WhatsApp Telegram

WhatsApp को भारत में अब तक का सबसे बड़ा नुकसान, Telegram 50 करोड़ के पार

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

WhatsApp vs Telegram : WhatsApp ने अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी जारी तो कर दी लेकिन अब उसे तमाम अखबार में विज्ञापन देकर सफाई देनी पड़ रही है। WhatsApp की नई पॉलिसी से उसे काफी नुकसान हुआ है और सबसे ज्यादा नुकसान भारत में हुआ है। WhatsApp ने कभी नहीं सोचा होगा जिस सोशल मीडिया के भरोसे को लेकर वह तमाम दावे करता था, वह भरोसा उसके काम नहीं आएगा।

35 फीसदी तक घटा व्हाट्सएप का डाउनलोड

WhatsApp की नई पॉलिसी जारी होने के महज सात दिनों में भारत में उसका डाउनलोड्स 35 फीसदी तक कम हुआ है। व्हाट्सएप की लगातार सफाई देने के बाद भी लोग दूसरे एप पर तेजी से शिफ्ट हो रहे हैं। इसके अलावा 40 लाख से अधिक यूजर्स ने सिग्नल (Signal) और टेलीग्राम (Telegram) एप को डाउनलोड किया है जिनमें 24 लाख डाउनलोड्स सिग्नल के और 16 लाख टेलीग्राम के हैं।

READ:  राम मंदिर नहीं, देश को स्वास्थ्य और शिक्षा की अधिक ज़रूरत

पेटीएम, फोनपे और महिंद्रा जैसी कंपनियों ने किया बहिष्कार

महिंद्रा कंपनी समूह और टाटाग्रुप के चेयरमैन सहित पेटीएम और फोनपे जैसी कंपनियों ने भी व्हाट्सएप को अलविदा कह दिया है। कंपनी के काम भी धीरे-धीरे व्हाट्सएप पर शिफ्ट हो रहे हैं। बता दें कि भारत में व्हाट्सएप के 40 करोड़ से अधिक यूजर्स हैं जो कि किसी भी अन्य देश के मुकाबले कहीं ज्यादा हैं। ऐसे में उसकी कमाई भी भारत से सबसे अधिक होगी और इसीलिए उसने नई पॉलिसी बनाई है।

टेलीग्राम के डाउनलोड का आंकड़ा 50 करोड़ के पार

टेलीग्राम ने बुधवार को बताया कि दुनियाभर में उसके डाउनलोड्स की संख्या 50 करोड़ के आंकड़े को पार कर गई है। महज 72 घंटे में टेलीग्राम पर 2.5 करोड़ नए यूजर्स रजिस्टर्ड हुए हैं। इसकी जानकारी खुद टेलीग्राम के फाउंडर पावेल दुरोव (Pavel Durov) ने दी है। दरोव ने बताया कि Telegram के पास जनवरी के पहले सप्ताह में मंथली एक्टिव यूजर्स की संख्या 50 करोड़ थी जो कि अगले सप्ताह महज 72 घंटे में 52.5 करोड़ हो गई।

READ:  Amit Shah: अमित शाह की बिगड़ी तबीयत, AIIMS में हुए भर्ती

महिला का पेट चीर कर निकाला था बच्चा, अब दोषी को मिली भयानक सज़ा

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.