Sat. Jan 25th, 2020

groundreport.in

News That Matters..

इन 10 बिंदुओं में जानें आखिर कौन है जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद

फोटो साभार- उमर खालिद की फेसबुक वॉल से।

Who is JNUSU Leader, know about in 10 point
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 13 अगस्त। नई दिल्ली स्थित कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के बाहर सोमवार को जेएनयू (जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय) नेता उमर खालिद पर कथित तौर पर अज्ञात हमलावरों ने हमला कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमलावरों ने उन्हें धक्का देकर नीचे गिराया, और उन पर गोली चला दी, लेकिन इस हमले में खालिद सकुशल बच गए। वहीं दूसरी ओर खबर यह भी है कि घटना स्थल पर हवाई फायर किया गया था।

बहरहाल, बड़ा सवाल यह है कि आखिर कौन है उमर खालित जिसे कथित तौर पर जान से मारने की कोशिश की गई।

1) उमर खालिद जेएनयू के छात्र हैं। साल 2016 में जेनएयू विवाद के दौरान वो पहली बार मीडिया की सुर्खियों मे आए थे।

2) इस दौरान खालिद पर जेएनयू में एक कार्यक्रम के दौरान देश विरोधी नारे लगाने का आरोप लगाया गया।

3) साल 2016 में हुए इस विवाद के दौरान कथित तौर पर टाइम्स नाऊ पर प्रसारित होने वाले एक कार्यक्रम के दौरान एंकर अर्नब गोस्वामी ने पहली बार खालिद को एन्टीनेशनल बताया था।
यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने विज्ञापनों में फूंके 4,480 करोड़ रुपये, बन सकते थे 20 नए AIIMS अस्पताल

4) हांलाकि उन पर एन्टीनेशनल होने और देश विरोधी गतिविधियों में उनकी संलिप्तता के आरोप अब तक सिद्ध नहीं हो पाए हैं।

5) यूं तो खालिद महाराष्ट्र के अमरावती से ताल्लुक रखते हैं, लेकिन कुछ बरस पहले वो दिल्ली आकर बस गए।

6) मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उनके पिता सैयद कासिम रसूल इलियास दिल्ली में ही ऊर्दू की मैगजिन ‘अफकार-ए-मिल्ली’ चलाते हैं।

7) खालिद जेएनयू में स्कूल ऑफ सोशल साइंस से इतिहास में पीएचडी कर रहे हैं। खबरों की मानें तो हाल ही में उन्होंने अपनी थिसिस जमा है। इससे पहले वो जेएनयू से ही इतिहास में एमए और एमफिल भी कर चुके हैं।

8) पढ़ाई के दौरान खालिद पर कैंपस में हिंदू देवी देवताओं की आपत्तिजनक तस्वीरें लगाकर नफरत फैलाने का आरोप भी लग चुका है।
यह भी पढ़ें: 2019 में BJP की सरकार बनने के बावजूद नरेंद्र मोदी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री?

9) बीते दिनों जेएनयू द्वारा गठित एक हाई लेवल इंक्वायरी कमेटी ने उमर खालिद पर 20 हजार रुपये के जुर्माने के साथ ही यूनिवर्सिटी से निष्कासन का आदेश दिया था।

10) इस फैसले को खालिद ने हाई कोर्ट में चुनौदी दी, जहां कोर्ट ने जेएनयू प्रशासन को उमर ख़ालिद के खिलाफ कोई सख्त कदम न उठाने के निर्देश दिए थे।

समाज और राजनीति की अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर फॉलो करें- www.facebook.com/groundreport.in/

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

SUBSCRIBE