सेरोलॉजिकल सर्वे क्या होता है

क्या है सेरोलॉजिकल सर्वे, दिल्ली में कैसे कम कर सकता है कोरोना का खतरा?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राजधानी दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने जल्द ही सेरोलॉजिकल सर्वे (Serological Survey) कराने का निर्णय लिया है। अब सेरोलॉजिकल सर्वे या सेरो सर्वे क्या है और कैसे ये कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने में काम आएगा आइए जानते हैं।

क्या है सेरो सर्वे?

केंद्रीय स्वास्थय मंत्रालय ने 11 मई को सेरो सर्वे कराने का निर्देश दिया था जिसके तहत देश के अलग-अलग राज्यों और कन्टेनमेंट जोन में कोरोना वायरस किस हद तक पहुँच गया है ये पता लगाया जाएगा। इस सर्वे के लिए ब्लड सैंपल लिए जा रहे हैं और ये पता लगाया जा रहा है कि कितने लोगों के शरीर में कोरोना के लिए ऐंटीबॉडी बनी है।

ALSO READ: गंध और स्वाद महसूस ना होना भी अब कोरोनावायरस के लक्षण में शामिल

कौन करेगा सेरोलॉजिकल सर्वे?

इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (ICMR) का ये सर्वे कन्टेनमेंट जोन के लिए एक नई रणनीति साबित होगा। यह सर्वे ICMR का National Institute of Epidemiology (NIE) और National Institute for Research in Tuberculosis मिल कर कर रहे हैं। इनके अलावा राज्यों के स्वास्थय विभाग भी इसमें सहयोग करेंगे।

ALSO READ:  क्या मास्क लगाने से हो सकती है ये गंभीर बीमारी?

कैसे होगा सेरोलॉजिकल सर्वे?

सेरो सर्वे के लिए देश को दो हिस्सों में बांटा गया हैं, पहले हिस्से में देश के वो राज्य और जिले हैं जहाँ कोरोना का संक्रमण तेज़ी से फ़ैल रहा हैं और संक्रमित मरीज़ों की संख्या बहुत ज्यादा हैं। जैसे मुंबई, पुणे, ठाणे, दिल्ली, कोलकाता, अहमदाबाद, इंदौर, जयपुर, सूरत और चेन्नई। दूसरे हिस्से में देश के वो राज्य और जिले हैं जहाँ कोरोना के मामले जीरो, लो (कम), मीडियम (थोड़ा ज्यादा), हाई (बहुत ज्यादा) हैं। सर्वे में RT-PCR और एलिसा ऐंटीबॉडी किट्स का उपयोग किया जाएगा।

दिल्ली में कब कराया जाएगा सेरो सर्वे?

दिल्ली में 27 जून से 10 जुलाई के बीच कराया जाएगा सेरोलॉजिकल सर्वे। इस सर्वे के दौरान करीब 20 हज़ार लोगों का सैंपल टेस्ट किया जाएगा और कन्टेनमेंट जोन के बाहर उन घरों की सूची लगाई जाएगी जहाँ कोरोना का खतरा है, ताकि लोग सावधान रहें। इनके अलावा कांटेक्ट ट्रेसिंग और क्वॉरंटीन पर भी ज़ोर दिया जाएगा।

आपको बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने भी सेरो सर्वे किया था जिसके नतीजे अभी तक संसथान द्वारा घोषित नहीं किए गए हैं। दिल्ली में अब तक कोरोना के कुल 62 ,655 मामले हैं जिनमे से 36 ,602 लोग कोरोना मुक्त हो चुके हैं वहीं 22 ,33 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है।

Written by Jyoti Dubey, She is a final year Post Graduation student of Journalism and News Media from GGSIPU, New Delhi.

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

1 thought on “क्या है सेरोलॉजिकल सर्वे, दिल्ली में कैसे कम कर सकता है कोरोना का खतरा?”

  1. Pingback: बीते 4 दिन में चार बार भूकंप से हिला मिज़ोरम | groundreport.in

Comments are closed.