Why do women wear bichiya toe rings on their feet only after marriage, what is the scientific reason for the toe rings?

शादी के बाद ही पैरों में बिछिया क्यों पहनती हैं महिलाएं, क्या है Toe Rings के वैज्ञानिक कारण?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Bichiya Toe Rings Scientific Reason: महिलाएं आखिर शादी के बाद ही क्यों अपने पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनती हैं। ऐसा क्यों नहीं होता कि महिलाएं शादी के पहले ही ये बिछिया पहने क्या इसके पीछे कोई धार्मिक कारण है या फिर वैज्ञानिक महत्व (Bichiya Toe Rings Scientific Reason)। वैसे तो इसे शादी शुदा महिला के श्रृंगार हिस्सा समझा जाता है लेकिन खास बात यह है कि पैरों की उंगलियों में पहने जाने वाले बिछिया के पीछे कई वैज्ञानिक कारण छिपे हैं जिन्हें आप समझेंगे तो पता चलेगा कि इससे महिलाओं की सेहत को क्या फायदा होता है। (Bichiya Toe Rings Scientific Reason)

READ:  पुण्यतिथि: प्रमोद महाजन ज़िंदा होते तो देश के प्रधानमंत्री ज़रूर बनते

Chhath Puja 2020 : कौन हैं छठी मइया,जिनकी छठ पर्व पर धूमधाम से की जाती है पूजा ?

इसके पीछे का एक वैज्ञानिक (Bichiya Toe Rings Scientific Reason) तर्क यह है कि, दोनों पैरों में बिछिया पहनने से महिलाओं का हार्मोनल सिस्टम सही रूप से काम करता है। पैर के अंगूठे की ठीक बगल वाली यानी दूसरे नंबर की उंगली में अधिकतर महिलाएं बिछिया पहनती हैं। एक्सपर्ट की माने तो इस उंगली से गर्भाशय तक एक नस होती है जो गर्भाशय को नियंत्रित करती है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ ही यह प्रजनन क्षमता बढ़ाने में भी मदद करती है।

READ:  Here are some haunted places in Kashmir that give you sleepless night

Tulsi Vivah 2020: क्यों होता है तुलसी विवाह, देखें तुलसी पूजन विधि और शुभ मुहुर्त

बिछिया पहनने के पीछे एक वैज्ञानिक तर्क यह भी दिया जाता है कि बिछिया पहनने से थाइराइड होने की संभावनाएं कम हो जाती है।और यह एक्यूप्रेशर उपचार पद्धति पर कार्य करती है जिससे शरीर के निचले अंगों के तंत्रिका तंत्र और मांसपेशियां ठीक तरह से काम करती है।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

माना यह भी जाता है कि बिछिया एक खास नस पर प्रेशर बनाती है जोकि गर्भाशय में समुचित रक्तसंचार प्रवहित करती है। इस प्रकार बिछिया औरतों की गर्भधारण क्षमता को स्वस्थ रखती है। एक्सपर्ट की माने तो, मछली की आकार वाली बिछिया सबसे असरदार साबित हो सकती है। मछली का आकार मतलब बीच में गोलाकार और आगे-पीछे कुछ नोकदार सी। एक ओर खास बात, तर्क यह भी है कि पैरों में हमेशा चांदी की बिछिया ही पहनें। सोने की बिछिया शारीरिक गर्मी का संतुलन बिगाड़ सकती है।

READ:  दुनिया का वो देश जहां अधिकतर लोग आजीवन सिंगल रहते हैं

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.