अटॉर्नी, सॉलिसिटर व एडवोकेट जनरल में क्या अंतर है और ये कैसे काम करते हैं ?

अटॉर्नी सॉलिसिटर एडवोकेट जनरल
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अटॉर्नी, सॉलिसिटर व एडवोकेट जनरल : नए कृषि कानूनों के बचाव में भारत के अटॉर्नी जनरल और सॉलिसिटर जनरल, दोनों ही सुप्रीम कोर्ट के आगे दलीलें रख रहे थे। सरकार ने अपने शीर्ष कानूनी सलाहकारों को भेजा था, लेकिन अदालत में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के तर्क काम नहीं कर सके। नए कृषि कानूनों के बचाव में भारत के अटॉर्नी जनरल और सॉलिसिटर जनरल, दोनों ही सुप्रीम कोर्ट के आगे दलीलें रख रहे थे। हालांकि इसका कोई बड़ा असर नहीं पड़ा।

अटॉर्नी जनरल

  • भारत सरकार का प्रमुख कानूनी सलाहकार होता है। अटॉर्नी जनरल ऑफ इंडिया (AGI) की नियुक्ति केंद्रीय कैबिनेट की सलाह पर राष्‍ट्रपति इनकी नियुक्ति करते हैं। संविधान के अनुच्‍छेद 76(1) में अटॉर्नी जनरल के रोल की व्‍याख्या है।
  • वो भारत का नागरिक हो, उसे उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में काम करने का पांच वर्षों का अनुभव हो या किसी उच्च न्यायालय में वकालत का 10 वर्षों का अनुभव हो।
  • देश के सर्वोच्च कानून अधिकारी अटॉर्नी जनरल में मुख्‍य योग्‍यता उच्चतम न्यायालय के किसी न्यायाधीश के बराबर होनी चाहिए।
  • देश के दूसरे नंबर का कानूनी अधिकारी सॉलिस‍िटर जनरल होता है, जो अटॉर्नी जनरल की सहायता करता है।
READ:  बुढ़ानशाह महिला कमांडो: गांव को नशामुक्त करने महिलाओं ने थामी लाठी

सॉलिसिटर जनरल

  • सॉलिसिटर जनरल को चार अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल सहायता देते हैं। योग्‍यता की बात करें तो अटॉर्नी जनरल की तरह, सॉलिसिटर जनरल की योग्‍यता के भी मानक तय हैं।
  • सॉलिसिटर विधि अधिकारियों (नियम और शर्तें) नियम, 1972 के संदर्भ में भारत में सॉलिसिटर जनरल सरकार को सलाह देते हैं और उनकी ओर से पेश होते हैं। सॉलिसिटर जनरल की नियुक्‍त‍ि कैबिनेट समिति सॉलिसिटर जनरल की नियुक्ति करती है।

एडवोकेट जनरल

  • एडवोकेट जनरल यानी महाधिवक्ता राज्य प्रमुख को विधि संबंधी सलाह देने का कार्य करता है। वो राज्य के दोनों सदनों ( विधानसभा तथा विधान परिषद ) की कार्यवाही में और सदन में बोलने की शक्ति रखता है।
READ:  IFFCO ने लिया अहम फैसला, किसानों को दी बड़ी राहत

Whatsapp की बैंड बजा रहा है Signal App आपने किया क्या डाउनलोड?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।