Skip to content
Home » अल-जवाहरी को मारने वाली अमेरिकी मिसाइल Hellfire R9X चर्चा में क्यों ?

अल-जवाहरी को मारने वाली अमेरिकी मिसाइल Hellfire R9X चर्चा में क्यों ?

अल-जवाहरी

Al-Zawahiri : अमेरिका ने एक बार फिर अपनी शक्ति का प्रदर्शन दुनिया को दिखाया। अल-कायदा चीफ अल-जवाहरी (al-Qaida leader Ayman Al-Zawahiri)अफगानिस्तान के काबुल स्थित उसके घर में दो मिसाइलों से हमला कर मार गिराया। इस हमले की जानकारी देते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने बताया कि कुख्यात अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी मार गिराया गया है।

वहीं, इस हमले के बाद सबसे अधिक चर्चा इस ऑपरेशन में इस्तेमाल की गईं मिसाइलों के लेकर है। आइये जानते हैं क्यों चर्चा में अमेरिका का यह ऑपरेशन।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अल-जवाहिरी (Al Qaeda Chief) अफगानिस्तान के काबुल स्थित अपने घर पर था। तब ही दागी गई दो मिसाइलों (Missiles) ने इसे मार गिराया। लेकिन इन मिसाइलों के हमले में कोई विस्फोट देखा गया।

अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि किसी अन्य आदमी को इस कार्रवाई में कोई नुकसान नहीं हुआ है। इस तरह के ऑपरेशन से अमेरिका द्वारा मैकाब्रे हेलफायर R9X मिसाइल के प्रयोग के कयास लगाए जा रहे हैं।

मैकाब्रे हेलफायर R9X मिसाइल

  • मैकाब्रे हेलफायर R9X (Hellfire R9X) एक वारहेड-कम मिसाइल है, जो छह रेजर जैसे ब्लेड से लैस होती है। इसमें लगे ब्लेड अपने लक्ष्य को काटते हैं, लेकिन विस्फोट नहीं करते।
  • इसके पहले भी पेंटागन या सीआईए द्वारा कभी सार्वजनिक रूप से इसके इस्तेमाल की बात को स्वीकार नहीं किया गया।

एक अमेरिकी अधिकारी ने बताया कि 31 जुलाई की सुबह अल कायदा चीफ जवाहिरी अपने काबुल स्थित आवास की बालकनी पर अकेले खड़ा था, तभी एक अमेरिकी ड्रोन ने दो हेलफायर दागे।

अधिकारी ने कहा कि जवाहिरी के परिवार के सदस्य घर में मौजूद थे, लेकिन उन्हें निशाना नहीं बनाया गया और उन्हें नुकसान नहीं पहुंचाया गया। अधिकारी ने कहा, “हमारे पास इस बात के कोई संकेत नहीं हैं कि इस हमले में नागरिकों को नुकसान पहुंचा है।”

अमेरिका के इस हमले की तालिबान सरकार ने कड़ी निंदा की है। अफगानिस्तान की तालिबान सरकार के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने इस कार्रवाई की आलोचना की है। साथ ही, अंतरराष्ट्रीय मानकों और दोहा समझौते का उल्लंघन बताया है।

कौन था Al-Zawahiri

अमेरिका को पिछले 21 साल से अल-जवाहिरी की तलाश थी। दुनिया के कई एक्सपर्ट के मुताबिक 11 सितंबर 2001 में अमेरिका में हुए हमले के पीछे असली दिमाग जवाहिरी का ही था।

अयमान अल-जवाहिरी ने साल 2011 में ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद अलकायदा की कमान संभाली थी।

अयमान अल-जवाहरी ने अलकायदा की नींव रखने में बड़ी भूमिका निभाई थी। आतंकी गतिविधियों में शामिल होने से पहले जवाहिरी मुख्य तौर पर पर आंख का डॉक्टर था।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitterKoo AppInstagram, and Whatsapp and Subscribe to our YouTube channel. For suggestions and writeups mail us at GReport2018@gmail.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: