Home » HOME » देश की रक्षा करेंगी बेटियां: शिवांगी, भावना और कराबी गोगोई का भारतीय सेना में परचम

देश की रक्षा करेंगी बेटियां: शिवांगी, भावना और कराबी गोगोई का भारतीय सेना में परचम

women in Indian Army
Sharing is Important

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

भारत की बेटियां दिन प्रतिदिन नई उंचाईयों को छू रही हैं। 2019 में भारत की बेटिंयों ने आसमान की उंचाई को छूने का वो कारनामा कर दिखाया जिसपर अब तक केवल पुरुषों का ही राज था। हम बात कर रहे हैं सब-लेफ्टिनेंट शिवांगी की जो भारतीय नौसेना की पहिला महिला पायलट बन गई हैं। शिवांगी 02 दिसंबर 2019 को भारतीय नौसेना में पहली महिला पायलट के रूप में शामिल हुई। उन्होंने कोच्चि नवल बेस पर ऑपरेशनल ड्यूटी जॉइन की। नौसेना के अधिकारियों के अनुसार, शिवांगी ड्रोनियर सर्विलांस एयरक्राफ्ट उड़ाएंगी। इसी साल वायुसेना में फ्लाईट लेफ्टिनेंट भावना कंठ पहली महिला पायलट बनीं थी। भावना को लड़ाकू जेट विमान उड़ाने की पात्रता प्राप्त है। वहीं कराबी गोगोई नौसेना की पहली डिफेंस अटैची हैं। वे युद्धपोत के निर्माण में माहिर मानी जाती हैं।

लेफ्टिनेंट शिवांगी बिहार के मुजफ्फरपुर की रहने वाली हैं। उन्होने अपनी पढ़ाई डीएवी पब्लिक स्कूल से की है। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, लेफ्टिनेंट शिवांगी ने सिक्किम मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बीटेक किया।

READ:  Wrestler Nisha Dahiya Not dead issues video after death news

शिवांगी: नौसेना में एसएसी पायलट के रूप में शामिल

Shivangi first woman pilot in Navy

भारतीय नौसेना अकादमी में शिवांगी को 27 एनओसी कोर्स के तहत एसएसी (पायलट) के रूप में शामिल किया गया था। वाइस एडमिरल ए.के. चावला ने जून 2018 में औपचारिक तौर पर उन्हें कमीशन किया था। शिवांगी अब सर्विलांस विमान उडाएंगी। ये सर्विलांस विमान छोटी दूरी के समुद्री मिशन पर भेजे जाते हैं। इसमें एडवांस सर्विलांस राडार, इलेक्ट्रॉनिक सेंसर और नेटवर्किंग जैसे कई अहम उपकरण मौजूद होते हैं।

भावना कांत: भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट

Bhavna Kanth First Women Fighter Pilot Of Air Force

भावना कांत इस साल भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट बनी थीं। भावना कांत ने सभी प्रशिक्षण क्वालीफाई किए थे। भावना कांत के अतिरिक्त मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी भी फाइटर पायलट बनी थीं। इसके अतिरिक्त भारतीय सेना में 100 महिला सैनिकों का पहला बैच साल 2021 में शामिल हो सकता है। इन महिला सैनिकों को भारतीय सेना के ‘कोर ऑफ मिलिट्री पुलिस’ में कमीशन किया जाएगा।