Home » भारत की मदद को आगे आया थाईलैंड, देश में पहुंचाए इतने ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर

भारत की मदद को आगे आया थाईलैंड, देश में पहुंचाए इतने ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर

Thailand government sent 200 oxygen cylinders & 10 oxygen concentrators to India
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Thailand government sent 200 oxygen cylinders & 10 oxygen concentrators to India: थाइलैंड सरकार ने 200 ऑक्सीजन सिलेंडर और 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खेप भारत भेजी है। ये खेप राष्ट्रय राजधानी दिल्ली पहुंच चुकी है। इसके अलावा 100 अतिरिक्त ऑक्सीजन सिलेंडर और 60 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खेप थाइलैंड में रह रही भारतीय कम्युनिटी द्वारा मुहैया करवाई गई है। कोरोना से जंग जीतने में भारत को इससे बड़ी मदद मिल सकेगी। ( Thailand government sent 200 oxygen cylinders & 10 oxygen concentrators to India )

वहीं कुवैत भी भारत की मदद के लिए आगे आया है। कुवैत ने 215 मीट्रिक टन लिक्विट मेडिकल ऑक्सीजन और 2600 ऑक्सीजन सिलेंडर भारत भेजे हैं। इससे कोरोना मरीजों को बड़ी राहत मिल सकेगी। इस मामले में कुवैत के दूतावास ने बताया कि, जल्द ही अतिरिक्त 1400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गैस भी भेजी जाएगी।

READ:  Asaram Bapu Case: सरकार का कहना- जमानत के बाद बिगड़ सकती है कानून व्यवस्था

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

वहीं ब्रिटेन ने भी भारत की मदद में अहम भूमिका निभाई है। कोरोना से उभरने के लिए बिट्रेन ने दुनिया के सबसे बड़ा विमान मालवाहक भरकर राहत सामग्री भेजी है। बिट्रेन ने 18 टन ऑक्सीजन जेनरेटर और एक हजार वेंटिलेटर भारत भेजे हैं। इस मामले में ब्रिटिश उच्चायोग ने कहा कि, तीन यूनिट ऑक्सीजन जेनेरेटर में से प्रत्येक से 500 लीटर प्रति मिनट लिक्विड ऑक्सीजन का उत्पादन हो सकेगा। जो कि 50 मरीजों के लिए पर्याप्त है।

वहीं बीते शुक्रवार जर्मनी से ऑक्सीजन जेनरेटिंग प्लांट भारत पहुंचा। इस प्लांट की मदद से हर दिन करीब 4 लाख लीटर लिक्विड ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा सकेगा। इसके अलावा डेनमार्क ने भी 53 वेंटिलेटर भारत भेजे हैं। जबकि टीवीएस मोटर कंपनी जल्द अपनी सहयोगी कंपनी सुंदरम क्लेटन की मदद से 40 करोड़ रुपये की कीमत वाले ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और अन्य चिकित्सा उपकरण उपलब्ध करवाएगा।

READ:  Covid19 Vaccine: वैक्सीन लगवाने के बाद इन 8 बातों का ध्यान जरूर रखें

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।