tarun-gogoi-passed-away-former-chief-minister-assam-tarun-gogoi-died-at-the-age-of-86-39804

Tarun Gogoi Passed Away: तरुण गोगोई ने कोरोना को हराया, लेकिन इस बार 9 डॉक्टर्स की टीम भी नहीं बचा पाई, 5 खास बातें

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Tarun Gogoi Passed Away: असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई (Assam Former CM Tarun Gogoi) का 86 वर्ष की उम्र में निधन (Tarun Gogoi Passed Away) हो गया है। वे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। आज सोमवार सुबह इलाज के दौरान उनकी हालत और बिगड़ गई। इससे पहले उनकी देख भाल कर रहे डॉक्टरों ने बताया था कि पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई की हालत ‘‘बेहद, बेहद नाजुक’’ है। गोगोई की ऐसी हालत के चलते असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल (Assam CM Sarbananda Sonowal) ने डिब्रूगढ़ (Dibrugarh) के पहले से तय कार्यक्रम रद्द कर गुवाहाटी (Guwahati) पहुंचे। (Tarun Gogoi Passed Away)

1) दो महीने तक कोरोना से हुई जंग फिर जीत के घर पहुंचे-
इस दौरान सोनोवाल ने ट्वीट कर ये जानकारी देते हुए कहा कि “मैं डिब्रूगढ़ के अपने कार्यक्रम रद्द करके तरुण गोगोई दा और उनके परिवार के पास रहने के लिए गुवाहाटी लौट रहा हूं।” सोनोवाल ने जानकारी दी कि पूर्व सीएम की हालत काफी नाजुक है। सोनोवाल ने कहा कि “वह मेरे लिए हमेशा पिता के समान रहे हैं। मैं लाखों लोगों के साथ उनके जल्द स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं।” गोगोई को अगस्त में कोरोना हुआ था लेकिन वे कोरोना से जंग जीतकर सकुशल घर लौटे। इस दौरान वे करीब 2 महीनें तक अस्पताल में भर्ती रहे थे और कोरोना से ठीक होने के दो महीने बाद अक्टूबर में डिस्चार्ज होकर घर पहुंचे लेकिन मीडिया रिपोट्स के मुताबिक गोगोई बीते कुछ दिनों से  पोस्ट कोविड कॉम्प्लिकेशंस से जूझ रहे थे, जिसके बाद उन्हें एक बार फिर अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

READ:  Madhya Pradesh By-Elections 2020: मध्य प्रदेश में कब होंगे उपचुनाव?

Coronavirus Lockdown Again: फिर से लगेगा लॉकडाउन!

2) नौ डॉक्टर्स की टीम की निगरानी में थे गोगोई-
वहीं गोगोई के स्वास्थ्य के बारे में गुवाहाटी के मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक अभिजीत शर्मा ने बताया कि 80 साल की उम्र पार कर चुके वरिष्ठ कांग्रेस नेता की देखभाल नौ चिकित्सकों की एक टीम कर रही है। बता दें कि 86 वर्षीय कांग्रेस नेता तरुण गोगोई का इलाज गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज (जीएमसीएच) में चल रहा था। मेडिकल कॉलेज के अधिक्षक ने इससे पहले कहा था कि, ‘श्रीमान (गोगोई) की मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति बेहद, बेहद नाजुक है और डॉक्टर बेहतर प्रयास कर रहे हैं।’

Coronavirus Treatment at Home: मध्य प्रदेश के इन 7 शहरों में पहुंची ‘घातक लहर’, देखें कोरोना का इलाज घर पर कैसे करें?

3) शरीर के अंग काम नहीं कर रहे थे
वहीं दूसरी ओर गोगोई के बेटे के साथ जीएमसीएच में मौजूद असम के स्वास्थ्य मंत्री ​हेमंत विस्व सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने बताया था कि, ‘पूर्व मुख्यमंत्री की स्थिति बेहद नाजुक और ​चिंताजनक है। वह पूरी तरह जीवन रक्षक उपकरण पर हैं हालांकि, डॉक्टर प्रयास कर रहे हैं। अब उनकी स्थिति में सुधार के लिये ईश्वर का आशीर्वाद और लोगों की प्रार्थना आवश्यक है।’ इससे पहले उन्होंने बताया था कि गोगोई के अंगों ने काम करना बंद कर दिया है और दिमाग को कुछ संकेत मिल रहे हैं, आंखें चल रही हैं और पेसमेकर लगाये जाने के बाद उनका दिल काम कर रहा है लेकिन इसके अलावा शरीर का कोई अंग काम नहीं कर रहा है। मंत्री ने कहा कि गोगोई का रविवार को छह घंटे तक डाय​लिसिस हुआ था और यह दोबारा विषाक्त चीजों से भर गया है। ऐसी हालत नहीं है कि डायलिसिस दोबारा किया जाए।

READ:  Chief Minister Nitish Kumar demands special status for Bihar

कोरोना का इलाज: अगर रिपोर्ट पॉजिटिव भी आई है तो डरने की नहीं समझदारी की जरूरत है

4) तीन बार असम के मुख्यमंत्री रह चुके हैं गोगोई-
बता दें कि गोगोई कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक रहे हैं। वे तीन बार असम के मुख्यंत्री रह चुके हैं। गोगोई का जन्म 1 अप्रैल 1934 को हुआ था। गोगोई 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। गोगोई ने कांग्रेस को लगातार तीन विधानसभा चुनावों में जीत दिलाई और सबसे लंबे समय तक असम का मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड भी अपने नाम दर्ज किया। इतना ही नहीं गोगोई को जनता ने 6 बार लोकसभा सांसद चुना। वे 1971 से 1985 तक तीन बार जोरहट से सांसद रहे। इसके बाद वर्ष 1991-96 और 1998-2002 के बीच कालीबोर के सांसद रहे। अब इस सीट से उनके बेटे गौरव गोगोई सांसद हैं। गोगोई साल 1991 से 1995 तक केंद्र सरकार में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भी रह चुके हैं।

READ:  सरकार से पूछा कब खुलेगा #Lockdown? तो मिला ये जवाब…

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

5) गोगोई के निधन पर पीएम मोदी और राहुल गांधी ने शोक व्यक्त किया-
पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि, श्री तरुण गोगोई जी एक लोकप्रिय नेता और एक वयोवृद्ध प्रशासक थे, जिन्हें असम के साथ-साथ केंद्र में भी राजनीतिक अनुभव था। उनके निधन से दुखी हूँ। दुख की इस घड़ी में मेरे विचार उनके परिवार और समर्थकों के साथ हैं। वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और दिग्गज नेता राहुल गांधी ने भी शोक जताते हुए कहा कि श्री तरुण गोगोई एक सच्चे कांग्रेसी नेता थे। उन्होंने अपना जीवन असम के सभी लोगों और समुदायों को एक साथ लाने के लिए समर्पित कर दिया। मेरे लिए, वह एक महान और बुद्धिमान शिक्षक थे। मैं उनसे बहुत प्यार करता था और उनका सम्मान करता था। मैं हमेशा उन्हें याद करूँगा। मेरा प्यार और गौरव, उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना।

पतंजलि आयुर्वेद ने ढूंढा कोरोना का इलाज, जल्द शुरु होगा ट्रायल

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.