Skip to content
Home » भारत का सबसे ख़राब राष्ट्रपति किसे और क्यों कहा गया ?

भारत का सबसे ख़राब राष्ट्रपति किसे और क्यों कहा गया ?

Worst president ever in India

Worst president ever in India : देश में 15वां राष्ट्रपति चुनने के लिय 18 जुलाई को चुनाव (president election) होना है। रामनाथ कोविंद 14वें राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवा दे रहे हैं। 24 जुलाई को उनका कार्यकाल समाप्त हो जाएगा। मोदी सरकार की ओर से द्रौपदी मुर्मू को तो विपक्ष ने यशवत सिन्हा (yashwant sinha) को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है। 21 जुलाई को परिणाम आते ही देश को अपना 15वां राष्ट्रपति मिल जाएगा। (president election in India) फिलहाल NDA की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) इस चुनाव में मज़बूत उम्मीदवार नज़र आ रही हैं। ऐसी अटलकलें हैं कि उनका देश का अगला राष्ट्रपति बनना लगभग तय है।

कौन था भारत का सबसे ख़राब राष्ट्रपति

Worst president ever in India

सोशल मीडिया पर एक सवाल लोग बार-बार पूछते रहे हैं कि देश में अबतक का सबसे ख़राब राष्ट्रपति कौन हुआ है। जिसके कार्यकाल के दौरान उसकी काफी आलोचना हुई। हालांकि कि ये सवाल कितना जाएज़ है या नहीं। इस बहस में न पड़कर आपको बताते हैं कि देश के किस राष्ट्रपति को सबसे खराब बताया गया। ऐसी क्या वजह रही जिनके कारण उनके कार्यों की आलोचना हुई। आइये जानते हैं।

मुख्तार अब्बास नकवी : इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से दिल्ली की सियासत तक; पढ़ें कुछ दिलचस्प किस्से  

Was Pratibha Patil the worst Indian president ?  

हमारे देश की 12वीं राष्ट्रपति रही प्रतिभा देवी सिंह पाटिल (Former President of India Pratibha Patil) को अबतक का सबसे खराब राष्ट्रपति उम्मीदवार बताया जाता रहा है। वर्ष 2007 में प्रतिभा देवी सिंह पाटिल देश की 12वीं  राष्ट्रपति बनी थीं। लोग ऐसा मानते हैं कि देश में प्रतिभा पाटिल हमारी अब तक की सबसे खराब राष्ट्रपति हैं। (Worst president ever in India) प्रतिभा देवी पर आरोप लगे थे कि वह केवल परिवार के साथ दुनिया भर में घूमने के लिए अपनी राष्ट्रपति शक्तियों का इस्तेमाल किया और अपने पूरे कार्यकाल में राष्ट्रपति के रूप में कोई सेवा नहीं की।

Worst president ever in India

  • जानकारी के मुताबिक,  राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल (Pratibha Patil) ने उनके सभी पूर्ववर्तियों के रिकॉर्ड को पार करते हुए, उनकी विदेश यात्राओं पर सरकारी खजाने को 205 करोड़ रुपये का खर्च करने का आरोप था। इसके साथ उन्होंने अपने वेतन में 300 प्रतिशत की वृद्धि की।
  • राष्ट्रपति के रूप में पद संभालने के बाद से, प्रतिभा पाटिल (Pratibha Patil) ने चार महाद्वीपों के 22 देशों को कवर करते हुए 12 विदेश यात्राएं की हैं। उनके पास अपने पांच साल के कार्यकाल के लिए चार महीने और हैं और कहा जाता है कि वो दक्षिण अफ्रीका की यात्रा पर चली गईं।
  • प्रतिभा पाटिल ने कई बलात्कारियों की फांसी को माफ किया कई जघन्य हत्या के आरोपियों को माफ किया। इन्होंने चीफ ऑफ आर्मी कहलाने से भी मना कर दिया ये नही चाहती थी कि इन्हें सेना का संरक्षक कहा जाए। प्रतिभा पाटिल का निवास स्थान सेना के शहीदों की विधवाओं को मिलने वाली जमीन पर बना है।
  • राष्ट्रपति के रूप में प्रतिभा पाटिल के कार्यकाल पर एक और काला निशान तब आया जब उन्होंने अपने रिटायरमेंट होम का निर्माण करने के लिए पुणे में रक्षा भूमि को हथियाने की कोशिश की। फिर उसने अपने रिटायरमेंट की तैयारी करने के लिए अपने घर को फिर से भरने और पुनर्जीवित करने के लिए सरकार से पैसे लेने की कोशिश की।
  • ऐसा कहा जाता है कि राष्ट्रपति को जो तोहफ़े मिलते है। वह तोहफ़े राष्ट्रपति की निजी संपत्ति नही होती, बल्कि वह देश की संपत्ति में शामिल होती है। लेकिन राष्ट्रपति पद का कार्यकाल पूरा होने के बाद। उन्हें मिले सभी तोहफे वो एक ट्रक में भर कर अपने घर ले गई। जिसकी बहुत ही ज्यादा आलोचना भी हुई।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

TagsBJPmodiMukhtar Abbas Naqviमुख्तार अब्बास नकवीPost navigation

Eid-ul-Azha 2022 : मुस्लमान बकरीद पर जानवर क्यों काटते हैं, जानिए क्या है कुर्बानी का इतिहास ?

अभिनेता और कांग्रेस नेता राज बब्बर को किस मामले में कोर्ट ने सुनाई दो साल की सज़ा ?

%d bloggers like this: