Unlock in Bhopal

Unlock in Bhopal: भोपाल में अनलॉक की प्रकिया इस दिन से होगी शुरू, देखें पहले क्या खुलेगा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Unlock in Bhopal: देश में जैसे-जैसे कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं, कुछ शहरों को अनलॉक करने के बारे में प्लानिंग करी जा रही है। Bhopal भी उन्हीं शहरों (Unlock in Bhopal) में से एक बनने जा रहा है। इन शहरों को तीन जोन में बांटा जाएगा। आइये जानते हैं कि यह तीन जोन कौन से होंगे और किस आधार पर बनाए जाएंगे।

कौन से इलाके होंगे लॉक?

1जून से Bhopal अनलॉक होगा, तबतक संक्रमण को कम करने की कई प्लानिंग बनाई जा रही है। जिन इलाकों में संक्रमण के मामले ज्यादा होंगे उन्हें पहले की तरह ही लॉक रखा जाएगा। संक्रमण के आधार पर इलाकों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांटा जाएगा। जिससे तय होगा कि Bhopal का कौन सा इलाका आगे भी लॉक रहेगा।

Unlock in MP: मध्य प्रदेश में लॉकडाउन कब खुलेगा?

क्या हैं ये तीन रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन?

रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन शहर में संक्रमित एरिया की स्थिति बताने के लिए बनाए जाएंगे।
सबसे ज्यादा कोरोना वायरस से संक्रमित एरिया को रेड जोन में रखा जाएगा।
ऑरेंज जोन में सबके काम संक्रमित एरिया को रखा जाएगा।
जहाँ एक भी कोरोना संक्रमण का मामला नहीं होगा वो एरिया ग्रीन जोन में आएगा।
इन जोन को ध्यान में रखते हुए ही माइक्रो कंटेनमेंट जोन भी बनाया जाएगा।

READ:  Immunity may persist throughout life even after a minor infection of covid-19

कहाँ लगता है माइक्रो कंटेन्मेंट जोन ?

माइक्रो कंटेनमेंट जोन, किसी शहर के उन इलाको में लगता है जहां हाल के दिनों में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा केस मिले हों। माइक्रो कंटेनमेंट जोन में कोरोना वायरस संक्रमण के केस मिलने पर किसी बड़े इलाके को सील ना करते हुए केवल एक छोटे हिस्से जैसे उस बिल्डिंग को ही सील किया जाता है और उस इलाके में बाकी के काम पहले की तरह चलते रहते हैं।

Adani Ambani लॉकडाउन में हुए मालामाल जनता हुई कंगाल, बताओ कैसे?

अनलॉक की प्रक्रिया के बारे में क्या बोले चिकित्सा शिक्षा मंत्री?

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने 1जून से शुरू होने वाली अनलॉक प्रकिया पर चर्चा करते हुए कहा कि- एक एरिया, शहर में एक-एक वार्ड और गाँव में एक-एक पंचायत की माइक्रो प्लानिंग करी जाएगी। बाकी बचे हुए 7 दिनों तक कोरोना कर्फ्यू का अच्छे और सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि सरकार के साथ-साथ जनता को भी इसमें जुड़ना होगा और नियमों का अच्छे से पालन करना होगा।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को बनाया जाए जन आंदोलन

जैसे-जैसे कोरोना के मामले कम हो रहे हैं, वैसे ही कुछ इलाकों को कोरोना मुक्त इलाका कहा जा रहा है लेकिन सरकार की प्लानिंग है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई को सरकार और जनता को साथ मिलकर लड़ना होगा। जिसके लिए इस लड़ाई को जन आंदोलन बनाया जाए। इस बात को सुनिश्चित भी किया जाएगा कि लोग सरकार के साथ आंदोलन में जुड़ रहे हैं या नहीं।
यह बात जनता को समझनी होगी कि जब कर्फ्यू लगाया जाता है तो संक्रमण के मामले कम आते हैं, लेकिन जैसे ही कर्फ्यू हटा दिया जाता है तो लगातार मामले बढ़ने लगते हैं। ऐसी स्थिति ना हो इसके लिए लोगों को जागरूक होना होगा जिसका प्रयास सरकार कर रही है।

READ:  IPL 2021: ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आईपीएल में खेलेंगे या नहीं, CA ने अपने बयान में क्या कहा

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: