World Television Day: रेडियो से स्मार्टफ़ोन तक के बदलाव के बाद भी टीवी का अलग महत्त्व है

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आज World Television Day है। टेलीविजन हर व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण किरदार निभाता है। सीरियल से लेकर गाने तक सब देख कर अपना मनोरंजन करते हैं। फोन के आ जाने के बावजूद टीवी आज भी लोगों की जिंदगी में अलग महत्व रखता है। बड़ा सा ब्लैक एंड व्हाइट बक्सा स्लिम ट्रिम एलईडी टीवी में परिवर्तित हो चुका है और विस्तार आज भी जा रही है।

हालांकि टीवी का अधिक विस्तार 80-90 के दशक में हुआ था। 1976 में टीवी की स्क्रीन को और भी ज्यादा बड़ा किया गया था। वहीं 1948 में पहली बार टेलीविजन का संक्षिप्त नाम टीवी रखा गया था। प्रतिवर्ष 21 नवंबर को टीवी का संघर्ष, उपयोगिता, भविष्य आदि पर चर्चा और दैनिक मूल्यों को उजागर करने के लिए वर्ल्ड टेलीविजन डे मनाया जाता है।

READ:  क्या टीवी देखना बंद कर देना चाहिए? ट्विटर पर टॉप ट्रेंड है #टीवी _देखना_बंद_करो

Hamid Ansari: पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने राष्ट्रवाद को बताया कोरोना से बड़ी बिमारी

World Television Day पर आप याद कीजिये अपना पहला अनुभव जो आप और टीवी से जुड़ा हो। टेलीविजन के माध्यम से हमें शिक्षा मिलती है, फिल्म, सीरियल और कार्टून से सब अपना मनोरंजन करते हैं, खबर और राजनीति से जुड़ी गतिविधियों के बारे में सूचनाएं मिलती हैं। वही आज के समय में टेलीविजन युवाओं के बीच काफी प्रभावशाली है। यह हमें हर पल की जानकारी से जोड़े रखता है।

विश्व टेलीविजन दिवस का इतिहास
17 दिसंबर 1966 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 नवंबर की तिथि को विश्व टेलीविजन दिवस के रूप में चिह्नित किया था। 21 और 22 नवंबर, 1996 को यूएन ने पहली बार विश्व टेलिविजन मंच का आयोजन किया था। इस दिन टेलीविजन नाटकों के भूमिका के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए बैठक होती है। लेखक, ब्लॉगर, पत्रकार और इस माध्यम से जुड़े अन्य लोग इस दिन को बढ़ावा देने के लिए साथ आते हैं। इसके अलावा टेलीविजन से विश्व पर रहे प्रभाव, सूचना जगत में इसका योगदान पर भी चर्चा की जाती है। क्योंकि टीवी सिर्फ जनमत को ही नहीं बल्कि बड़े बड़े फैसले पर भी असर डालता है।

READ:  ख़ुद को सबसे सभ्य बताने वाले अमेरिका में काला होने पर मौत के घाट उतार दिया जाता है ?

IAS Tina Dabi Divorce: जब टीना डाबी और आमिर अतहर की शादी को हिन्दू महासभा ने बताया था ‘लव-जिहाद’

भारत में टीवी
भारत में टेलीविजन पहली बार 1950 में आया था। चेन्नई के एक इंजीनियरिंग छात्र ने प्रदर्शनी में पहली बार टेलीविजन दिखाया था। वहीं भारत में पहला टेलीविजन सेट कोलकाता के एक अमीर परिवार ने खरीदा था। 1982 में पहली बार राष्ट्रीय चैनल की शुरुआत हुई थी और इसी साल कलर टीवी भी आया था। वैसे तो 1965 में ऑल इंडिया रेडियो ने टीवी ट्रांसलेशन शुरू किया था। लेकिन सरकार ने 1976 में ऑल इंडिया रेडियो को टीवी से अलग कर दिया था।

READ:  प्राइवेट नौकरियों में स्थानीय लोगों को मिलेगा 75 फीसदी आरक्षण

कैसे मनाया जाता है विश्व में टेलीविजन दिवस
इस दिन टेलीविजन दिवस को बढ़ावा देने के लिए कई सारी गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। साथ ही विश्व में पढ़ रहे प्रभाव, योगदान और इत्यादि पर चर्चा किए जाते हैं। कई लोग जैसे पत्रकार, ब्लॉकर्स, लेखक, एक्ट्रेस और आदि लोग टेलीविजन की भूमिका पर प्रिंट मीडिया, सोशल मीडिया, और ब्रॉडकास्ट मीडिया पर विचार साझा करते हैं। स्कूलों में अतिथि को आमंत्रित किया जाता है ताकि वह मीडिया और संचार पर कुछ बोले।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.