फ्रांस में इस्लामी हिजाब पहनना अब अपराध, महिलाएं बिकनी पहनें मगर हिजाब नहीं

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report । Nehal Rizvi

फ्रांस में सीनेट ने बुधवार को एक नया बिल पास किया है जिसके आधार पर स्कूली बच्चों की मां अगर इस्लामी हिजाब में हो तो वह स्कूल से बाहर स्कूली गतिविधियों में अपने बच्चे के साथ नहीं रह सकती।

यह विधेयक सीनेट  में बहुमत रखने वाले दक्षिणपंथी दल रिपब्लिकन पार्टी के कुछ सदस्यों ने तैयार किया था जो 114 के मुक़ाबले में 163 वोटों से पारित हो गया। फ्रांस में बनने वाले इस नये क़ानून के अनुसार फ्रांस के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र व छात्राओं की मांए केवल उसी दशा में स्कूल से बाहर अपने बच्चे की गतिविधियों में उसके साथ रह सकती हैं जब हिजाब सहित कोई भी धार्मिक चिन्ह उनके साथ न हो।

फ्रांस में हिजाब के खिलाफ कानून के लिए यह बहाना पेश किया जाता है कि किसी नागरिक को धार्मिक चिन्हों के साथ चलने फिरने का अधिकार नहीं है किंतु अस्ल में यह सब फ्रांस में दक्षिणपंथियों की सत्ता में पकड़ मज़बूत होने के बाद आंरभ हुआ है। जिसके बाद फ्रांस में इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ हमलों में भी वृद्धि हुई है और मीडिया ने भी मोर्चा संभाल लिया है।

यही वजह है कि पिछले रविवार को फ्रासं में लोगों ने सड़कों पर निकल राजनेताओं और मीडिया द्वारा इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ प्रोपगंडा किये जाने पर विरोध जताया। फ्रांस में मस्जिदों पर हमले बढ़ रहे हैं और आकंड़ों के अनुसार हर तीन महीने में किसी न किसी मस्जिद पर एक हमला होता है। 

फ्रांस के शिक्षा मंत्री ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा है कि यह आवश्कयता से अधिक आगे बढ़ना है और इस कानून में परिवारों के लिए जो संदेश है वह किसी भी तरह से सार्थक नहीं हो सकता। पूरे यूरोप में सब से अधिक मुसलमान, फ्रांस में रहते हैं। फ्रांस को पूरी दुनिया में ” आज़ादी का पालना” कहा जाता है लेकिन इस देश में इस्लामी हिजाब अपराध है जबकि बिकनी पर किसी को कोई आपत्ति नहीं है।