Home » कानपुर: ‘विकास दुबे गैंग’ की पुलिस पर फायरिंग, DSP समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत

कानपुर: ‘विकास दुबे गैंग’ की पुलिस पर फायरिंग, DSP समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत

uttar-pradesh-eight-policemen-killed-in-encounter-with-criminals-vikas-dubey-in-kanpur-22070
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तरप्रदेश के कानपुर में गुरुवार देर रात हिस्टी शीटर विकास दुबे के ठिकाने पर दबिश देने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने अचानक अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। इसमें सर्कल ऑफिसर (डीएसपी) और 3 सब इंस्पेक्टर समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। पुलिस चौबेपुर थाना इलाके के एक गांव में हिस्ट्री शीटर विकास दुबे को पकड़ने गई थी, लेकिन उसकी गैंग ने पुलिस पर घात लगाकर छत से हमला कर दिया और विकास दुबे फरार हो गया।

बदमाश पुलिस के कई हथियार भी लूट ले गए। उधर, पुलिस ने बताया कि घटना के बाद एनकाउंटर में विकास दुबे के 3 साथियों को मार गिराया गया है। डीजीपी एचसी अवस्थी ने बताया कि विकास दुबे के खिलाफ कानपुर के राहुल तिवारी ने हत्या के प्रयास का केस दर्ज कराया था।

READ:  ऑक्सीजन टास्क फोर्स में शामिल 12 लोग कौन हैं? ये Task Force कैसे काम कर रही है?

इसके बाद पुलिस उसे पकड़ने के लिए बिकरू गांव गई थी। पुलिस को रोकने के लिए बदमाशों ने पहले से ही जेसीबी से रास्ता रोक रखा था। अचानक छत से फायरिंग शुरू कर दी गई। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसटीएफ की टीम को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने यूपी के सभी बॉर्डर सील कर दिए हैं।

इस मुठभेड़ में डीएसपी देवेंद्र मिश्र, एसआई अनूप कुमार सिंह, एसआई नेवूलाल, एसओ महेश चंद्र यादव, कॉन्स्टेबल सुल्तान सिंह, कॉन्स्टेबल राहुल, कॉन्स्टेबल जितेंद्र और कॉन्स्टेबल बबलू की मौत हो गई है। इसके अलावा बिठूर थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह समेत 7 पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। इनका इलाज रीजेंसी हॉस्पिटल में चल रहा है।

READ:  उत्तर प्रदेश में Coronavirus और Lockdown की बदहाली बताते-बताते कैमरे पर रो पड़ा रिपोर्टर

बता दें कि विकास दुबे उत्तर प्रदेश का कुख्यात बदमाश है। एसटीएफ ने 31 अक्टूबर 2017 को लखनऊ के कृष्णानगर क्षेत्र से विकास दुबे को गिरफ्तार किया था। कानपुर पुलिस ने उसके खिलाफ 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। वह कुछ दिन पहले ही जेल से बाहर आया था।