Home » स्वामित्व योजना: क्या है यह नई योजना, ग्रामीणों को कैसे होगा फायदा?

स्वामित्व योजना: क्या है यह नई योजना, ग्रामीणों को कैसे होगा फायदा?

swamitva yojna and its benefits
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री मोदी ने आज ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को एक नई योजना की सौगात दी। इस योजना का नाम है स्वामित्व योजना (Swamitva Yojna)। इससे ग्रामीण इलाकों में रह रहे लोगों को अपनी संपत्ति का कार्ड दिया जाएगा। जिसके ज़रिए उन्हें बैंक से लोन लेने और आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी।

स्वामित्व योजना (Swamitva Yojna) का शुभारंभ करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि गांव के लोगों को, गरीबों को अभाव में रखना कुछ लोगों की राजनीति का आधार रहा है। वो बौखलाए हुए हैं। इनकी ये बौखलाहट किसानों के लिए नहीं, खुद के लिए है।

किसे मिलेगा स्वामित्व कार्ड?

एक लाख भू-संपत्ति मालिक अपने मोबाइल फोन पर SMS से प्राप्त होने वाले लिंक से संपत्ति कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे। लगभग 132,000 जमींदारों को कार्ड सौंपे जाएंगे। लाभार्थी उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100, मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के दो सहित कुल 763 गांवों के हैं।

READ:  पिता को बचाने के लिए लड़की ने ऑक्सीजन सिलेंडर मांगा तो पड़ोसी ने कर दी 'SEX' की डिमांड!

ALSO READ: कड़कनाथ मुर्गीपालन से रेणुका ढीमर बनी आत्मनिर्भर

क्या है स्वामित्व योजना?

  • राष्‍ट्रीय पंचायती दिवस यानी 24 अप्रैल, 2020 को स्वामित्व योजना (Swamitva Yojna) लॉन्‍च की गई थी। आज प्रधानंत्री मोदी ने इसके तहत स्वामित्व कार्ड वितरित किया।
  • इस योजना (Swamitva Yojna) के तहत एक कार्ड हर ग्रामीण को दिया जाएगा जिसमें उसकी संपत्ति का ब्यौरा होगा। इसके लिए सरकार ड्रोण के जरिए प्रॉपर्टी का सर्वे करवा रही है।
  • सर्वे होने के बाद ग्रामीण इलाकों मे मौजूद घरों के मालिकों के मालिकाना हक का एक रिकॉर्ड बनेगा।
  • जिसके आधार पर हर व्यक्ति के पास अपनी संपत्ति का कार्ड होगा। जिसे वह कहीं भी इस्तेमाल कर पाएगा।
  • वह इसका इस्‍तेमाल बैंकों से कर्ज लेने के अलावा अन्‍य कामों में भी कर सकते हैं।
  • आपको बता दें कि गांवो में  खेतिहर जमीन का रिकॉर्ड तो रखा गया, लेकिन घरों पर ध्‍यान नहीं दिया गया।
  • अगर गांव में रहने वाले लोगों से पूछेंगे तो उनके पास शायद ही अपने घर की रजिस्ट्री के कोई कागज़ हों।
  • अधिकतर ग्रामीणों के पास अपने घरों के मालिकाना हक के कागजात नहीं हैं।
  • कई राज्‍यों में गांवों के रिहाइशी इलाकों का सर्वे और मैपिंग संपत्ति के सत्‍यापन के लिहाज से नहीं हुआ। नतीजा ये हुआ कि कई घरों के संपत्ति के कागजात मौजूद नहीं हैं।
  • इसी कमी को दूर करने के लिए ‘स्‍वामित्‍व’ योजना (Swamitva Yojna) लाई गई।
READ:  PM Modi to chair important meeting on COVID-19 situation
स्वामित्व योजना के लाभ और कैसे मिलेगा इसका फायदा

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।