Home » Godi Media : क्या है गोदी मीडिया? कौन है इसके टॉप पत्रकार?

Godi Media : क्या है गोदी मीडिया? कौन है इसके टॉप पत्रकार?

Godi Media : क्या है गोदी मीडिया ? कौन है इसके टॉप पत्रकार ?
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk |Godi Media| Who are Godi Media? गोदी मीडिया एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार द्वारा बनाया और इस्तेमाल किये जाने वाला एक कठबोली शब्द है। गोदी मीडिया का तात्पर्य मीडिया के उस वर्ग से है जो वर्तमान मोदी सरकार के पक्ष में समाचार प्रसारित कर रहा है। इस शब्द का मोदी नाम से जोड़कर बनाया गया ताकि इससे उनके बारे में पता चले।

क्या है गोदी मीडिया ? What is Godi Media ?

अधिकांश भारतीय मीडिया हाउस जो पूरी तरह से पक्षपाती हैं और वर्तमान सत्तारूढ़ सरकार के हित में काम कर रहे हैं, वह गोदी मीडिया कहलाते हैं। नरेंद्र मोदी के देश के प्रधानमंत्री बनने के बाद से पिछले कुछ सालों से गोदी मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है। राजनीतिक प्रवक्ता (न्यूज डिबेट होस्ट सहित) दर्शकों को यह कहकर भड़काते हैं कि उनका धर्म खतरे में है क्योंकि उनके समुदाय के सदस्यों की संख्या घट रही है और उन्हें जागने की जरूरत है और वे बताते हैं कि अन्य धर्म उनके विश्वास को तोड़ते हैं और दावा करते हैं कि यह विश्वास उनके खिलाफ है।

Farmers protest के छह महीने पूरे, संयुक्त किसान मोर्चा ने घोषित किया काला दिवस

देश के हित में, मीडिया की बहस में, ये प्रवक्ता शासकों (जिन्होंने हजारों साल पहले भारत पर शासन किया था) के बारे में बताते हैं और उनके शासन की आलोचना करते हुए उनकी तुलना आज के उस समुदाय से करते हैं जिसका की वो कथित शासक रहता है (उसी प्रकार घृणा को फैलते है जैस हिटलर यहूदियों के खिलाफ जर्मनी के लोगों को करता था ), गोदी मीडिया रात 9 बजे कार्यक्रम अपना प्रमुख प्रोग्राम चलाता है (जब अधिकांश दर्शक टीवी के सामने बैठते हैं उनसे / देश संबंधित समाचार सुनने के लिए) इस कार्यक्रम को देख कर पता चल जायेगा की कौनसा चैनल किस प्रकार के एजेंडा को बढ़ावा दे रहा है।

READ:  मध्यप्रदेश में बिना किसी आधिकारिक सूचना के आदिवासी समुदाय को किया बेघर

इनको कैसे पहचाने ?

  • वे बेवजह पीएम की तारीफ कर रहे होंगे
  • वे देशों के वास्तविक मुद्दों के बजाय धार्मिक आधार पर (समुदायों के बीच घृणा और भय को भड़काने के लिए) बहस करेंगे।
  • अगर सरकार के फैसलों का विरोध हो रहा है तो गोदी मीडिया का दावा है कि ये विरोध देश के खिलाफ हैं।

गोदी मीडिया शब्द की शुरुआत कैसे हुई?
गोदी मीडिया को एनडीटीवी के पत्रकार और संपादक रवीश कुमार ने लोकप्रिय बनाया और उनके सहयोगियों ने सरकार के स्वामित्व वाले मीडिया चैनलों और टीआरपी के पीछे भागने वाले चैनेलो को इस सूची में डाला, तब से ये शब्द चर्चा में है।

भारत में किन चैनलों को गोदी मीडिया माना जाता है? Which channels are considered as godi media?

गोदी मीडिया में मीडिया हाउस और समाचार संगठनों में ज़ी न्यूज़, टाइम्स नाउ, रिपब्लिक भारत, रिपब्लिक टीवी, आज तक, एबीपी न्यूज़, सुदर्शन न्यूज़, सीएनएन-न्यूज़ 18, इंडिया टीवी, इंडिया टुडे नेटवर्क शामिल हैं।

कहीं कोई कैमरा शवों की गिनती न कर ले इसलिए शवों से चुनरी और लकड़ियां हटा रही योगी सरकार: Srinivas

READ:  zika virus New Update: जीका वायरस के लक्षण व बचने के उपाय

भाजपा के कार्यकाल में शीर्ष गोदी मीडिया एंकर | Top Godi Media Anchors
सोशल मीडिया यूजर्स ने मीडिया घरानों के इन शीर्ष पत्रकारों को “गोदी मीडिया” के हिस्से के रूप में संदर्भित करके दिया है। कुछ पत्रकारों के नाम :

  • रजत शर्मा (इंडिया टीवी)
  • सुधीर चौधरी (ज़ी न्यूज़)
  • अमीश देवगन (News18)
  • रुबिका लियाकत (एबीपी न्यूज)
  • अर्नब गोस्वामी (रिपब्लिक टीवी)
  • अंजना ओम कश्यप (आज तक)

Disclaimer: The opinions expressed within this article are the personal opinions of the author. The facts and opinions appearing in the article do not reflect the views of Ground Report and Ground Report does not assume any responsibility or liability for the same.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।