क्या ठंड और प्रदूषण से कहर बन जाएगा कोरोना?

प्रदूषण बढ़ने से कोरोना क्या और घातक हो जाएगा?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली में मुख्यमंत्री केजरीवाल हाल ही में दावा किया कि कोरोना की दूसरी लहर निकल चुकी है और दिल्ली में अब रोज़ाना के मामलों में कमी आने लगी है। लेकिन राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) ने दिल्ली सरकार से आने वाले त्यौहार और ठंड के मौसम में लगभग 15,000 नये मामलों के लिए तैयार रहने को कहा है। साथ ही प्रदूषण बढ़ने से कोरोना के मामलों में उछाल आ सकता है, प्रदूषण की वजह से कोरोना से मरने वालों की संख्या में इज़ाफा भी हो सकता है।

क्या ठंड और प्रदूषण से कहर बन जाएगा कोरोना?

आगामी सर्दी के मौसम में सांस की समस्याओं, बाहर से आने वाले मरीजों की बड़ी तादात और बड़े उत्सव समारोहों को ध्यान में रखते हुए, प्रतिदिन (COVID-19) के लगभग 15,000 नये मामलों के लिए दिल्ली को तैयार करने की आवश्यकता है। NCDC की रिपोर्ट में इसको लेकर आगाह किया गया है। प्रदूषण बढ़ने से कोरोना के मामलों में उछाल की संभवना को भी नकारा नहीं जा सकता।

  • सर्दी के मौसम में फ्लू होने की संभावना ज्यादा होती है। वायरल और कॉमन कोल्ड के मरीज़ इस दौरान बढ़ जाते हैं।
  • दिल्ली जैसे शहरों में ठंड के दौरान प्रदूषण चरम पर होता है, प्रदूषण की वजह से कोविड-19 के मरीज़ों को परेशानियों का सामना करना पढ़ सकता है।
  • नवंबर और दिसंबर के माह में देश में कई त्योहार मनाए जाते हैं, ऐसे में लोगों द्वारा लापरवाही बरतने के मामले सामने आ सकते हैं।
  • दिवाली और नए साल के जश्न में जलाए जाने वाले पटाखे, कोरोना मरीज़ों के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं।
  • कोरोना बीमारी सांस और फेफड़ों से ही जुड़ी बीमारी है। प्रदूषण की वजह से फेफड़ों में जलन और सांस की दिक्कत पेश आती है। यह कोरोना महामारी को जानलेवा बनाने का काम कर सकते हैं।
  • कोरोना वायरस की शुरुवात भी पिछले वर्ष नवंबर दिसंबर में ही हुई थी, उसी दौरान यह पूरी दुनिया में तेज़ी से फैला। अगर यह कहा जाए की कोरोना 1 साल पूरे होने पर और कहर बरपाएगा तो यह गलत नहीं होगा।

ALSO READ: दोबारा कोरोना होने की कितनी है संभावना?

ठंड में कोरोना को लेकर क्या सावधानी बरतनी होगी?

कोरोना के मामलों में गिरावट ज़रुर है लेकिन इसे महामारी का अंत न समझे। आपकी लापरवाही कोरोना को दोबारा उतना ही घातक बना सकती है। खासकर आने वाले ठंड के मौसम को ध्यान में रखकर यह कहा जाए तो गलत नहीं होगा।

  • ठंड के मौसम में खुद को कॉमन कोल्ड और फ्लू से बचाए रखने का प्रयत्न करें। वरना आपको साधारण सर्दी के लक्षणों के चलते कोरोना जांच से गुज़रना पड़ सकता है।
  • अपने घर में ऑक्सीमीटर, थर्मोमीटर और स्टीमर ज़रुर रखें। अगर किसीको बुखार है तो उनका तापमान जांचते रहें। बुखार न उतरने पर तुरंत टेस्ट करवाएं।
  • ऑक्सीमीटर से शरीर में ऑक्सीज़न की कमी को पता लगाया जा सकता है। इसे अपने पास ज़रुर रखें।
  • स्टीमर की मदद से कोल्ड हो जाने पर भाप ली जा सकती है।
  • त्योहारों पर भीड़ से दूरी बनाए रखें। साधारण तरीके से घर परिवार के साथ ही त्योहार मनाएं। बड़ी पार्टी और जमावड़े में जाने से बचें।
  • पटाखों का प्रयोग इस वर्ष न करें इससे कोरोना पीड़ितों की तबीयत बिगड़ सकती है।
  • मास्क, दो गज़ की दूरी और सैनेटाईज़र- हैंडवॉश का वैसे ही ध्यान रखते रहें।

ALSO READ: कोरोना का इलाज: अगर रिपोर्ट पॉजिटिव भी आई है तो डरने की नहीं समझदारी की जरूरत है

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.