Home » HOME » मीडिया मुगल सुभाष चंद्रा का ZEE Media ग्रुप से इस्तीफा, वित्तीय संकट से जूझ रही है कंपनी

मीडिया मुगल सुभाष चंद्रा का ZEE Media ग्रुप से इस्तीफा, वित्तीय संकट से जूझ रही है कंपनी

Subhash Chandra Resigns from ZEE Media Group
Sharing is Important

Ground Report News Desk | New Delhi

दुनिया भर में मीडिया मुगल के नाम से मशहूर और ZEE एंटरटेनमेंट इंटरप्राइजेज लिमिटेड के चेयरमैन सुभाष चंद्रा (Subhash Chandra Resigns) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। सुभाष चंद्रा के अचानक इस्तीफे की खबर से मीडिया जगत में हलचल पैदा हो गई है। ZEE मीडिया कंपनी के बोर्ड ने भी सुभाष चंद्रा का इस्तीफा मंजूर कर लिया है।

हालांकि, इस इस्तीफे के बावजूद सुभाष चंद्रा कंपनी के बोर्ड में नॉन-एग्जिक्यूटिव निदेशक बने रहेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चंद्रा के पास मौजूदा वक्त में सिर्फ पांच फीसदी शेयर रह गए हैं।

बता दें कि इससे पहले सुभाष चंद्रा ने कुछ दिन पहले ही ZEE में अपनी 16.5 की हिस्सेदारी को बेचने का एलान किया था। इस हिस्सेदारी को बेचने के बाद एस्सेल समूह के पास करीब 6000 करोड़ रुपये का कर्ज रह जाएगा।

बता दें कि ZEE मीडिया ग्रुप करीब 90 टीवी चैनलों ब्रॉडकास्ट करती है। कंपनी ने साल 1992 में सबसे पहले देश में सैटेलाइट टीवी चैनल जीटीवी की शुरुआत की थी। इससे पहले कंपनी ने 11 फीसदी हिस्सेदारी ओप्पोनहेमर डेवलपिंग मार्केट फंड को चार हजार करोड़ रुपये में बेच दी थी।

READ:  What's happening in Nagaland

सुभाष चंद्रा के पास ZEE ग्रुप की सिर्फ पांच फीसदी हिस्सेदारी रह जाएगी। इसके अलावा 1.1 फीसदी शेयर गिरवी रहेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईएमवीएल, साइक्योटर और एस्सेल कॉर्पोरेट क्रमश: 7.7 करोड़, 6.1 करोड़ और 1.1 करोड़ शेयर बेचेंगी जो कंपनी के कुल 15.72 फीसदी इक्विटी बेस के बराबर है।

इस बात की भी चर्चा है कि कंपनी के शेयर 277 रुपये की दर से बेचे जाएंगे जो कि बुधवार को कंपनी के 307 रुपये के क्लोजिंग प्राइस से 10 फीसदी कम है। फ्लोर प्राइस के हिसाब से ZEE के 15.72 फीसदी की वैल्यू 58.2 करोड़ डॉलर (लगभग 4,132 करोड़ रुपये) होती है।

READ:  रवीश कुमार जन्मदिन: भारत में रात का अंधेरा न्यूज़ चैनलों पर प्रसारित ख़बरों से फैलता है

बता दें कि, एस्सेल ग्रुप इस साल की शुरुआत से नकदी संकट से जूझ रहा है। समूह ने कर्ज चुकाने के लिए प्रमोटर शेयरों समेत कई संपत्तियां पहले ही बेच चुका है। कंपनी का कहना है कि, मीडिया और नॉन मीडिया एसेट्स बेचने के लिए कोशिशें जारी हैं।