Home » ‘एक जल्द बीतने वाली जिंदगी दोनों के बीच सौदेबाजी कर रही है, #माँ’, सुशांत सिंह का वो आखरी संदेश!

‘एक जल्द बीतने वाली जिंदगी दोनों के बीच सौदेबाजी कर रही है, #माँ’, सुशांत सिंह का वो आखरी संदेश!

Sushant Singh Rajput suicide: Sushant Singh last post for his mother on instagram
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Sushant Singh Rajput: सुशांत सिंह राजपूत ने मुंबई के बांद्रा स्थित अपने आवास पर सुसाइड कर लिया है। हांलाकि अब तक सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है लेकिन पुलिस हर पहलू से मामले की जांच कर रही है। सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की खबर जैसे ही जंगल में आग की तरह फैली, सुनकर हर कोई सन्न रह गया।

Komal Badodekar | New Delhi

अब बात उनके आखरी संदेश की है जिसे हर कोई जानना चा रहा है। पुलिस को घटना स्थल से अब तक कोई सुसाइड नोट नहीं मिल पाया है। वहीं सुशांत सिंह की मौत से ज्यादा उनकी लास्ट पोस्ट पर चर्चा हो रही है। सोशल मीडिया एप्प इंस्टाग्राम पर उन्होंने एक पोस्ट किया था जो उनका आखरी पोस्ट साबित हुआ। ये पोस्ट उन्होंने अपनी माँ के लिए किया था। जैसे सुशांत सिंह राजपूत को उनको किसी वजह से अपनी माँ की बहुत ज्यादा याद आ रही हो।

READ:  Vaccination in Periods: क्या पीरियड्स में कोरोना वैक्सीनेशन असुरक्षित है?

सुशांत सिंह ने आखरी बार 3 जून को पोस्ट किया था। उन्होंने अपने साथ अपनी मां की एक तस्वीर लगाई थी। इसके साथ लिखा था, धुंधला अतीत आंखों के आंसू से गायब हो रहा है। पूरे न हुए सपने खुशियां और ला रहे हैं। वहीं एक जल्द बीतने वाली जिंदगी दोनों के बीच सौदेबाजी कर रही। #मां’

सुशांत सिंह के इस पोस्ट को अब तक 10 लाख 59 हजार से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं। वहीं 77 हजार 600 से ज्यादा लोगों ने सुशांत के इस आखरी पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। सुशांत ने ये पोस्ट किन परिस्थियों में किया। भावनाओं की क्या सूनामी रही होगी उनके मन में ये तो उनसे बेहतर कोई नहीं जानता। शायद ही कोई उनके इतने करीब रहा हो जो उनके इस पोस्ट के मायने को समझ पाता। अगर समझ पाता तो सुशांत शायद यूं दुनिया को अलविदा न कहते।

READ:  उत्तर प्रदेश में Coronavirus और Lockdown की बदहाली बताते-बताते कैमरे पर रो पड़ा रिपोर्टर

वहीं उनके करीब दोस्तों को कहना है कि सुशांत सार्वजनिक जीवन में सबसे अच्छे मिलते-जुलते थे। अपना हालचाल भी बताते थे। अगर कोई उन्हें परेशान लगता था तो उनकी पूरी मदद करते थे लेकिन जहां अपनी परेशानियों की बारी आती वो अक्सर चुप्पी साध जाते थे और अपने दिल की बात किसी भी शेयर नहीं करते थे। साल 2002 में माँ की मौत के बाद से अकेले पड़ गए थे। वे अक्सर अपनी माँ का जिक्र और उन्हें याद किया करते थे। उनका ये लास्ट पोस्ट बताता है कि वे अपने माँ को कितना मिस कर रहे थे