Home » Parth Srivastava Suicide: पार्थ श्रीवास्तव को न्याय दिलाने के लिए #justiceforprarth कैंपने, देखें किसने क्या Tweet किया?

Parth Srivastava Suicide: पार्थ श्रीवास्तव को न्याय दिलाने के लिए #justiceforprarth कैंपने, देखें किसने क्या Tweet किया?

Parth Srivastava Suicide : सोशल मीडिया पर न्याय के लिए उठी मांग
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Parth Srivastav Suicide : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath) की सोशल मीडिया टीम (Cm Yogi Social Media Team) में काम कर रहे पार्थ श्रीवास्तव (Parth Srivastava) की मौत की खबर ने सनसनी फैला दी ही। पार्थ ने कथित तौर पर बुधवार सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या की थी, आत्महत्या से पहले पार्थ ने सुसाइड नोट (Parth Srivastava Suicide Note) भी अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया था। 28 वर्षीय पार्थ की आत्महत्या की खबर ने सबको स्तब्ध कर दिया है। पार्थ द्वारा उठाये गए इस कदम को लेकर लोगों के सोशल मीडिया पर रिएक्शन आने शुरू हो गए हैं।

Parth Srivastava Suicide: CM Yogi की Social Media Team में काम कर रहे पार्थ श्रीवास्तव ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में इन पर लगाए गंभीर आरोप

आत्महत्या से पहले पार्थ के सुसाइड नोट वाले ट्वीट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी टैग किया गया था। हालाकीं घर पर पुलिस को कोई भी सुसाइड नोट नहीं बरामद हुआ था। सभी सोशल मीडिया पर मांग उठा रहे है की इस पूरे घटनाक्रम की जांच पुलिस द्वारा जल्द-से-जल्द की जाए। दोषियों पर कार्रवाई हो और पार्थ को न्याय मिले। ट्वीटर पर लोग इसके लिए ‘#justiceforparth’ ‘##Justice4ParthSrivastava‘, ‘#we_want_justice_parth_srivastav‘, ‘#we_want_justice_parth_srivastav‘ नाम से अलग -अलग हैशटैग के साथ मुहीम चला रहे है। पूर्व आईएएस अधिकारी समेत कई पत्रकारों और विपक्ष के लोगों ने भी मुहीम के समर्थन में ट्वीट किये हैं।

READ:  क्या 28 साल बाद फिर से फिल्मों में दिखाई देने वाली हैं दिव्या भारती?

देखें किसने क्या कहा:

क्या लिखा था सुसाइड नोट में?
प्रणय भैया ने मुझसे कहा था कि मुझसे बात करेंगे पर उन्होंने पुष्पेंद्र भैया से रात 12:40 पर क्रॉस कॉल करके उनसे अपनी सफाई दिलवाई। पुष्पेंद्र भैया ने जानबूझकर व्हाट्सएप कॉल किया ताकि उनकी बातें रिकॉर्ड न हो सकें। कॉल करके भी उन्होंने सारा दोष संतोष भैया पर डाला और इस बात का यकीन दिलाया कि वह मेरे शुभचिंतक ही रहे हैं। जबकि सत्य तो यह है कि वह सिर्फ और सिर्फ शैलजा जी के शुभचिंतक रहे हैं। हमेशा से पुष्पेंद्र भैया शैलजा जी के अलावा कभी और किसी के लिए चिंतित नहीं रहे। बाकियों की छोटी से छोटी गलती पर पुष्पेंद्र भैया हमेशा नाराज होते रहे। शैलजा जी और महेंद्र भैया सिर्फ उनका गुणगान करते रहें।

READ:  IND vs SL: श्रीलंका के खिलाफ पहले वनडे में भारत की पारी की शुरुवात के लिए इन दो खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।