अंबानी और अडाणी

Farmer Bill 2020 : अंबानी और अडाणी के विरोध में क्‍यों हैं किसान ?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अंबानी और अडाणी : बुधवार को केंद्र सरकार का प्रस्ताव ठुकराते हुए किसान संगठनों ने अपनी प्रमुख मांगों पर टस से मस न होने की बात कही। किसान संगठनों ने चेतावनी दी कि आंदोलन अब और तेज़ किया जाएगा। रोज़ बीजेपी के मंत्रियों का घेराव भी किया जाएगा। इसके साथ ही क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि उन्‍होंने देशभर में रिलायंस और अडाणी के उत्‍पादों का बहिष्‍कार करने का फैसला किया है।

अंबानी और अडाणी के सभी उत्‍पादों का बहिष्‍कार

किसान संगठनों ने सरकार को सीधी चुनौती देते हुए कहा कि कृषि क्षेत्र से जुड़े तीनों नए कानून पूरी तरह वापस हों और सरकार न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य की गारंटी का कानून लाए, इससे कम पर किसान संगठन मानने को तैयार नहीं हैं।

READ:  India-China Border Tension: रीवा का जवान भी शहीद, 7 महीने पहले ही हुई थी शादी

वहीं, किसान संगठन  अंबानी-अडानी के खिलाफ़ जमकर विरोध कर रहे हैं। किसान अंबानी-अडाणी कंपनी के सभी प्रोडक्ट्स के बहिष्कार की मुहिम भी चला रहे हैं। किसानों ने जिओ सिम के पैकेट जला कर विरोध किया है।

किसान नेता ‘रिलायंस जियो’ से खासा नाराज़ नज़र आए। उन्‍होंने कहा कि जियो के सिम पोर्ट कराने के लिए अभियान चलेगा। आंदोलन से जुड़े सभी किसान रिलायंस और अडाणी के सभी उत्‍पादों का बहिष्‍कार करेंगे।

कृषि संगठनों का क्‍या है आरोप?

कुछ किसान समूहों ने आरोप लगाया है कि अडाणी ग्रुप ऐसी फैसिलिटीज तैयार कर रहा है जहां अनाज स्‍टोर करके रखा जाएगा और बाद में उन्‍हें ऊंची कीमत पर बेचा जाएगा। वहीं, कंपनी ने अपने ताजा बयान में कहा है कि ‘वर्तमान मुद्दों के सहारे जिम्‍मेदार कॉर्पोरेट पर कीचड़ उछालने की कोशिश की जा रही है।’

READ:  बॉलीवुड का ये कलाकार लखनऊ में खोल रहा अस्पताल

मुकेश अंबानी और गौतम अडानी, दोनों की नजरें भारत के कृषि क्षेत्र पर हैं।  साल 2017 में अंबानी ने कृषि क्षेत्र में निवेश की अच्‍छा जताई थी। जियो प्‍लेटफॉर्म की फेसबुक के साथ पार्टनरशिप हुई है। जियोकृषि नाम का एक ऐप भी है जो खेत से प्‍लेट तक सप्‍लाई चेन तैयार करेगी।

कंपनी का कहना है कि वह अपने 77% फल सीधे किसानों से खरीदती है। विरोध कर रहे किसानों का कहना है कि नए कानून इस तरह से बनाए गए हैं कि उससे ऐसे बड़े कारोबारियों को फायदा होगा।

‘दिल्‍ली चलो’ की हुंकार भरी जाएगी

किसानों ने कहा कि 14 दिसंबर को पूरे देश में धरना-प्रदर्शन की तैयारी है। दिल्‍ली और आसपास के राज्‍यों से ‘दिल्‍ली चलो’ की हुंकार भरी जाएगी। राज्‍यों में अनिश्चितकाल तक के लिए धरने जारी रखे जाएंगे। 12 दिसंबर तक जयपुर-दिल्‍ली और दिल्‍ली-आगरा हाइवे को जाम कर दिया जाएगा।

READ:  उत्तर प्रदेश : अमेठी में दलित प्रधान के पति को जिंदा जलाया, हुई दर्दनाक मौत

किसानों की मांग #boycottjio

हालही में, अमृतसर में प्रदर्शनकारी किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी के पुतले फूंके थे। किसान संगठनों ने रिलांयस के पेट्रोल पंपों से तेल न भराने की भी अपील की है। सोशल मीडिया पर भी जियो के खिलाफ कैंपेन चल रहा है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।