इस्लाम में सानेटाईज़र का इस्तेमाल हराम है

‘इस्लाम में सैनेटाईज़र हराम है, हम अल्लाह के घर को नापाक नहीं होने देंगे’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


इस्लाम में अल्कोहल का इस्तेमाल नाजायज़ है और मुसलमानों को सैनेटाईज़र इस्तेमाल करके अपनी नमाज़ बर्बाद नहीं करनी चाहिए, बल्कि अपने हाथों और मस्जिद की सफाई के लिए साबुन , शैम्पू और सर्फ़ का इस्तेमाल करना चाहिए ।

शहर इमाम खुर्शीद आलम

ज्योति दुबे। ग्राउंड रिपोर्ट

अनलॉक -1 में 8 जून से सभी धार्मिक स्थल खोलने और सीमित संख्या में लोगों को जाने की अनुमति दी गई । केंद्र द्वारा ज़रूरी गाइडलाइन्स के तहत अल्कोहल ( Alcohol ) युक्त सैनिटाइज़र ( Sanitizer ) से सभी धार्मिक स्थलों को सैनिटाइज़ करना अनिवार्य किया गया । ऐसे में उत्तर प्रदेश के बरेली में दरगाह आला हज़रत के सुन्नी मरकज़ दारुल इफ्ता के मुफ़्ती नश्तर फ़ारूक़ी का कहना है कि इस्लाम में अल्कोहल हराम है , इसलिए हम अल्लाह के घर को अल्कोहल वाले सैनिटाइज़र से नापाक नहीं होने देंगे।

मुफ़्ती का कहना है कि मस्जिदों में सैनिटाइज़र के इस्तेमाल का मतलब है, मस्जिदों को नापाक करना और नापाक जगह या नापाकी के साथ नमाज़ नहीं हो सकती और ऐसा करना एक गुनाह है । उन्होंने मस्जिदों के इमामो और मस्जिद कमिटी से अपील की है कि मस्जिदों में अल्कोहल वाले सैनिटाइज़र का इस्तेमाल बिलकुल न किया जाए ।

ALSO READ: सिंधिया खेमे की इमरती देवी का ऑडियो वायरल, कहा- आंखें फुड़वा दूंगी!

ALSO READ: रतलाम: हाथ चूमकर इलाज करता था तांत्रिक, कोरोना से मौत

शहर इमाम खुर्शीद आलम का कहना है कि इस्लाम में अल्कोहल का इस्तेमाल नाजायज़ है और मुसलमानों को उसका इस्तेमाल करके अपनी नमाज़ बर्बाद नहीं करनी चाहिए, बल्कि अपने हाथों और मस्जिद की सफाई के लिए साबुन , शैम्पू और सर्फ़ का इस्तेमाल करना चाहिए ।

इस फतवे पर ऑल इंडिया तंजीम उलमा – ए इस्लाम के जनरल सेक्रेटरी मौलाना सहाबुद्दीन रज़वी ने कहा कि मस्जिदों में साफ़ सफाई बहुत ज़रूरी है । हुकूमत ने भी गाइडलाइन्स जारी की हैं जिसमे अल्कोहल युक्त सैनिटाइज़र से मस्जिदों को साफ़ करने की बात कही गई है क्यूंकि इस्लाम में अल्कोहल का इस्तेमाल ठीक नहीं है , इसलिए एक अमिलिया जारी किया गया जिसमे अल्कोहल वाले सैनिटाइज़र के अलावा बाकि चीज़ों से साफ़ सफाई करने को कहा गया । घर से निकलते वक़्त मास्क लगाना और नमाज़ के लिए खुद की चटाई साथ लाने को भी कहा गया है ।

सहारनपुर स्थित दारुल उलूम देवबंद ने भी मस्जिदों में अल्कोहल युक्त सैनिटाइज़र के इस्तेमाल को हराम बताया है और अपील की है कि अल्कोहल वाले सैनिटाइज़र के इस्तेमाल के बाद नमाज़ अदा न करें ।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।