पूजा स्पेशल ट्रेन का रुट चार्ट देखें

भारतीय रेलवे का नया प्लान : मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में होगा ये बड़ा बदलाव

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पिछले कुछ समय से भारतीय रेलवे लगातार कुछ न कुछ बदलाव करता नज़र आ रहा है। रेलवे अब रेल नेटवर्क को अपग्रेड करने पर विचार कर रहा है। स्वर्णिम चतुर्भुज योजना के तहत लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों से स्लीपर कोच को पूरी तरह खत्म कर दिए जाएगा। यानी इन ट्रेनों में सिर्फ एसी बोगियां ही रहेंगी।

दरअसल मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें के 130 किमी प्रति घंटे या उससे अधिक की रफ्तार से चलने पर नॉन-एसी कोच तकनीकी समस्याएं पैदा करती हैं। इसलिए इस तरह की सभी ट्रेनों से स्लीपर कोच को खत्म कर दिया जाएगा। इस तरह की ट्रेन की रफ्तार 130/160 किमी प्रति घंटा होंगी।

उत्तर प्रदेश में हत्याओं का अंबार , 2 साल में 20 साधुओं की हत्या.. यह कैसा रामराज्य ?

हालांकि इसका यह मतलब कतई नहीं है कि अब नॉन एसी कोच होंगे ही नहीं। असल में नॉन एसी कोच वाली ट्रेन की रफ्तार एसी कोच वाली ट्रेनों के मुकाबले कम होगी। ऐसी ट्रेन 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाई जाएंगी। लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में फिलहाल 83 एसी कोच लगाने का प्रस्ताव है। हालांकि इस साल के अंत तक कोच की संख्या बढ़ाकर 100 कर दी जाएंगी।

वहीं अगले साल कोच की संख्या 200 किए जाने का प्लान है। यानी कि आने वाले समय में यात्रा और ज्यादा आरामदायक और कम समय लेने वाला होगा। अच्छी बात यह है कि इसके बदले में किराया भी सामान्य एसी कोच के मुकाबले कम ही रखे जाने का प्लान है।

स्वामित्व योजना: क्या है यह नई योजना, ग्रामीणों को कैसे होगा फायदा?

17 अक्टूबर से प्राइवेट तेजस ट्रेनें भी दौड़ने लगेंगी। IRCTC ने बुधवार को इस बात की घोषणा की है। तेजस ट्रेन के लिए टिकट बुकिंग की शुरुआत 8 अक्टूबर से हो गई है। बता दें कि कोरोना काल में तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन 7 महीने से बंद है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.