किसानों को नोटिस

योगी सरकार किसानों के प्रति इतनी क्रूर कैसे हो सकती है ?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तर प्रदेश के संभल में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले किसानों को 50 लाख का नोटिस भेजा गया । किसानों को नोटिस एसडीएम की तरफ से जारी किया गया है। किसानों को अपनी आवाज़ उठाने की कोशिश करने पर प्रशासन की तरफ से लाखों रुपये के नोटिस भेजे जाने की ये घटना वाकई हैरान करने वाली है। इन किसानों पर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लोगों को उकसाने का आरोप लगाकर ये कार्रवाई की जा रही है।

अब सूचना है कि  50 लाख और 5 लाख रुपए के मुचलका भरने के नोटिस को रद्द कर दिया गया है। एसडीएम दीपेंद्र यादव ने इसकी जानकारी दी। इससे पहले प्रशासन ने नोटिस में लिखी राशि को टाइपिंग एरर (लिखने में गलती) मानते हुए राशि को 50 हजार किया था, लेकिन किसान नेताओं ने जमानत कराने से इनकार कर दिया।

READ:  लॉकडाउन के कारण 300 से अधिक मौतों की ज़िम्मेदार है मोदी सरकार ?

सरकार-अडानी की मिलीभगत, एक और बड़ा घोटाला !

सुप्रीम कोर्ट तक साफ कर चुका है कि किसानों को कानून के विरोध में प्रदर्शन करने, अपनी आवाज़ उठाने का अधिकार है। जब तक वे अहिंसक तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें अपने इस लोकतांत्रिक अधिकार के इस्तेमाल से रोका नहीं जा सकता।

मिलकर आवाज़ उठाना कोई अपराध नहीं

संभल में 50 लाख रुपये के ये नोटिस 6 किसान नेताओं को भेजे गए हैं, जिनमें से अधिकांश भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारी हैं।ऐसे ही 6 अन्य किसानों को 5-5 लाख के बॉन्ड के नोटिस जारी किए गए हैं। यह नोटिस 12 और 13 दिसंबर को सीआरपीसी की धारा 111 के तहत जारी किए गए हैं।

READ:  उत्तर प्रदेश : भाजपा कार्यालय के सामने महिला ने खुद को लगाई आग, हालत गंभीर..

लेकिन किसान नेताओं का कहना है कि आखिर उन्हें किसी भी रकम का नोटिस भेजा ही क्यों जाएगा? क्या अपने साथी किसानों से मिलना-जुलना और अपने हितों के लिए मिलकर आवाज़ उठाना कोई अपराध है?

MSP का झुनझुना और डीज़ल की आड़ में बड़ा धोखा !

किसान नेताओं का कहना है कि वे सरकार और प्रशासन की इन दमनकारी कोशिशों के आगे झुकने की बजाय जेल जाना पसंद करेंगे। किसान नेताओं का सवाल है कि प्रशासन आखिर किसानों के प्रदर्शन से इतना डर क्यों रहा है? क्या हम आतंकवादी हैं? उन्हें अच्छी तरह पता है कि 50 लाख रुपये की मोटी रकम हमारे पास नहीं है।

READ:  'जनता को इतना निचोड़ दो की जिंदा रहने को ही विकास समझे'

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।