Skip to content
Home » क्यों भिड़ गए Justin Trudeau और Xi Jinping , दुनियाभर में चर्चा बना नोकझोक का ये वीडियो

क्यों भिड़ गए Justin Trudeau और Xi Jinping , दुनियाभर में चर्चा बना नोकझोक का ये वीडियो

G-20

Trudeau Jinping video : इंडोनेशिया (Indonesia) के बाली (Bali) में 16 नंवबर को हुए G-20 शिखर सम्मेलन के दौरान कनाडा (Canada) के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) और चीन (China) के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच तीखी नोकझोंक देखने को मिली है। जिसका वीडियो अब दुनियाभर में (Trudeau Jinping video) वायरल है। सोशल मीडिया पर दोनों की बहस का वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है। ये वीडियो दोनों के बीच अनौपचारिक बातचीत का ब्योरा कथित तौर पर ‘लीक’ होने के कारण हुआ। आइये आपको बताते हैं पूरा मामला।

Trudeau Jinping video : क्यों भिड़ गए ट्रूडो और जिनपिंग ?

इंडोनेशिया के बाली में 15 नवंबर को शुरू हुए G-20 शिखर सम्मेलन का इस बार कुछ ख़ास रहा। क्योंकि भारत को इसकी अध्यक्षता सौंपी गई है। अगले साल 2023 में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेज़बानी भारत करेगा। 9 और 10 सितंबर 2023 को नई दिल्ली में G-20 शिखर सम्मेलन आयोजित होगा। लेकिन इस वर्ष इंडोनेशिया के बाली में हुए सम्मेलन के दौरान कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो औऱ चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच अनौपचारिक बातचीत का वीडियो वायरल (Trudeau Jinping video) होने के बाद विवाद होता दिख रहा है।

Trudeau Jinping video

वीडियो में साफ़ दिख रहा है कि नाराज़ दिख रहे शी ने ट्रूडो से कहा, “हमने जो कुछ भी चर्चा की, वह सब लीक हो गया, यह ठीक नहीं है।‘’ घटनास्थल पर मौजूद चीनी भाषा के ट्रांसलेटर को ये शब्द कहते सुना गया। ट्रूडो ने जवाब इसके जवाब में कहा कि वह “फ्री, ओपन और न्यूट्रल बातचीत” में विश्वास करते हैं। हम रचनात्मक रूप से एक साथ काम करते रहेंगे, लेकिन आगे भी ऐसी कई चीजें होंगी, जिन पर हम भविष्य में असहमत होंगे।”

चीनी ट्रांसलेटर बातों को ट्रांसलेट कर शी के जवाब के रूप में देता रहा। फिर दोनों नेताओं ने हाथ मिलाया और वहां से चले गए। इसके बाद जहां कनाडा ने बातचीत पर एक आधिकारिक बयान जारी किया, जबकि चीन ने को टिप्पणी नहीं किया। लेकिन अब दुनियाभर में दोनों की तीखी नोकझोक का वीडियो सुर्खियां बटोर रहा है। लोग इसे चीन की धौंस बता रहे हैं।

क्या है यह G-20 शिखर सम्मेलन ?

G-20 जी में 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल है। इस समूह में दुनिया के वे देश शामिल हैं, जो अर्थव्यवस्था के मामले में दुनिया में टॉप पर हैं। इन 20 देशों में फ्रांस, इंडोनेशिया, इटली, कोरिया, जर्मनी, इंडिया, मेक्सिको, ऑस्‍ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, रुस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, अर्जेंटीना, तुर्की, युनाइटेड किंगडम, जापान, अमेरिका और यूरोपीय यूनियन शामिल हैं।

G-20 समूह क्या करता है?

G-20 समूह का मुख्य कार्य आर्थिक सहयोग है। ये देश मिलकर ना सिर्फ ग्लोबल इकोनॉमी पर काम करते हैं, बल्कि आर्थिक स्थिरता और जलवायु परिवर्तन और हेल्थ से जुड़े मुद्दों पर भी बात करते हैं। इसमें शामिल होने वाले देशों की कुल जीडीपी दुनिया भर के देशों की 80 फीसदी है। इन सभी का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से चीज़ों को पटरी पर लाना होता है।हर साल इन देशों का एक सम्मेलन या समिट होती है, जिसमें अलग अलग देशों को टॉप लीडर्स प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री आदि शामिल होते हैं। इसके साथ ही देशों के टॉप लीडर भी जुड़ते हैं।

G-20 की शुरूआत कब हुई?

G-20 की स्थापना साल 1999 में हुई थी। इस सम्मेलन की शुरूआत में अलग-अलग देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नर हिस्‍सा लेते थे। फिर साल 2008 में इसमें देशों के प्रमुखों को शामिल किया गया। वर्तमान में यह समूह दुनिया के 85 फीसदी सकल घरेलू उत्पादन, 75 फीसदी वैश्विक व्यापार और दुनिया की दो तिहाई आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं।

भारत को G-20 की अध्यक्षता के क्या हासिल होगा ?

साल 2023 में G-20  समूह का आयोजन भारत में होगा। अगले वर्ष 9 और 10 सितंबर 2023 को नई दिल्ली में इसकी शुरूआत होगी। भारत के हाथ में अब जी G20 की कमान से साफ है कि G20 में भारत की अध्यक्षता से वैश्विक मंच पर दबदबा बढ़ेगा।

प्रोफ़ेसर स्वर्ण सिंह कहते हैं भारत को G-20 समूह की अध्यक्षता मिलना यह बड़ा अवसर साबित हो सकता है। वैश्विक मुद्दों को अपनी सोच को दुनिया के सामने रखने का भारत के पास ये बड़ा मौका होगा। स्वर्ण सिंह कहते हैं, “भारत ने बहुत से मुद्दे उठाए हैं, जैसे इंटरनेशनल सोलर एलायंस की बात हो या प्रधानमंत्री ने पिछले साल ग्लासगो में जो लाइफस्टाइल फॉर इंविरॉनमेंट की बात की थी “

Follow Ground Report for Climate Change and Under-Reported issues in India. Connect with us on FacebookTwitterKoo AppInstagramWhatsapp and YouTube. Write us on GReport2018@gmail.com

%d bloggers like this: