Oxford-AstraZeneca vaccine: दुनिया का वो पहले शख्स जिसे सबसे पहले लगा कोरोना का टीका

COVID-19 वैक्सीन
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

UK Oxford-AstraZeneca vaccine An 82-year-old man becomes first in the world to receive the Oxford-AstraZeneca vaccine: 82 वर्षीय डायलिसिस रोगी ब्रायन पिंकर दुनिया के पहले ऐसे शख्स हैं जिसे कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगाई गई है। ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन सबसे पहले 82 वर्षीय ब्रायन पिंकर को लगाया गया। सोमवार को यहां टीकाकरण का दौर शुरू हुआ है। ब्रायन पिंकर डायलिसिस के मरीज हैं वे चर्चिल अस्पताल में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन ((Corona vaccine)) लगवाने वाले पहले व्यक्ति बन गए हैं। इस मामले में स्वास्थ्य सचिव मैट हैंकॉक ने जानकारी देते हुए बताया कि, सोमवार से यहां वैक्सीनेशन का काम शुरू हुआ है। (UK Oxford-AstraZeneca vaccine An 82-year-old man becomes first in the world to receive the Oxford-AstraZeneca vaccine)

उन्होंने आगे कहा, कि इसी फेहरिस्त में सबसे 82 वर्षीय ब्रायन पिंकर को टीका लगाया गया है। वे डायलिसिस के मरीज हैं। हमारी प्राथमिकता है कि पहले हम हेल्थ वर्कर्स और बुजुर्गों को टीका ((Corona vaccine)) लगाए। इसके बाद हेल्थ सेक्रेटरी मैट हैंकॉक ने कहा कि हमारे पास वर्तमान में कोरोना वैक्सीन की 5,30,000 खुराकें उपयोग के लिए तैयार हैं। इसे हम चरणबद्ध तरीके से लोगों को देंगे। बता दें कि पूरी दुनिया में यह पहला मौका है जब किसी भी देश में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन दी गई है। (UK Oxford-AstraZeneca vaccine An 82-year-old man becomes first in the world to receive the Oxford-AstraZeneca vaccine)

READ:  प्रशासन की तानाशाही और छात्रों का डीपी विरोध, कब खुलेगा IIMC?

हाथ धोने की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण हर साल इतने लाख लोगों की हो जाती है मौत : रिपोर्ट

वैक्सीन लगवाने के बाद ब्रायन ने कही ये बातें
वैक्सीन लगवाने वाले ब्रायन पिंकर एक रिटायर्ड मैंटेनेंस मैनेजर हैं। टीका लगने के बाद उन्होंने बातचीत में कहा, मैं खुशनसीब हूँ जो मुझे कोरोना का टीका लगाया गया। मैं वैज्ञानिकों को नमन करता हूँ। अब मैं शादी की सालगिरह मना सकूंगा। इसके बाद उन्होंने कहा, ”मुझे कोरोना की वैक्सीन लगवाने पर काफी खुशी हो रही है और आज वास्तव में गर्व हो रहा है कि इसे ऑक्सफोर्ड ने बनाया है। नर्स, डॉक्टर और कर्मचारी काफी प्रतिभाशाली हैं और मैं अब अपनी 48वीं शादी की सालगिरह मनाने के लिए काफी खुश हूँ।

READ:  Covid-19: 771 new double mutant variants found across country, increased concern

10 करोड़ डोज का ऑर्डर
बता दें कि ब्रिटेन ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की 10 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया है। ये बात भी गौर करने वाली है कि यह कोई पहला टीका नहीं है, जिससे ब्रिटेन में वैक्सीनेशन किया जा रहा है। इससे पहले ब्रिटेन में फाइजर की कोरोना वैक्सीन से टीकाकरण शुरू कर चुका है।

बदजुबानीः जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी ने भारत को क्यों कहा ‘सड़ा हुआ सेब?’

अधिकारी ने एक बयान में कहा, हमारे लिए गर्व की बात
वहीं दूसरी ओर, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल एनएचएस फाउंडेशन के चीफ नर्सिंग ऑफिसर सैम फॉस्टर ने पहला डोज देने को काफी गर्व की बात बताया। उन्होंने अपने एक बयान में कहा कि, जहां पर यह बनाई गई है, उससे कुछ सौ मीटर दूर ही इसका पहला डोज दिया जाना काफी अच्छा रहा। हम और कई मरीजों और हेल्थ केयर वर्कर्स के टीकाकरण करने के लिए तैयार हैं। वहीं ऑक्सफोर्ड वैक्सीन ग्रुप और चीफ इन्वेस्टिगेटर एंड्रयू पोलार्ड भी उन लोगों में शामिल रहे, जिन्होंने वैक्सीन के ट्रायल के दौरान खुद के टीका लगवाया था। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते आने वाले दिन काफी चुनौतीपूर्ण होंगे।

READ:  कोविड महामारी और बुन्देलखण्ड का पलायन

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।