Home » HOME » ‘गांजे के खेत’ पर क्यों लड़ रहे हैं उद्धव ठाकरे और कंगना?

‘गांजे के खेत’ पर क्यों लड़ रहे हैं उद्धव ठाकरे और कंगना?

उद्धव ठाकरे और कंगना के बीच गांजे के खेत को लेकर बहस
Sharing is Important

कंगना रनौत और महाराष्ट्र सरकार के बीच ज़ुबानी जंग तेज़ होती जा रही है। कंगना रनौत द्वारा मुंबई की पीओके से की गई तुलना शिवसेना को इतनी नागवार गुज़री है कि वो कई मौकों पर कंगना पर वार कर चुके हैं। शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कई मौंकों पर कंगना को आड़े हाथ ले चुके हैं।

उद्धव ठाकरे ने हिमाचल को बताया गांजे की खेती करने वाला राज्य

 दशहरा भाषण के दौरान उद्धव ठाकरे ने कंगना रनौत या हिमाचल प्रदेश का का नाम लिए बिना कहा कुछ लोग मुंबई रोजी-रोटी के लिए आते हैं और इसे पीओके बताकर गाली देते हैं। उद्धव ने कहा, ”मुंबई पीओके है, यहां हर जगह ड्रग्स लेने वाले लोग हैं। वे कुछ इस तरह की तस्वीर बनाना चाहते हैं। वे नहीं जानते हैं कि हम अपने घरों में तुलसी उगाते हैं, गांजा नहीं। गांजे के खेत आपके राज्य में है, आप जानते हो कहां, महाराष्ट्र में नहीं।”

ALSO READ: कंगना रनौत के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश, पढ़िए पूरा मामला..

कंगना ने हिमाचल को बताया देवभूमि

कंगना ने ट्विटर पर जवाब देते हुए लिखा, ”मुख्यमंत्री आप बहुत तुच्छ व्यक्ति हैं। हिमाचल को देव भूमि कहा जाता है, यहां सबसे अधिक संख्या में मंदिर हैं और क्राइम रेट शून्य है। हां, यहां की जमीन बहुत उपजाऊ है, यह सेब, कीवी, अनार और स्ट्रॉबेरी की उपज होती है, यहां कोई कुछ भी उगा सकता है।”

READ:  सावधान! ATM कार्ड से खरीदते हैं शराब, तो लग सकता है लाखों का चूना

”आप एक ऐसे नेता हैं जिसका नजरिया एक ऐसे राज्य को लेकर तामसिक, अदूरदर्शी और कम जानकारी वाला है, जो भगवान शिव और मां पार्वती का निवास स्थान है। इसके अलावा कई महान संतों जैसे मार्केंडेय, मनु ऋषि और पांडवों ने निर्वासन का लंबा समय हिमाचल में बिताया।”

ALSO READ: निपटाने की नीति पर भाजपा, बिहार चुनाव के बाद नीतीश कुमार का नंबर: संजय राउत

”मुख्यमंत्री, आपको खुद पर शर्म आनी चाहिए, जनसेवक होने के बावजूद आप इस तरह के तुच्छ झगड़े में शामिल हैं, अपनी शक्ति का इस्तेमाल आपसे अहसमत लोगों के अपमान और नुकसान के लिए कर रहे हैं। गंदी राजनीति खेलकर आपने जो कुर्सी हासिल की है, उसके लायक आप नहीं हैं। शर्म की बात है।”

”एक मुख्यमंत्री का जुर्रत देखिए वह देश को बांट रहा है, किसने उन्हें महाराष्ट्र का ठेकेदार बनाया? वह केवल जनसेवक हैं, उनसे पहले वहां कोई और था और जल्द ही वह बाहर होंगे और कोई और राज्य की सेवा के लिए आएगा। वह ऐसा क्यों व्यवहार कर रहे हैं कि महाराष्ट्र के मालिक हैं।”

READ:  What is Shimla Development Plan?

”जिस तरह हिमालय की सुंदरता हर भारतीय की है, मुंबई जो अवसर देता है वह हम सभी के लिए है, दोनों मेरे घर हैं। उद्धव ठाकरे, आप हमारे लोकतांत्रिक अधिकार छीनने और हमें बांटने की कोशिश ना करें। आपके गंदे भाषण आपकी अक्षमता का एक अश्लील प्रदर्शन हैं।”

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Scroll to Top
%d bloggers like this: