most covid deaths

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर मध्य प्रदेश के लिए बनी चिंता का कारण

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है। कोरोना की यह तीसरी लहर मध्य प्रदेश के लिए चिंता का कारण बनी हुई है। कल एक बार फिर मध्य प्रदेश में कोरोना के 1700 से ज्यादा नए मामले सामने आए है। ऐसे ही तेजी से मामले बढ़े तो प्रदेश में संक्रमण 2 लाख का आंकड़ा जल्द पर कर लेगा।

उधर बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच एक अच्छी और राहत भरी खबर निकल कर सामने आ रही है। कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए तैयार की गई कोरोना वैक्सीन की पहली खेप राजधानी भोपाल पहुंच गई है। कल इसका पहला डोज यहां मरीजों को दिया जाएगा।

READ:  मध्य प्रदेश : सरकार के ख़ज़ाने को होगा 15815 करोड़ रुपए का नुक़सान !

राजधानी के गांधी मेडिकल अस्पताल और एक निजी अस्पताल में कल 27 नवंबर से कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सिन का पहला डोज मरीजों दिया जाएगा। कोवैक्सिन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल के लिए वैक्सीन कि पहली खेप भोपाल पहुंच गई है। गांधी मेडिकल कॉलेज और एक प्राइवेट अस्पताल में कल से वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल किया जाएगा। इसके लिए 100 वॉलिंटियर्स ने टीका लगवाने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाया था।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

सूत्रों के अनुसार को-वैक्सीन के ट्रायल के लिए पहला टीका 27 नवंबर को पीपल्स मेडिकल कॉलेज में किसी एक वॉलिंटियर को लगाया जाएगा। इसके बाद परीक्षण के अगले चरण की शुरुआत होगी। वही जीएमसी में भी हो सकता है कि 27 को या 28 को पहला टीका लगाया जाए। कल से मरीजों को दी जाने वाली कोवैक्सिन आईसीएमआर (ICMR) और भारत बायोटेक इंटरनेशनल (Bharat Biotech International) की वैक्सीन (vaccine) है जिसे कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार किया गया है।

READ:  राज्यसभा चुनाव: PPE किट पहनकर वोट डालने पहुंचा कांग्रेस का ये कोरोना पॉजिटिव विधायक

बता दें लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए भारत बायोटेक हैदराबाद द्वारा वैक्सिंग का निर्माण किया जा रहा है। जिससे को-वैक्सीन का नाम दिया गया है। इस वैक्सीन के ट्रायल के लिए देश के 25 शहरों में काम शुरू हो गया है। इसी कड़ी में बुधवार को को-वैक्सीन भोपाल पहुंची, जहां गांधी मेडिकल कॉलेज और पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में इस पर परीक्षण की तैयारी शुरू की गई है।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.