Home » ‘दिल्ली चुनाव में घर-घर पर्चा बांटने वाले गृह मंत्री दंगो के समय कहाँ थे?’

‘दिल्ली चुनाव में घर-घर पर्चा बांटने वाले गृह मंत्री दंगो के समय कहाँ थे?’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

लंबे समय तक भाजपा की सहयोगी रही शिवसेना ने दिल्ली दंगो पर गृह मंत्री अमित शाह की भूमिका पर कई सवाल खड़े किए हैं।

शिवसेना ने मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। शिवसेना ने ‘सामना’ में लिखा है कि जब दिल्ली जल रही थी, लोग जब आक्रोश व्यक्त कर रहे थे तब गृहमंत्री अमित शाह कहां थे? क्या कर रहे थे? ऐसा सवाल पूछा जा रहा है। दिल्ली के दंगों में अब तक 38 लोगों की बलि चढ़ गई है और सार्वजनिक संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचा है। मान लें केंद्र में कांग्रेस अथवा दूसरे गठबंधन की सरकार होती तथा विरोधी सीट पर भारतीय जनता पार्टी का महामंडल होता तो दंगों के लिए गृहमंत्री का इस्तीफा मांगा गया होता। 

ALSO READ: आग ने जब उस झुर्रियों वाले जिस्म को जलाना शुरू किया होगा तो भगवान भी रो दिया होगा!

3 दिनों बाद प्रधानमंत्री मोदी ने शांति बनाए रखने का आह्वान किया

शिवसेना ने कहा कि गृहमंत्री के इस्तीफे के लिए दिल्ली में मोर्चा व घेराव का आयोजन किया गया होता। राष्ट्रपति भवन पर धावा बोला गया होता। गृहमंत्री को नाकाम ठहराकर ‘इस्तीफा चाहिए!’ ऐसी मांग की गई होती। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि भाजपा सत्ता में है और विपक्ष कमजोर है। फिर भी सोनिया गांधी ने गृहमंत्री का इस्तीफा मांगा है। देश की राजधानी में 37 लोग मारे गए उनमें पुलिसकर्मी भी हैं तथा केंद्र का आधा मंत्रिमंडल उस समय अमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को सिर्फ ‘नमस्ते, नमस्ते साहेब!’ कहने के लिए किया गया था। केंद्रीय गृहमंत्री व उनके सहयोगी अमदाबाद में थे, उसी समय गृहविभाग के एक गुप्तचर अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या दंगों में हो गई। लगभग 3 दिनों बाद प्रधानमंत्री मोदी ने शांति बनाए रखने का आह्वान किया। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल चौथे दिन अपने सहयोगियों के साथ दिल्ली की सड़कों पर लोगों से चर्चा करते दिखे, इससे क्या होगा? जो होना था वो नुकसान पहले ही हो चुका है। सवाल ये है कि इस दौर में हमारे गृहमंत्री का दर्शन क्यों नहीं हुआ? देश को मजबूत गृहमंत्री मिला है लेकिन वे दिखे नहीं, इस पर हैरानी होती है।

ALSO READ: दंगों में नेता नहीं रतनलाल जैसे सिपाही और आम लोग मरा करते हैं

READ:  Indian Army got new guns on LAC

सरकार ने न्यायालय द्वारा व्यक्त किए गए ‘सत्य’ को मार दिया।

‘सामना’ में कहा है कि विधानसभा चुनाव में अमित शाह गृहमंत्री होते हुए भी घर-घर प्रचार का पत्रक बांटते घूम रहे थे तथा इस प्रचार कार्य के लिए उन्होंने भरपूर समय निकाला था। परंतु जब पूरी दिल्ली हिंसा की आग में जल रही थी तब यही गृहमंत्री कहीं दिखाई नहीं दिए और इस पर विपक्ष संसद के अधिवेशन में हंगामा कर सकता है। विपक्ष ने दिल्ली में दंगों का सवाल उठाया ही तो उन सभी को देशद्रोही ठहराया जाएगा क्या? ये सवाल है। दिल्ली दंगों के संदर्भ में एक याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है। दिल्ली की कानून-व्यवस्था स्पष्ट रूप से धराशायी हो गई है। 1949 के दंगों की तरह भयंकर हालात निर्माण न हों, ऐसी टिप्पणी न्यायाधीश मुरलीधर ने की। न्यायाधीश मुरलीधर ने जनता के मन के आक्रोश को एक आवाज दे दी। ‘सभी आम नागरिकों को ‘जेड सुरक्षा’ देने का वक्त आ गया है।’ ऐसी टिप्पणी न्यायाधीश मुरलीधर ने की और अगले 24 घंटों में न्यायाधीश मुरलीधर के तबादले का आदेश राष्ट्रपति भवन से निकल गया। केंद्र व राज्य सरकार की न्यायालय ने आलोचना की थी इसी का ये परिणाम है। सरकार ने न्यायालय द्वारा व्यक्त किए गए ‘सत्य’ को मार दिया। न्यायालय को भी सत्य बोलने की सजा मिलने लगी है क्या? न्यायमूर्ति मुरलीधर ने गलत क्या कहा? उन्होंने सत्य कहा इतना ही न। 

READ:  Captain Amrinder Singh Left Congress: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस को कहा अलविदा

देश की राजधानी ही सुरक्षित नहीं होगी तो फिर क्या सुरक्षित है?

देश का विपक्ष बेबस है अन्यथा दिल्ली में 37 लोगों की हत्या के लिए सरकार की गर्दन पर बैठकर सवाल पूछा गया होता कि 37 लोगों की बलि चढ़ी या उन्हें बलि चढ़ाने दिया गया वो भी राष्ट्रपति ट्रंप की मौजूदगी में। ये उलझन ही है। शाहीन बाग का मामला भी सरकार खत्म नहीं कर सकी। वहां सर्वोच्च न्यायालय के मध्यस्थ नाकाम सिद्ध हुए। दिल्ली में कई जगहों पर आज भी तनाव और पत्थरबाजी जारी है। यदि देश की राजधानी ही सुरक्षित नहीं होगी तो फिर क्या सुरक्षित है, ऐसा सवाल उठता है। 1949 के दंगों की स्थिति इससे अलग नहीं थी।

यह सभी बातें शिवसेना के मुखपत्र सामना के ज़रिए शिवसेना नें कही हैं।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।