शाहीन बाग़ में गोली चलाने वाले युवक को दिल्ली पुलिस ‘आप’ का सदस्य साबित करने में क्यों जुटी है ?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली पुलिस ने मंगलवार  दावा किया कि पिछले सप्ताह दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर गोलियां चलाने वाला कपिल बैसला आम आदमी पार्टी (आप) का सदस्य है। जिसके बाद भाजपा और आप में वाकयुद्ध छिड़ गया। हालांकि बैसला के परिवारवालों ने इससे इनकार करते हुए कहा कि वे आप के सदस्य नहीं हैं।

आज़मगढ़ में CAA के विरोध में प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

पुलिस ने कहा था कि कपिल बैसला और उनके पिता 2019 के प्रारंभ में आप में शामिल हुए थे।पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) राजेश देव ने कहा कि उसके मोबाइल फोन को जब्त कर लिया गया है और पुलिस ने उसके और उनके पिता के आप में शामिल होने के व्हाट्सअप डाटा और तस्वीरें जुटायी हैं। भाजपा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर देश की सुरक्षा के साथ खेलने का आरोप लगाया जबकि आप ने उस पर पलटवार करते हुए कहा कि भगवा पार्टी गंदी राजनीति कर रही है।

READ:  SC कॉलेजियम की लगी मुहर तो सौरभ किरपाल होंगे देश के पहले समलैंगिक जज

चीन 10 दिन में कोरोना वायरस के लिए अस्पताल खड़ा कर देता है और हम मरीज़ों को पलंग तक नहीं उपलब्ध करवा पाते

पुलिस के इस दावे पर बैसला के चाचा फतेह सिंह का मीडिया से बात करते हुए कहा कि, ‘मुझे नहीं पता कि ये तस्वीरें कहां से फैलाई जा रही हैं। न तो मेरे भतीजे और न ही परिवार के किसी भी सदस्य का किसी राजनीतिक दल से संबंध नहीं है। मेरे भाई गजे सिंह (बैसला के पिता) ने साल 2008 में बसपा की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़े थे और हार गए थे। इसके बाद से हमारे परिवार के किसी भी सदस्य का राजनीतिक दलों से कोई लिंक नहीं है।’

READ:  Delhi Night Curfew: केवल इन कामों के लिए जा सकेंगे घर से बाहर

पाकिस्तान ना जाकर मुसलमानों ने कोई उपकार नहीं किया : योगी

आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि किसके इशारे पर दिल्ली पुलिस आम आदमी पार्टी पर आरोप लगा रही है। उन्होंने पूछा, ‘पुलिस द्वारा ये जानकारी (कि बैसला आप का सदस्य है) देने से पहले ही कैसे भाजपा दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी को इसके बारे में पता चल गया।’ आम आदमी पार्टी ने इसे लेकर पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) राजेश देव के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत करने को कहा है।

READ:  प्रशासन की तानाशाही और छात्रों का डीपी विरोध, कब खुलेगा IIMC?

क्या आत्मरक्षा की आढ़ में ‘सेलेक्टिव किलिंग’ कर रही यूपी पुलिस ?