Home » HOME » सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज काट्जू ने क्यों बताया शरजील इमाम को बेगुनाह ? देखें

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज काट्जू ने क्यों बताया शरजील इमाम को बेगुनाह ? देखें

Sharing is Important

सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने अलीगढ़ में असम के संबंध में कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के मामले में जेएनयू छात्र शरजील इमाम के खिलाफ पुलिस के आरोपों की निंदा की है।

जस्टिस काटजू ने अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के एक मामले, ब्रांडेनबर्ग बनाम ओहियो 395 यूएस 444 (1969) का हवाला देते हुए अपने फेसबुक प्रोफाइल पर लिखा है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की संवैधानिक गारंटी को राज्य नहीं रोक सकता है सिवाए कानून के उल्लंघन को छोड़कर, जहां अराजक कार्रवाई को उकसाने या उत्पन्न करने के लिए निर्देशित की जाती हो या ऐसी कार्रवाई को उकसाने या उत्पन्न करने की संभावना है।

गुजरात दंगा : सरदारपुरा में 33 लोगों को ज़िंदा जलाने के मामले में दोषी क़रार 14 लोगों को मिली ज़मानत

शरजील के खिलाफ देश के पांच राज्यों – दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मणिपुर, असम और अरुणाचल प्रदेश में देशद्रोह के मामले दर्ज किए गए हैं।  गुवाहाटी अपराध शाखा पुलिस स्टेशन में आईपीसी के तहत अन्य आरोपों के साथ उन पर यूएपीए के 13(1) /18 के तहत आरोप लगाए गए हैं।

READ:  26/11 Mumbai Attack: top officials pay tribute to martyrs

पीएम मोदी- भारत अहिंसा की भूमि है, यहाँ हिंसा की कोई जगह नहीं.. अनुराग ठाकुर- गोली मारो…को

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के स्कॉलर शरजील इमाम को गिरफ्तार कर लिया गया है। बिहार के जहानाबाद से शरजील को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच और बिहार पुलिस ने मंगलवार दोपहर गिरफ्तार किया। इससे पहले सोमवार रात को उसके भाई और दोस्त को पुलिस ने हिरासत में लिया था। शरजील को दिल्ली, बिहार, असम, अरुणाचल, मणिपुर और उत्तर प्रदेश पुलिस तलाश रही थी।

जस्टिस काटजू ने कहा, “मेरी राय है कि शरजील इमाम ने कोई अपराध नहीं किया है और उनके खिलाफ एफआईआर को संविधान के अनुच्छेद 226 या धारा 482 Cr.P.C. के तहत उच्च न्यायालय द्वारा खारिज कर दिया जाना चाहिए।”

जस्टिस काटजू के अलावा, शिक्षाविदों, पत्रकारों, न्यायाधीशों और कई अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी पुलिस के आरोपों के खिलाफ खुलकर सामने आए हैं। जेनी रोवेना (दिल्ली विश्वविद्यालय), रविचंद्रन बथरन (दलित कैमरा), के अशरफ़ (जोहान्सबर्ग विश्वविद्यालय), आदित्य मेनन (पत्रकार) सहित लगभग 500 लोगों के हस्ताक्षर वाले एक बयान में कहा गया है, “उनके भाषण की संघी मीडिया द्वारा गलत व्याख्या की गई है। भाजपा के प्रवक्ता झूठे प्रचार और धमकी के साथ शरजील इमाम को निशाना बना रहे हैं।”

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

बयान में कहा गया है, “हम संबंधित कार्यकर्ता, छात्र और शिक्षाविद, शरजील इमाम के साथ एकजुटता में खड़े हैं और उनके खिलाफ सभी मामलों को रद्द करने की मांग करते हैं। हम एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मीडिया और पुलिस के इस्लामोफोबिक व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।”