Home » Varanasi: बर्थडे मनाने के लिए घर से पैसे न मिलने पर नदी में कूदा युवक लापता

Varanasi: बर्थडे मनाने के लिए घर से पैसे न मिलने पर नदी में कूदा युवक लापता

Varanasi
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Varanasi: अपने पिता का वाराणसी(Varanasi) में जन्मदिन (birthday)मनाने के लिए पैसे नहीं देने पर राजघाट के मालवीय पुल से एक युवक ने गंगा नदी में छलांग लगा दी(boy jumped in the river)। युवक के नदी में कूदने के तुरंत बाद उसके पिता भी उसे बचाने के लिए कूद पड़े। यह घटना शनिवार की है। पुल के नीचे तैनात गोताखोरों ने पिता को बचा लिया, लेकिन बेटे का पता नहीं चल सका। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और पुलिस तब से बेटे की तलाश कर रही है, लेकिन अभी तक कोई खबर नहीं है।

लव जिहाद: हिंदू अभिनेताओं से शादी करने वाली 8 मुस्लिम अभिनेत्रियां

2000 रुपए के लिए कूद गया नदी में

पुलिस के अनुसार, मनोज केसरी के बेटे अश्विनी केसरी ने नदी में छलांग लगा दी, क्योंकि उनके परिवार ने उन्हें जन्मदिन मनाने के लिए 2,000 रुपये देने से इनकार कर दिया था। नाराज अश्विनी फिर घर से बाहर निकल आए और राजघाट पुल की ओर चले गए जहां से उन्होंने नदी में छलांग लगा दी। बेटे को बचाने के लिए उसके पिता मनोज भी कूद पड़े।

READ:  Cabinet Expansion 2021: 43 में से 7 UP से, Scindia-Minakshi को जगह, Nisith Pramanik सबसे युवा मंत्री!मोदी के नए कैबिनेट मंत्रिमंडल ने ली शपथ, जिनमें शामिल हुए उत्तरप्रदेश के 7 मंत्री

गोताखोरों द्वारा बचाए गए मनोज को वाराणसी के कबीर चौरा संभागीय अस्पताल में ले जाया गया, काफी देर के चले उपचार के बाद उन्हें होश में लाया गया।
आदमपुर थाना प्रभारी निरीक्षक सिद्धार्थ मिश्रा ने बताया कि टीम एनडीआरएफ के सहयोग से अश्विनी की तलाश कर रही थी, लेकिन उसका पता नहीं चल सका।

जूडो-कराटे में 7 साल के बच्चे को 27 बार पटका, 70 दिन कोमा में रहा, अंत में मौत

निम्न स्तरीय परिवार से था अश्विनी

मनोज केसरी वाराणसी के गोला दीनानाथ इलाके में जनरल स्टोर चलाते हैं। उनकी आर्थिक स्थिति ज्यादा ठीक नहीं है। उनके घर में सिर्फ वे ही एक कमाने वाले इंसान हैं जो की जनरल स्टोर की दुकान से घर का खर्च संभालते हैं। कॉविड के चलते सभी मिडिल क्लास फैमिली में आर्थिक तंगी देखी जा रही है। मिडिल क्लास लोग कुछ इस प्रकार है जो कि न तो मांग के खा सकते है और न ही बाहर कमाने जा सकते हैं ऐसे में बचत के पैसों से ही महामारी के समय में जूझना एक उपचार दिखाई देता रहा है।

READ:  Cricketer Yashpal Sharma: 1983 वर्ल्ड कप जीत के हीरो पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा का निधन

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।