Home » सुशांत सिंह केस: CBI को भी क्वारंटाइन कर सकती है मुंबई पुलिस, BMC ने कही ये बात

सुशांत सिंह केस: CBI को भी क्वारंटाइन कर सकती है मुंबई पुलिस, BMC ने कही ये बात

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुशांत सिंह राजपूत के कथित सुासइड मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने आदेश में यह साफ कर दिया कि सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच सीबीआई ही करेगी। सीबीआई ने कहा है कि आगे की जांच के लिए जल्द एक टीम मुंबई जाएगी। लेकिन अब अब खबर है कि मुंबई पुलिस सीबीआई टीम को भी क्वारंटाइन कर सकती है? जैसा कि बिहार पुलिस के एसपी विनय तिवारी के साथ किया गया था।

वहीं इस मामले में बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने बताया कि , यदि सीबीआई टीम सात दिनों से अधिक समय के लिए आती है तो उन्हें क्वारंटाइन से बचने के लिए छूट मांगनी होगी। बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने कहा, ”यदि सीबीआई टीम सात दिनों के लिए आती है और वापसी का कन्फर्म टिकट हुआ तो ऑटोमैटिकली क्वारंटाइन से छूट मिल जाएगा। लेकिन यदि टीम सात दिनों से अधिक समय के लिए आती है तो उन्हें ईमेल के जरिए छूट मांगनी होगी, हम छूट दे देंगे। जानकारों के मुताबिक, लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो उन्होंने क्वारंटाइन किया जा सकता है।

READ:  'Adani' name removed from Mangaluru International Airport

गौरतलब है कि, इससे पहले पटना के एसपी विनय तिवारी जब जांच के लिए मुंबई पहुचे थे तो उन्हें बीएमसी ने आधी रात को क्वारंटाइन कर दिया गया था। इसके बाद ये मामला काफी गरमाया और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी नाराजगी जाहिर मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की थी। इसे बिहार पुलिस को जांच से रोकने के प्रयास के रूप में देखा गया था और बीएमसी के इस कदम की काफी आलोचना की गई थी।

वहीं दूरसी ओर बुधवार को रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मुंबई पुलिस ने उसके सामने जो रिकॉर्ड पेश किए हैं उसमें पहली नजर में किसी तरह की गड़बड़ी नजर नहीं आती है, लेकिन मुंबई में बिहार पुलिस की टीम को नहीं रोका जाना चाहिए था, क्योंकि ऐसा करने से मुंबई पुलिस की ओर से की जा रही जांच की प्रामाणिकता पर संदेह पैदा होता है।

सुप्रीम कोर्ट ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और अन्य के खिलाफ राजपूत की हत्या के सिलसिले में पटना में दर्ज प्राथमिकी की सीबीआई द्वारा की जा रही जांच को मंजूरी देते हुये कहा कि मुंबई पुलिस ने अभी तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की है और वह दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 174 के तहत जांच कर रही है, जो अस्वाभाविक मृत्यु के कारणों का पता लगाने तक सीमित है।

READ:  India-China activities intensified along the Line of Actual Control

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups