Home » वैक्सीन का वर्ल्ड रिकॉर्ड या पब्लिसिटी स्टंट ? अचानक कैसे बना इतना बड़ा कीर्तिमान !

वैक्सीन का वर्ल्ड रिकॉर्ड या पब्लिसिटी स्टंट ? अचानक कैसे बना इतना बड़ा कीर्तिमान !

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Vaccination | Vaccination world record or publicity stunt ? | भाजपा की तरफ से दावा किया जा रहा है की 21 जून को टीकाकरण की गति ने विश्व भर में रिकॉर्ड बना दिया है। केंद्र सरकार का कहना है की वैक्सीन की कमान उनके हाथ में आने से ऐसा संभव हो सका। हालाकिं डाटा कुछ और ही दर्शाता है, जानकारी के मुताबिक भाजपा शाषित प्रदेशों में 21 जून से पहले टीकाकरण की रफ्तार धीमी कर दी गयी थी ताकि सोमवार को संख्या में उछाल दिखाया जा सके।

यह भी पढ़े : फरवरी 2020 को समाप्त होने वाले गाड़ियों के परमिट की वैधता 30 सितम्बर तक बढ़ी

सोमवार यानी की 21 जून को देश में 86 लाख वैक्सीन लगी थी, जिसमे से की अकेले मध्य प्रदेश में 16.9 लाख लोगों को टीका लगाया गया था, हालाकिं टीकाकरण के सरकारी प्लेटफार्म कोविन से पता चला की रविवार को मध्य प्रदेश में सिर्फ 692 टीके ही लगे थे। स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने ट्वीट कर बताया की मोदी सरकार ने एक दिन में इतना टीकाकरण करके नया विश्व कीर्तिमान बनाया है, पर 9 जून को अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संसथान ‘नेचर’ में छपी खबर के मुताबिक चीन ने एक हफ्ते तक रोज़ 2 करोड़ लोगों को टीका लगाया।

मध्य प्रदेश में वैक्सीन की रफ्तार 17 जून से ही धीमी होना शुरू हो गयी थी, जहाँ 16 जुलाई को 338,847 डोज़ लगाए गए थे, वही 17 जून को 124,226, 18 जून को 14,862, 19 जून को 22,006, 20 जून को 692 डोज़ लगे। अगर राज्य ने टीकाकरण के उसी स्तर को बनाए रखा होता जैसा कि 16 जून को देखा गया था, तो उसने चार दिनों में लगभग 13.5 लाख खुराकें वितरित की होतीं, पर असल में महज़ 1.6 लाख डोज़ ही दिए गए। चार दिन में बचाये गए लगभग 12 लाख डोज़ की मदद से ही सोमवार को रिकॉर्ड बनाया जा सका। इसके बाद 22 जून को राज्य में महज़ 4,563 डोज़ ही लगे।

READ:  Covid-19 vaccination for children

अन्य राज्यों के हालत | Vaccination in other states

अन्य राज्यों में भी यही हुआ, कर्नाटक में 21 जून को 11 लाख से अधिक डोज़ लगाए गए जबकि 20 जून को 68,172 डोज़ ही लगे थे। उत्तर प्रदेश में सोमवार को 7,25,898 डोज़ लगे जबकि 20 जून को 8,800 डोज़ ही लगे। असम में 21 तारीक को 360,707 डोज़ लगे और रविवार को 33,654 टीके लगाए गए। कांग्रेस के राज्यों में संख्या में ज़्यादा अंतर नहीं आया, जैसे महाराष्ट्र में 383,495 डोज़ दिए गए थे 21 जून को तो 19 जून को 381,765 डोज़ दिए गए थे। वहां रविवार को 113,109 खुराक दी गयी पर यह रविवार जितना ही था, और उछाल में पिछले दिनों के बराबर कोई अंतर् नहीं था।

राजस्थान में सोमवार को 4.46 लाख डोज़ दिए गए जो की 11 जून को भी वैसा ही हुआ था। केवल भाजपा के शाशन वाले प्रदेशों में इस प्रकार के धीमेपन और उछाल के कारण 21 जून के कीर्तिमान को मोदी सरकार का पब्लिसिटी स्टंट माना जा रहा है। शुरुआत में वैक्सीन खरीदने का काम केंद्र के हाथों में था पर दूसरी लहर के दौरान जब टीके कम पड़ने लगे तो ये कमान राज्यों के हाथों में दे दी गयी, पर आलोचनाओं और सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद केंद्र ने 7 जून को घोषणा कर दी की फिरसे पहले की तरह वैक्सीन केंद्र द्वारा ही दी जाएँगी 21 जून से।

READ:  42% ministers of Modi government are tainted: ADR report

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।