाद विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा घट कर 105 हो गया जिसे भाजपा ने आसानी से प्राप्त कर लिया।

येदियुरप्पा चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने हैं। कॉलेज के समय में वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े। 1970 में वो शिकारीपुर के कार्यवाह नियुक्त किये गए। इमरजेंसी के समय येदियुरप्पा को जेल भी जाना पड़ा था। 1988 में येदियुरप्पा कर्नाटक भाजपा के अध्यक्ष बनें। 1983 में उन्होंने विधानसभा चुनाव जीता और लगातार 6 बार शिकारीपुर विधानसभा का नेतृत्व किया।

2007 में पहली बार येदियुरप्पा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने यह सरकार केवल 7 दिन चली। 2008 में फिर वो मुख्यमंत्री बनें, यह सरकार 2011 तक चली। 2018 में येदियुरप्पा 2 दिन के लिए मुख्यमंत्री बने जिसे एच डी कुमारस्वामी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन कर गिर दिया था।