Home » HOME » चाय से कोरोना ठीक होने का दावा करने वाला पोस्ट फर्जी है

चाय से कोरोना ठीक होने का दावा करने वाला पोस्ट फर्जी है

Sharing is Important

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

एक तरफ देश कोरोनावायरस (Coronavirus) से लड़ रहा है तो दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर आने वाली फेक न्यूज़ (Fake News) और फर्जी पोस्ट बढ़ते ही जा रहे हैं। आए दिन कोई नया पोस्ट वायरल हो जाता है जिसमें बड़े-बड़े न्यूज़ संस्थानों और WHO का नाम लेकर फर्जी बातें फैलाई जाती हैं। दुख तब होता है जब पढ़े लिखे लोग भी इन पोस्ट को सही मानकर इसका पालन करना शुरु कर देते हैं। और तो और दूसरों को भी जानकारी भेजते हैं, जिससे कुछ ही पल में यह फर्जी पोस्ट वायरल हो जाता है। भारत में कम ही लोग जानकारी की सत्यता जांचने की कोशिश करते हैं। हम बात कर रहे हैं एक ऐसे ही पोस्ट की जो आजकल वायरल है यह पोस्ट कहता है कि-

अमेरिका के विख्यात CNN NEWS CHANNEL के अनुसार, चीन के विख्यात कॉरोना वायरस विशेषज्ञ Dr. Li Wenliang अपनी मृत्यु के पूर्व यह कह गए हैं कि ३ केमिकल Methylxanthine, Theobromine एवं Theophylline कॉरोना वायरस को मार सकते हैं, और ये तीन कैमिकल ही चाय में पाए जाते हैं। इस लिए यदि कोई दिन में तीन कप चाय पीते हैं, तो वे कॉरोना वायरस के संक्रमित नहीं होंगे अथवा यदि कोई संक्रमित व्यक्ति चाय पीते हैं तो कुछ ही दिनों में वे संक्रमण मुक्त हो जाएंगे। इस सत्य को Dr. Li Wenliang ने कॉरोना रोगियों की Case History Study का अध्ययन कर के अविष्कार किया है।यह सत्य उजागर करने के लिए चीन सरकार ने उन्हें सजा दिया था। दुख का विषय यह है कि Dr. Li Wenliang की मृत्यु कॉरोना से अक्रान्त हो कर ही हुई थी। चाय के अन्दर जो Caffine होता है, वही Methylxanthine है और दो अन्य कैमिकल भी चाय में ही पाए जाते हैं।चीन के हुवान प्रान्त में कॉरोना रोगियों को तीन बार चाय पिलाए जाते थे, तभी आज चीन कॉरोना मुक्त हो पाया है। यह कितना सत्य है यह तो नहीं मालूम मगर इस शेयर को प्राप्त होते ही समस्त ग्रूपों में शेयर किए जा रहे हैं यदि यह सत्य होता है तो अनेकों के लिए लाभदायक सिद्ध होगा।।

READ:  Why are Railway Students Demanding Justice?

कितना सत्य है यह पोस्ट?

वुहान के डॉक्टर ली वेंलिआंग के बारे में बताई गई बातें इस पोस्ट में सही है। उन्होंने सबसे पहले कोरोना वायरस की पहचान की थी। उन्हें चीनी सरकार ने अफवाह फैलाने की जुर्म में जेल भेज दिया था बाद में उनकी कोरोना से मृत्यु हो गयी थी। लेकिन चाय में पाए जाने वाले केमिकल्स से कोरोना ठीक होता है ऐसी बात उन्होंने नहीं कही। साथ ही CNN की न्यूज़ वेबसाइट पर कहीं कोई इस तरह की खबर प्रकाशित नहीं हुई है। यहां तक की किसी और न्यूज़ वेबसाइट में भी ऐसी कोई खबर प्रकाशित नहीं हुई है। WHO भी चाय से कोरोना के ठीक होने की बात की पुष्टि नहीं करता। वुहान के रोगियों को 3 बार चाय पिलाने की बात भी किसी रिपोर्ट में सामने नहीं आती। इसलिए यह पोस्ट पूरी तरह भ्रामक है साथ ही निराधार भी है।

READ:  Twitter users complaining follower loss, What is happening?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।