Home » Unemployment in India : भारत में 41 लाख युवाओं का छिना रोज़गार : रिपोर्ट

Unemployment in India : भारत में 41 लाख युवाओं का छिना रोज़गार : रिपोर्ट

Complete Lockdown in Bihar: what will open and what will close? See full guideline of bihar lockdown
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) और एशियाई विकास बैंक (एडीबी) की संयुक्त जारी रिपोर्ट मे बेरोज़गारी (Unemployment) को लेकर बताया कि देश में कोराना महामारी के कारण 41 लाख युवाओं की चली गई नौकरी। इस सकंट में निर्माण और कृषि क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारी सर्वाधिक बेरोज़गार हुए।

एक अनुमान के अनुसार भारत में 41 लाख युवाओं की नौकरियां गई हैं। सात प्रमुख क्षेत्रों में से निर्माण और कृषि क्षेत्र में सर्वाधिक लोगों के रोज़गार से हाथ घोना पड़ गया हैं। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कोरोना महामारी के कारण युवाओं के लिए रोज़गार की संभावनाओं को भी बड़ा झटका लगा है।

रिपोर्ट की प्रमुख लेखक और आईएलओ क्षेत्रीय आर्थिक एवं सामाजिक विश्लेषण इकाई प्रमुख सारा एल्डर ने कहा,

‘कोविड-19 संकट के बाद से जो चुनौतियां युवाओं के लिए थीं, वह और बढ़ गई हैं। अगर इस ओर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया, एक ‘लॉकडाउन पीढ़ी’ सृजित होने का खतरा है, जिसे इस संकट का भार कई साल तक महसूस करना पड़ सकता है।’

रिपोर्ट के अनुसार संकट के कारण तत्काल 15 से 24 साल के युवा 25 और उसे अधिक उम्र के लोगों के मुकाबले ज्यादा प्रभावित होंगे। कोरोना संकट से पहले ही एशिया और प्रशांत क्षेत्र में युवाओं के समक्ष रोज़गार को लेकर चुनौतियां थी। इसके कारण बेरोजगारी दर ऊंची थी और बड़ी संख्या में युवा स्कूल तथा काम दोनों से बाहर थे।

वर्ष 2019 में क्षेत्रीय युवा बेरोज़गारी (Unemployment) दर 13.8 प्रतिशत थी। वहीं वयस्कों (25 साल और उससे अधिक उम्र) में यह 3 प्रतिशत थी। 16 करोड़ से अधिक युवा (आबादी का 24 प्रतिशत) न तो रोजगार में थे और न ही शिक्षा या प्रशिक्षण में। रिपोर्ट के अनुसार क्षेत्र में हर पांच युवा कामगारों में चार असंगठित क्षेत्र में है और चार युवा कर्मचारियों में एक गरीबी में रहने को मजबूर है।

READ:  CM Amrinder Singh resignation : "अपमान का बदला इस्तीफा" मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने छोड़ा मुख्यमंत्री पद!

क्या वेब सीरीज़ अश्लीलता परोसने का साधन बनती जा रही हैं?

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups