‘Van Rakshak’: हिंदी-हिमाचली कलाकारों का तानाबाना है निर्देशक पवन कुमार की फिल्म वन रक्षक

Film Van Rakshak director pawan kumar sharma actor dhirendra thakur falak khan debue film van rakshak releas soon
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report News Desk | Komal Badodekar

निर्देशक पवन कुमार शर्मा की अगली फीचर फिल्म “वन रक्षक” साल 2020 में बड़े पर्दे पर रीलिज़ होगी। ग्लोबल वॉर्मिंग और प्रकृति को सहेजने का संदेश देती इस फिल्म की शूटिंग हिमाचल के विभिन्न इलाकों में संपन्न हो चुकी है। अब इस फिल्म के तीसरे चरण यानी पोस्ट प्रोडक्शन जैसे एडिटिंग, प्रमोशन प्लानिंग और रीलिज़िंग पर काम किया जा रहा है।

एग्ज़िक्युटिव प्रोड्यूसर और चीफ असिस्टेंट डायरेक्टर स्वेता दत्त ने ग्राउंड रिपोर्ट को जानकारी देते हुए बताया कि यह फिल्म एक फॉरेस्ट गार्ड की आपबीती है जो बचपन से ही अपनी धरती मां से प्रेम करता है। इस फिल्म की थीम ग्लोबल वॉर्मिंग और प्राकृतिक संरक्षण पर आधारित है।

READ:  क्या उत्तराखंड की बढ़ती गर्मी बनी वहाँ जंगलों में लगी आग का सबब?

लेखक जितेंद्र गुप्ता ने इस फ़िल्म में प्राकृतिक संरक्षण और विकास को बड़े अच्छे तरीके से जोड़ा है। JMK एंटरटेनमेंट और शैलजा सिनेमैटिक्स प्राइवेट लिमिटेड के बैनर तले बन रही इस फिल्म को इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल और नेशनल फिल्म अवॉर्ड के लिए भेजा जाएगा। इस फिल्म को दो भाषा-हिंदी और हिमाचली में बनाया जा रहा है।

इस फिल्म में मुख्य भूमिका में धीरेंद्र ठाकुर और फ़लक खान हैं। ये फ़िल्म इन दोनों ही कलाकारों की डेब्यू फिल्म है। वहीं अभिनेता आदित्य श्रीवास्तव, यशपाल शर्मा और राजेश जैश जैसे कलाकार इस फिल्म में अहम किरदार अदा करते नज़र आएंगे।

एक ओर जहां फिल्म ‘वन रक्षक’ हिंदी और हिमाचली कलाकारों का एक ताना-बाना है तो वहीं दूसरी ओर शुभा मुदगल, हंसराज रघुवंशी, कुलदीप शर्मा जैसे पार्श्व गायकों ने इस फिल्म के गीतों अपनी खूबसूरत आवाज़ दी है।

READ:  भारत के लिए Net-Zero होना इतना मुश्किल क्यों है?

वनरक्षक महज़ एक काल्पनिक कहानी नहीं बल्कि एक ऐसा सच, एक ऐसा सवाल है जिससे हम चाहकर भी भाग नहीं सकते हैं और यह सवाल मनुष्य के धरती पर असंतुलित विकास और पर्यावरण की सुरक्षा के बीच चुनाव का है।

एक्टर धीरेन्द्र ठाकुर इस फिल्म के मुख्य किरदार चिरंजीलाल चौहान नामक वन रक्षक का रोल अदा कर रहे हैं। फिल्म की कहानी वन रक्षक चिरंजीलाल के इर्दगिर्द घूमती नजर आती है जो जंगलों को सुरक्षित रखने की बात कहता है।

फिल्म वन रक्षक एक ओर जहां लोगों को ग्लोबल वॉर्मिंग के खतरे से सचेत करते हुए नज़र आती है तो वहीं दूसरी ओर ये फिल्म लोगों को प्राकृतिक सरंक्षण का संदेश भी बखूबी देती नज़र आएगी।

READ:  जंगल, पहाड़ और मैदान बर्बाद करने के बाद अब हम मरुस्थलों को भी उजाड़ने में लगे हैं