Home » HOME » कौन है शरजील उस्मानी जिसके भाषण के बाद बवाल मच गया

कौन है शरजील उस्मानी जिसके भाषण के बाद बवाल मच गया

शरजील उस्मानी Sharjeel Usmani
Sharing is Important

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र रहे शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) के एक भाषण के बाद बवाल मचा हुआ है। एल्गार परिषद में दिए भाषण ने महाराष्ट्र की राजनीति में तूफान ला दिया है। बीजेपी ने मांग की कि महाराष्ट्र सरकार को छात्र नेता शरजील उस्मानी के मुकदमा दर्ज करना चाहिए।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) ने हिंदू समुदाय की भावनाओं का अपमान किया है। राज्य सरकार ने बीजेपी की मांगों के बावजूद उस्मानी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति महाराष्ट्र में आता है, हमारी भावनाओं का अपमान करता है, और बिना किसी कानूनी कार्रवाई का सामना किए अपने गृह राज्य लौट जाता है।

शरजील उस्मानी के इस बयान पर मचा है बवाल

महाराष्ट्र के पुणे में हाल ही में आयोजित एल्गार परिषद के एक सम्मेलन में शरजील ने  कहा था कि हिन्दुस्तान में हिन्दू समाज सड़ चुका है। जुनैद को चलती ट्रेन में मारते हैं, कोई बचाने नहीं आता है। ये जो लोग लिंचिंग करते हैं, कत्ल करते हैं। अगले दिन फिर किसी को पकड़ते हैं, फिर कत्ल करते हैं और नॉर्मल लाइफ जीते हैं। इसके अलावा भी शरजील उस्मानी ने कई तरह की अन्य बातें कही थी।

READ:  दिल्ली से छत्तीसगढ़ जा रही दुर्ग एक्सप्रेस की 4 बोगियों में लगी आग, देखें वीडियो

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि सम्मेलन में भाषणों की महाराष्ट्र पुलिस की ओर से जांच की जाएगी। देशमुख ने मीडियाकर्मियों से कहा कि अगर कुछ भी आपत्तिजनक पाया जाता है, तो हम उसके अनुसार कार्रवाई करेंगे। हालांकि, मैं इस पर और अधिक टिप्पणी नहीं कर सकता, क्योंकि पुलिस जांच चल रही है।

कौन हैं शरजील उस्मानी

शरजील उस्मानी यूपी के आजमगढ़ जिले के सिधारी इलाके का रहने वाला है। शरजील उस्मानी अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का पूर्व छात्र रहा है। शरजील उन लोगों में से एक हैं जिन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कैंपस में सीएए-एनआरसी-एनपीआर के खिलाफ विरोध किया था। इसके बाद शरजील को पिछले साल दिसंबर में उसके घर से गिरफ्तार किया गया था।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

ALSO READ