Home » कोर्ट को मजदूरों को लेकर दायर याचिका से ज्यादा जरूरी लगी अर्णब की याचिका: प्रशांत भूषण

कोर्ट को मजदूरों को लेकर दायर याचिका से ज्यादा जरूरी लगी अर्णब की याचिका: प्रशांत भूषण

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report News Desk | New Delhi

पालघर लिचिंग मामले में रिपब्लिक टीवी के पत्रकार अर्णब गोस्वामी के अपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने पर गिरफ्तारी की मांग के मामले की सुनवाई पर वकील प्रशांत भूषण ने तंज कसते हुए कहा है कि कोरोना के कहर के मारे मजदूरों को लेकर दायर की गई याचिका से ज्यादा जरूरी कोर्ट को अर्णब की याचिका लगी।

वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने ट्वीट करते हुए कहा, लॉकडाउन की वजह से राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों को लेकर जगदीप एस छोकर ने सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी इसे कोर्ट ने जरूरी नहीं समझा।

इसके बाद प्रशांत भूषण ने कहा, एक हफ्ते तक इसे सुनवाई के लिए शामिल नहीं किया गया। लेकिन एफआईआर निरस्त करने के लिए अर्णब गोस्वामी द्वारा दायर की गई याचिका पर कोर्ट ने अगले दिन ही सुनवाई के लिए शामिल कर लिया।

READ:  Indians donated 43% more during Covid pandemic in 2020: Survey

गौरतलब है कि बीते दिनों एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) के पूर्व प्रोफेसर और संस्थापक ट्रस्टी जगदीप एस छोकर और अधिवक्ता गौरव जैन की ओर से वकील प्रशांत भूषण द्वारा कोरोना नेगेटिव मजदूरों को उनको अपने घरों की तरफ जाने की इजाजत मांगी गई थी।

दायर की गई इस याचिका में कहा गया था कि उन प्रवासी मजदूरों को घर जाने की इजाजत दी जाए, जिनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया है। साथ ही यह मांग भी की गई थी कि राज्य सरकारों को इन लोगों को घर, गांव तक जाने की पूरी व्यवस्था करनी चाहिए।