सिनेमाघरों में 7 महीनों की तालाबंदी, बॉलीवुड को लगा इतने हजार करोड़ का फटका

कोरोनावायरस के चलते देश भर में लॉकडाउन लगाया गया। अब अनलॉक की प्रकिया शुरू हो चुकी है। बीते सात महीनें से जारी तालाबंदी के चलते देश के कई सेक्टर्स को हजारों करोड़ का नुकसान हुआ है। वहीं इस लॉकडाउन के चलते सिनेमाजगत को भी हजारों करोड़ का फटका लगा है। सिनेमाघरों में बीते सात महीनों में अंतिम फिल्म 13 मार्च को फिल्म ‘अंग्रेजी मीडियम’ रिलीज हुई थी। कोरोना के खतरे को देखते हुए इसी दिन से कई राज्यों में थिएटर्स बंद कर दिए गए थे।

Van Rakshak: एक्टर धीरेंद्र ठाकुर से विशेष बातचीत, पढ़ें मधुबनी टू मुंबई वाया दिल्ली तक का सफर…

लॉकडाउन के बाद कई फिल्म प्रोड्यूसर्स ने अपनी फिल्मों सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लॉन्च किया लेकिन अधिकतर लोग अब भी सिनेमाघरों के खुलने का इंतजार कर रहे हैं। इसके चलते सिर्फ हिंदी फिल्मों का करीब 3200 करोड़ रुपए का कलेक्शन अटका हुआ है। ट्रेड एनालिस्ट और 40 साल से डिस्ट्रीब्यूशन में सक्रिय राज बंसल के मुताबिक, इन 7 महीनों में ‘सूर्यवंशी’, ’83’, ‘कुली नं. 1’, ‘लक्ष्मी बॉम्ब’, ‘राधे: योर मोस्ट वांटेड भाई’, ‘भुज : द प्राइड ऑफ इंडिया’, ‘द बिग बुल’ और ‘सड़क 2’ जैसी कई बड़ी हिंदी फिल्में पर्दे पर आतीं और सिर्फ इन फिल्मों का कुल कलेक्शन करीब-करीब 1500 करोड़ रुपए होता।

Also Read:  Shanghai Lockdown,What Next in India?

A. R. Rahman को बॉलीवुड में नहीं मिल रहा काम, एक ‘गैंग’ पर लगाया गंभीर आरोप

इसके अलावा राज बंसल ने बताया कि हर सप्ताह एवरेज दो मीडियम और छोटे बजट की फिल्में रिलीज होती हैं, जो एवरेज 25-30 करोड़ रुपए की कमाई करती हैं। ऐसे में अगर 29 सप्ताह (30 सितंबर तक) का हिसाब निकालें तो ऐसी लगभग 58 फिल्में पर्दे पर आतीं और इनकी कुल कमाई करीब 1500-1700 करोड़ होती। जबकि तालाबंदी के दौरान तमिल और तेलुगु की भी कई बड़ी फिल्मों की रिलीज टली है। अगर ये फिल्में रिलीज हो गई होतीं तो इनकी कमाई लगभग 1500 करोड़ रुपए होती।

क्या वेब सीरीज़ अश्लीलता परोसने का साधन बनती जा रही हैं?

वहीं इस साल यानी 2020 में सिर्फ 73 दिन ही सिनेमाघर खुले थे। इस दौरान बॉक्स ऑफिस पर करीब 824 करोड़ रुपए का कलेक्शन हुआ था। हालांकि, सिर्फ एक ही फिल्म हिट रही थी और वह थी अजय देवगन स्टारर ‘तान्हाजी : द अनसंग वॉरियर’, जिसने बॉक्स ऑफिस पर करीब 280 करोड़ रुपए की कमाई की थी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।