प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम

क्या होता है प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम ?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हर एक लड़की की बढ़ती उम्र के साथ हॉर्मोनल चैंजेस भी आते हैं। इस कारण प्रीमेन्स्ट्रुअल सिन्ड्रोम (PMS) की प्रॉब्लम भी बढ़ जाती है। करीब 85 प्रतिशत महिलाएं पीएमएस का अनुभव करती हैं। वहीं 40 प्रतिशत महिलाओं को इस दौरान तनाव होता है। वहीं 2 से 3 प्रतिशत लोग तनाव की शिकार हो जाती है। जिसका असर उनके आम दिनचर्या पर पड़ता है। अगर पीएमएस इतना गंभीर हो जाए कि आपको एक साधारण ज़िंदगी जीने से रोके, तो इसे ‘प्री-मेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसॉर्डर’ या पीएमडीडी कहते हैं।

प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम ?

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) महिलाओं से जुड़ी ऐसी समस्या है, जिसका असर इमोशनल डिसॉर्डर के रूप में ज्यादा सामने आता है। प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम मेंस्ट्रुअल साइकिल या हार्मोंस में गडबडी के कारण नहीं बल्कि हार्मोंस में बदलाव के कारण होता है। इसके कारण शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर भी बढ़ जाता है, जिससे चिड़चिड़ापन, मूड स्विंग होना और तनाव जैसे लक्षण दिखाई देते हैं और महिलाएं इसे प्रेगनेंसी समझ लेती हैं।

READ:  Why 759 crore failed to revive iconic Dal Lake?

85% औरतों को होती है ये समस्या

पीरियड्स शुरू होने के 5-11 दिन पहले लगभग 85% महिलाओं को पीएमएस के लक्षण महसूस होते हैं। जैसे ही मासिक धर्म शुरू हो जाता है ये लक्षण खत्म हो जाते हैं। वहीं 20-32% महिलाएं PMS के गंभीर लक्षण महसूस करती हैं जिसके कारण उन्हें पीरियड्स के समय काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

डॉक्टर्स का कहना है कि जब महिलाओं के शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण पीएमएस होता है तो उन्हें शरीर में दर्द महसूस होता है। खासकर ब्रेस्ट या फिर पेट पर। वहीं कई लड़कियों का मूड अचानक बदल जाता है। वह गुस्सैल होने के साथ-साथ छोटी सी बात में रो या फिर हंस देती हैं।

READ:  कुणाल चौधरी का शिवराज-सिंधिया पर निशाना, कहा- बिकाऊलालों ने सरकार गिराकर अपने घर में करोड़ो रुपये भर लिए हैं

मानसिक बीमारियों की सूचि ‘डायगनॉस्टिक एंड स्टैटिस्टिकल मैन्युअल ऑफ़ मेंटल डिसॉर्डर्स’ (डीएसएम) में पीएमडीडी के कुछ लक्षण दिए गए हैं। अगर आपको इनमें से कुछ आपको महसूस होते हैं तो इसका मतलब आप पीएमडीडी से पीड़ित हो सकते हैं।

1. डिप्रेशन और आत्महत्या करने के ख़्याल

2. अक्सर रोना आना

3. काम में मन न लगा पाना

4. थकान और एनर्जी की कमी

5. बहुत ज़्यादा या कम खाना

6. बहुत ज़्यादा या बहुत कम नींद आना

7. पसंद की चीज़ों में मन न लगा पाना

8. पेटदर्द, सिरदर्द, जोड़ों का दर्द जैसे शारीरिक लक्षण

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.